कोरोना से पहले किन 4 मौकों पर रानी एलिजाबेथ ने ब्रिटेन को किया था संबोधित

कोरोना से पहले किन 4 मौकों पर रानी एलिजाबेथ ने ब्रिटेन को किया था संबोधित
68 साल के शासन के दौरान महारानी का ये पांचवा भाषण है

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ (Queen Elizabeth) ने कोरोना वायरस (coronavirus) के बढ़ते खतरे के बीच देश को संबोधित किया. 68 साल के शासन के दौरान महारानी का ये पांचवा भाषण है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
यूके में कोरोना पॉजिटिव (corona positive) मरीजों की संख्या 51000 पार कर चुकी है. यहां तक कि ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) भी कोरोना के शिकार होकर ICU में हैं. इसी बीच ब्रिटिश शाही परिवार की 93 साल की महारानी ने ब्रितानी जनता को संबोधित किया. 4 मिनट के अपने भाषण में उन्होंने उम्मीद जताई कि दुनिया साथ मिलकर जल्दी ही इस उथल-पुथल के समय से बाहर निकल सकेगी. विंडसर प्लेस में रिकॉर्ड हुए इस भाषण को सिर्फ एक कैमरापर्सन ने रिकॉर्ड किया, जो बॉडी सूट, मास्क, ग्लव्स और चश्मा पहने हुए था. दूसरे तकनीकी कर्मी भी वहां मौजूद थे लेकिन काफी दूरी पर खड़े थे.

ये महारानी का पांचवा भाषण है. इससे पहले वे हर साल सिर्फ क्रिसमस डे मैसेज देती आई थीं. खासकर राजनैतिक या किसी भी अस्थिरता के वक्त शाही परिवार ने जनता के नाम संदेश कभी नहीं दिया था. जानते हैं, इससे पहले 4 बार किन-किन मौकों पर महारानी एलिजाबेथ ने जनता से बात की थी.

इससे पहले महारानी एलिजाबेथ हर साल सिर्फ क्रिसमस डे मैसेज देती आई थीं




फरवरी 1991 में पहले गल्फ युद्ध के दौरान



महारानी ने 24 फरवरी 1991 को इराक में युद्ध की शुरुआत में एक बयान दिया था. उन्होंने इस दौरान अपनी सेना की ताकत पर भरोसा दिखाते हुए उम्मीद जताई थी कि देश सफल होगा. इस भाषण के दौरान महारानी ने अपने पिता King George VI के तरीके को अपनाया था, जिन्होंने दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान वायरलेस का इस्तेमाल किया था ताकि प्रजा और पूरी दुनिया भाषण सुन सके. अपने इस भाषण के दौरान क्वीन ने एक बहुत बड़ी बात कही थी कि हो सकता है लड़ाई लड़ाई के मैदान तक सीमित न रहे.

सितंबर 1997 में वेल्स की राजकुमारी डायना की मौत पर
प्रिंसेज ऑफ वेल्स डायना की कार दुर्घटना में मौत के बाद भी क्वीन ने राष्ट्र के नाम संदेश दिया. लेकिन यहां एक फर्क था. इसके अलावा हर मौके पर महारानी की स्पीच पहले से रिकॉर्ड की हुई रही, जबकि इस बार महारानी के भाषण का लाइव प्रसारण हुआ. महारानी बकिंघम पैलेस की बालकनी पर खड़ी थीं और जनता को संबोधित कर रही थीं. सामने हजारों लोग थे, जो प्रिंसेज डायना की मौत पर शोक जताने आए थे और पूरा पैलेस फूलों से ढंक गया था. इस भाषण में महारानी ने पहली बार निजी शोक को खुलकर जताया था.

हजारों लोग थे, जो प्रिंसेज डायना की मौत पर शोक जताने आए थे


अप्रैल 2002 में अपनी मां की मौत पर
18 साल पहले साल 2002 में अपनी मां के अंतिम संस्कार की शाम ही महारानी एलिजाबेथ ने जनता को संबोधित किया. 101 साल की उम्र में उनकी मां का निधन हुआ था. भाषण में महारानी एलिजाबेथ ने कहा कि लोगों का अपनी मां क्वीन एलिजाबेथ प्रथम के लिए प्यार देखकर वे बहुत प्रभावित हैं. अंतिम संस्कार का ये मौका सिर्फ अपनी मां को शुक्रिया कहने का मौका नहीं, बल्कि जनता को भी उनसे प्यार के लिए शुक्रिया कहने का मौका है. महारानी ने इसे देश और राष्ट्रमंडल के लिए एक सदी बताते हुए कहा कि ये वक्त परीक्षाओं और तकलीफों के साथ-साथ, हिम्मत और सेवा और खुशियों से भरा हुआ रहा.

जून 2012 में क्वीन का डायमंड जुबली संदेश
ये पूरे ब्रिटेन के लिए त्योहार का मौका था. इस दौरान क्वीन ने जो भाषण दिया, वो पूरी दुनिया में प्रसारित हुआ था. रानी ने कहा था कि लोग उनके सिंहासन पर बैठने की 60वीं सालगिरह इतने धूमधाम से मना रहे हैं, ये देखकर वे बेहद खुश हैं. महारानी एलिजाबेथ शाही परिवार की दूसरी शख्स रहीं, जिसे डायमंड जुबली मनाने का मौका मिला. इस मौके पर साढ़े 4 लाख Diamond Jubilee मैडल बने और पूरे ब्रिटेन में सेना और पुलिस में अच्छा काम कर रहे अधिकारियों को दिए गए थे.

यह भी पढ़ें:

जानें इजरायल क्यों बनाएगा ऐसे मास्क, जिसमें छिप जाए लंबी दाढ़ी

Coronavirus: इन दिनों दुनियाभर के सबसे बड़े धार्मिक स्थलों के क्या हालात हैं

आखिर कैसे ट्रंप प्रशासन ने गंवाया कोरोना की तैयारी में जरूरी समय

दस्ताने पहनने के बावजूद कैसे तेज़ी से फैल सकते हैं जर्म्स?
First published: April 7, 2020, 2:33 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading