ये मोटे अनाज क्यों हैं आपकी जिंदगी के लिए सुपरफूड

मोटा अनाज (Coarse Grains) पौष्टिकता से भरपूर होता है. हमारे यहां ज्वार, बाजरा और रागी जैसे मोटे अनाज खाने की परंपरा थी. लेकिन धीरे-धीरे वो खत्म हो गई...

News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 11:53 AM IST
ये मोटे अनाज क्यों हैं आपकी जिंदगी के लिए सुपरफूड
मोटा अनाज चावल गेहूं की तुलना में ज्यादा पौष्टिक होता है
News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 11:53 AM IST
ज्यादा नहीं, आज से सिर्फ 50 साल पहले हमारे खाने की परंपरा (Food Culture) बिल्कुल अलग थी. हम मोटा अनाज (Coarse Grains) खाने वाले लोग थे. मोटा अनाज मतलब- ज्वार, बाजरा, रागी (मडुआ), सवां, कोदों और इसी तरह के मोटे अनाज. 60 के दशक में आई हरित क्रांति के दौरान हमने गेहूं और चावल को अपनी थाली में सजा लिया और मोटे अनाज को खुद से दूर कर दिया. जिस अनाज को हम साढ़े छह हजार साल से खा रहे थे, उससे हमने मुंह मोड़ लिया और आज पूरी दुनिया उसी मोटे अनाज की तरफ वापस लौट रही है.

पिछले दिनों आयुष मंत्रालय के एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने भी मोटे अनाज की खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने पर बल दिया. पीएम मोदी बोले, ‘आज हम देखते हैं कि जिस भोजन को हमने छोड़ दिया, उसको दुनिया ने अपनाना शुरू कर दिया. जौ, ज्वार, रागी, कोदो, सामा, बाजरा, सांवा, ऐसे अनेक अनाज कभी हमारे खान-पान का हिस्सा हुआ करते थे. लेकिन ये हमारी थालियों से गायब हो गए. अब इस पोषक आहार की पूरी दुनिया में डिमांड है.’

पीएम मोदी के इस बयान के बाद देश में एक बार फिर से मोटे अनाज की चर्चा शुरू हो गई है.

क्या होता है मोटा अनाज?

भारत में 60 के दशक के पहले तक मोटे अनाज की खेती की परंपरा था. कहा जाता है कि हमारे पूर्वज हजारों वर्षों से मोटे अनाज का उत्पादन कर रहे हैं. भारतीय हिंदू परंपरा में यजुर्वेद में मोटे अनाज का जिक्र मिलता है. 50 साल पहले तक मध्य और दक्षिण भारत के साथ पहाड़ी इलाकों में मोटे अनाज की खूब पैदावार होती थी. एक अनुमान के मुताबिक देश में कुल खाद्यान्न उत्पादन में मोटे अनाज की हिस्सेदारी 40 फीसदी थी.

मोटे अनाज के तौर पर ज्वार, बाजरा, रागी (मडुआ), जौ, कोदो, सामा, बाजरा, सांवा, लघु धान्य या कुटकी, कांगनी और चीना जैसे अनाज शामिल हैं.

caorse grains or millets why mota anaj is so important why modi talk about jowar bajra ragi cultivation
मोटा अनाज

Loading...

क्यों कहते हैं इसे मोटा अनाज

मोटा अनाज इसलिए कहा जाता है क्योंकि इनके उत्पादन में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ती. ये अनाज कम पानी और कम उपजाऊ भूमि में भी उग जाते हैं. धान और गेहूं की तुलना में मोटे अनाज के उत्पादन में पानी की खपत बहुत कम होती है. इसकी खेती में यूरिया और दूसरे रसायनों की जरूरत भी नहीं पड़ती. इसलिए ये पर्यावरण के लिए भी बेहतर है.

ज्वार, बाजरा और रागी की खेती में धान के मुकाबले 30 फीसदी कम पानी की जरूरत होती है. एक किलो धान के उत्पादन में करीब 4 हजार लीटर पानी की खपत होती है, जबकि मोटे अनाजों के उत्पादन नाममात्र के पानी की खपत होती है. मोटे अनाज खराब मिट्टी में भी उग जाते हैं. ये अनाज जल्दी खराब भी नहीं होते. 10 से 12 साल बाद भी ये खाने लायक होते हैं. मोटे बारिश जलवायु परिवर्तन को भी सह जाती हैं. ये ज्यादा या कम बारिश से प्रभावित नहीं होती.

caorse grains or millets why mota anaj is so important why modi talk about jowar bajra ragi cultivation
बाजरा में प्रोटीन प्रचूर मात्रा में पाया जाता है


सेहत के लिए कितना फायदेमंद है मोटा अनाज

ज्वार, बाजरा और रागी जैसे मोटे अनाज में पौष्टिकता की भरमार होती है. रागी भारतीय मूल का उच्च पोषण वाला मोटा अनाज है. इसमें कैल्शियम की भरपूर मात्रा होती है. प्रति 100 ग्राम रागी में 344 मिलीग्राम कैल्शियम होता है.

रागी को डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है. उसी तरह से बाजरा में प्रोटीन की प्रचूर मात्रा होती है. प्रति 100 ग्राम बाजरे में 11.6 ग्राम प्रोटीन, 67.5 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 8 मिलीग्राम लौह तत्व और 132 मिलीग्राम कैरोटीन होता है. कैरोटीन हमारी आंखों को सुरक्षा प्रदान करता है.

ज्वार दुनिया में उगाया जाने वाला 5वां महत्वपूर्ण अनाज है. ये आधे अरब लोगों का मुख्य आहार है. आज ज्वार का ज्यादातर उपयोग शराब उद्योग, डबलरोटी के उत्पादन के लिए हो रहा है. बेबी फूड बनाने में भी ज्वार का इस्तेमाल होता है. बढ़ती आबादी के लिए खाद्यान्न की जरूरतों को पूरा करने में ज्वार अहम भूमिका निभा सकता है.

caorse grains or millets why mota anaj is so important why modi talk about jowar bajra ragi cultivation
मोटा अनाज की खेती पर सरकार दे रही है जोर


सरकार मोटे अनाज की खेती पर दे रही है जोर

केंद्र सरकार मोटे अनाज की खेती पर जोर दे रही है क्योंकि बढ़ती आबादी के लिए पोषणयुक्त भोजन उपलब्ध करवाने में यही अनाज सक्षम हो सकते हैं. मोटे अनाज पोषण का सबसे बेहतरीन जरिया हैं. सरकार इसके पोषक गुणों को देखते हुए इसे मिड डे मील स्कीम और सार्वजनिक वितरण प्रणाली में भी शामिल करने की सोच रही है.

केंद्र सरकार ने मोटा अनाज की खेती के लिए प्रेरित करने के लिए साल 2018 को मोटा अनाज वर्ष के रूप में मनाया था. उस वक्त कृषि मंत्री रहे राधामोहन सिंह ने संयुक्त राष्ट्र संघ खाद्य एवं कृषि संगठन को पत्र लिखकर 2019 को मोटा अनाज वर्ष के रूप में मनाने की अपील की थी.

छत्तीसगढ़ और ओडिशा के कुछ इलाकों में मोटा अनाज की खेती बढ़ी है. दक्षिण भारत में भी मोटा अनाज का चलन बढ़ा है. आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और ओडिशा में रोज के खान-पान में मोटा अनाज को शामिल किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: JNU में रोमिला थापर से सीवी मांगने पर इसलिए मचा है इतना बवाल

बर्बादी के आंकड़े: प्लेट में खाना छोड़ने से पहले ये जरूर जान लें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 11:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...