Home /News /knowledge /

CDS Bipin Rawat accident: क्या हैं VIP के लिए प्लेन और चॉपर के सुरक्षा नियम

CDS Bipin Rawat accident: क्या हैं VIP के लिए प्लेन और चॉपर के सुरक्षा नियम

देश के पहले सीडीएस होने के नाते जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) के लिए भी वीआईपी दर्जे के सुरक्षा नियम लागू थे. (फाइल फोटो)

देश के पहले सीडीएस होने के नाते जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) के लिए भी वीआईपी दर्जे के सुरक्षा नियम लागू थे. (फाइल फोटो)

CDS Genral Bipin Rawat की हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत से एक बार फिर VIP के लिए विमानों और चॉपर के नियमों की समीक्षा करने की जरूरत को रेखांकित किया है. इस तरह की यात्राओं के लिए डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) दिशानिर्देश जारी करता है. इस सुरक्षा नियमों का कड़ाई से पालन किया जाता है. समय समय पर और साथ ही जरूरत पड़ने पर इन नियमों की समीक्षा भी की जाती है.

अधिक पढ़ें ...

    देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल विपिन रावत (Genral Vipin Rawat) की मौत से देश सदमे में है. उनकी मौत बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर के पास हेलीकॉप्टर दुर्घटना में हुई  जिसमें उनकी पत्नी के साथ 11 अन्य लोगों की भी मृत्यु हो गई. वायुसेना ने एमआई-17 वीएच हेलीकॉप्टर के इस हादसे की जांच आदेश दे दिए हैं. इस हादसे के कारणों के बारे में अभी कुछ भी नहीं कहा गया है, लेकिन अतिविशिष्ठ (VIP) लोगों के लिए देश में विमान और चॉपर आदि के लिए नियमों की समीक्षा करने की जरूरत को जानना भी जरूरी हो गया है.

    कौन सा हेलीकॉप्टर
    ये हेलीकाप्टर MI 17 सीरीज का रूसी चॉपर है, जिसका इस्तेमाल ट्रांसपोर्ट हेलीकॉप्टर के तौर पर होता है. इस हेलीकॉप्टर का उपयोग दुनियाभऱ में ट्रांसपोर्ट से लेकर सैन्य अभियानों के लिए किया जाता है. ये काफी वजन लेकर उड़ान भरने में सक्षम है और इसमें 36 लोग एक साथ बैठकर यात्रा कर सकते हैं.

    कौन बनाता है ये नियम
    भारत में वीआईपी लोगों की यात्रा के लिए उपयोग में लाए जाने वाले विमानों और चॉपर्स की सुरक्षा के लिए नियमों का निर्धारण डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) निर्धारण करता है. डीजीसीए के दिशानिर्देशों के आधार पर ही राज्य और केंद्र सरकारों एवं अन्य संसस्थानों द्वारा वीआईपी की यात्राओं के लिए उपयोग में लाए जाने वाले विमानों और हेलीकॉप्टरों के लिए उच्च सुरक्षा  मानदंडों का पालन किया जाता है.

    हर तरह के नियमों में संचालन क्षमता
    इन दिशानिर्देशों या गाइडलाइंस के मुताबिक विमान या चॉपर हमेशा अच्छी संचालन क्षमता, विश्वस्नीयता और सरल रखरखाव वाली विशेषताओं से युक्त होना चाहिए जिसे समय समय पर जारी किए गए एयरक्राफ्ट नियमों और निर्देशों अनुसार संचालन के अनुकूल बने रहना चाहिए.

    India, General Bipin Rawat, CDS Bipin Rawat, Bipin Rawat, DGCA, Helicopter, Safety Measures, Research,

    भारत में वीआईपी के लिए उपयोग में लाए जाने वाले विमानों और हेलीकॉप्टरों (Helicopters) के लिए अलग सुरक्षा नियम हैं. (फाइल फोटो)

    अनुभवी इंजीनियर और चालक दल
    वीआईपी उड़ानों का संचालन प्रशिक्षित और अनुभवी चालक दल द्वारा ही किया जाना आवश्यक है. वीआईपी विमानों और चॉपर्स के लिए चालक दल और इंजीनियरों के लिए एक अलग से प्रशिक्षण कार्यक्रम निर्धारित होता है. हर उड़ान से पहले पूरी तरह विमान या हेलीकॉप्टर की निर्धारित जांच की जानी चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विमान या हेलीकॉप्टर पूरी तरह से उड़ान और संचालन के लायक है या नहीं है

    असाधारण सूझबूझ और नेतृत्व के लिए जाने जाते थे CDS रावत, पीढ़ियों से परिवार सेना से जुड़ा हुआ

    मौसम अनुकूल होना बहुत जरूरी
    सुरक्षा नियमों के मुताबिक जब भी मौसम के हालात विमान या हेलीकॉप्टर के लिए संचालन के लिहाज से सुरक्षित ना हों तो किसी भी स्थिति में उड़ान की इजाजत नहीं होनी चाहिए. हर वीआईपी उड़ान का संचालन ‘बहुल चालक दल’ के द्वारा संचालित किया जाना चाहिए. जनरल बिपिन रावत के मामले में फिलहाल यही माना जा रहा है कि इस नियम की अनदेखी नहीं हुई थी.

    General Bipin Rawat, CDS Bipin Rawat, Bipin Rawat, DGCA, Helicopter, Safety Measures, Research,

    वीआईपी हेलीकॉप्टरों (helicopters) का संचालन विशेष रूप से प्रशिक्षित और अनुभवी पायलट और इंजीनियर करते हैं. (तस्वीर: Wikimedia Commons)

    पायलट के लिए जरूरी निर्देश
    नियमों के मुताबिक हर उड़ान के शुरू होने से पहले पायलट को मौसम संबंधी जानकारी से खुद को अवगत कराना जरूरी होता है. यदि उड़ान बाढ़ के इलाकों के ऊपर से जाने वाली हो, तो पायलट के लिए निर्देश होता है कि वह सुनिश्चित करे कि विमान या चॉपर में सवार हर व्यक्ति के लिए पर्याप्त बचाव किट मौजूद हो. इसके अलावा हर उड़ान से पहले हर यात्री को आपात स्थिति में बचाव किट का उपयोग करना तरीका पता होना चाहिए.

     Indian Navy Day 2021: भारतीय नौसेना की अहमियत का अहसास कराता है यह दिवस

    अगर किसी उड़ान से पहले की गई जांच में किसी तरह की कमी या गड़बड़ी पाई जाती है तो ऐसे हालात में क्या करना चाहिए और कब उड़ान भरी जा सकती है इसके लिए भी अलग से निर्देश हैं. ऐसी स्थिति में कमी या गड़बड़ी की पूरी जानकारी पायलट इन कमांड को दी जानी चाहिए और उसे दुरुस्त करने के बाद उसकी पुष्टि की जानी चाहिए और पर्याप्त रूप से सर्टिफाइड होने के बाद ही उड़ान की इजाजत दी जानी चाहिए.

    Tags: CDS General Bipin Rawat, General Bipin Rawat, India

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर