पादरी की पढ़ाई बीच में छोड़ गणित और कम्प्यूटर विशेषज्ञ बने थे चार्ल्स गोश्की

चार्ल्स गेश्की (Charles Geshke) 18 साल तक एडोब के प्रेसिडेंट रहे थे. (तस्वीर: Wikimedia Commons)

चार्ल्स गेश्की (Charles Geshke) 18 साल तक एडोब के प्रेसिडेंट रहे थे. (तस्वीर: Wikimedia Commons)

एडोब (Adobe) के सह संस्थापक चार्स गेश्की (Charles Geshke) का जीवन एक सफल व्यवसायी, कम्प्यूटर एवं गणित विशेषज्ञ के रूप में बीता था जिन्हें पीडीएफ (PDF) के विकास से ख्याति मिली थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 5:35 PM IST
  • Share this:
दुनिया को पीडीएफ तकनीक (PDF Technology) देने वाले अडोब के सह संस्थापक चार्ल्स गेश्की (Charles Geschke) का 81 साल की उम्र में निधन हो गया है. गेश्की का एडोब सिस्टम (Adobe Systems) के कई उत्पादों के विकास में अहम योगदान था, लेकिन उन्हें सबसे ज्यादा ख्याति पोर्टेबल डॉक्यूमेंट फाइल यानी पीडिएफ को बनाने पर मिली थी. एक सफल बिजनेसमैन के रूप में जाने वाले गेश्की ने दुनिया के बड़ी-बड़ी कंपनियों के सामने एक अरबों डॉलर की सॉफ्टवेयर कंपनी एडोब को खड़ा किया था.

लंबे समय तक एडोब से जुड़ाव

डॉ चार्ल्स एम गेश्की ने 1982 में जॉन वार्नोक के साथ मिलकर 1982 में एडोब सिस्टम की स्थापना की और साल 2000 तक उसके अध्यक्ष रहे. चक के उपनाम से लोकप्रिय गेश्की ने वार्नोक के साथ मिलकर अरबों डॉलर का सॉफ्टवेयर व्यापार खड़ा किया जिसमें एडोब एक्रोबैट, फोटोशॉपऔर पेजमेकर शामिल थे. गणित और कम्प्यूटर विशेषज्ञ होने बावजूद वे एक सफल बिजनेसमैन के तौर पर पहचाने जाते थे.

पादरी की शिक्षा बीच में छोड़ी
चक गेश्की क्लीवलैंड ओहियो में कैथोलिक स्कूल में पढ़े थे. एक फोटो नक्काश के बेटे चक ने तीन साल तक जेसूच सिमिनेरी में एक पादरी की शिक्षा ग्रहण की. उन्होंने बीच में पादरी बनने की इच्छा का त्याग किया और जेवियरयूनिवर्सिटी में गणित में मास्टर्स की डिग्री हासिल की. इसके बाद उन्होंने कारनेगी मिलोन यूनिवर्सिटी से कम्प्यूटर साइंस में पीएचडी की डिग्री हासिल की.

कई संस्थानों से सम्मानित थे गेश्की

गेश्की ने बहुत से संस्थानों से सम्मान हासिल किए जिनमें एसोसिएशन फॉर कम्प्यूटिंग मशीनरी, कारनेगी मिलोन यूनिवर्सिटी, नेशनल ग्राफिक्स एसोसिएशन, रोटेस्टर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी शामिल हैं. वे नेशनल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग जैसी संस्थाओं के सदस्य थे. इसके साथ ही वे कई यूनिवर्सिटी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल भी थे.



Charles geschke, Adobe, PDF, PDF inventor, Adobe co-founder, Computer, Software developer,
एडोब (Adobe) कंपनी को सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंचाने में चार्ल्स गेश्की की अहम भूमिका थी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)


चार दिन के लिए अपहरणकर्ताओं के कब्जे में

गेश्की ने अपनी पत्नी नैन से 1964 में विवाह किया था. दोनों अपने तीन बच्चों के साथ लॉस एल्टोस कैलिफोर्निया में रहते थे. मई 1992 को गेस्की का एडोब के कॉर्पोरेट हेडक्वार्टर्स के पार्किंग लॉट से  गनप्वाइंट पर अपहरण कर लिया गया था. उन्हें आंख पर पट्टी बांद कर कैलिफोर्निया के होलिस्टर के एक घर में चार दिन तक रखा गया. पांचवे दिन अपहारणकर्ताओं से गेश्की को छुड़ा कर गिरफ्तार कर लिया गया.

लैब में बने षटकोणीय हीरे निकले ज्यादा कठोर, बहुत उपयोगी साबित होंगे भविष्य में

ऐसे बनाई एडोब कंपनी

गेश्की के करियर की शुरुआत जेरॉक्स के पालो एल्टो रिसर्च सेंटरकी कम्प्यूटर साइंस लैबोरेटरी में एक वैज्ञानिक और शोधकर्ता के तौर पर हुई. 1980 में वे जेरॉक्स के इमेजिंग साइंस लैबोरेटरी के मैनेजर बन गए थे. 1982 में जॉन वार्नोक के साथ वे जुड़े और दोनों ने जल्दी ही खुद का काम शुरू करने का फैसला लिया और जेरॉक्स छोड़ कर एडोब कंपनी स्थापित की.

Charles geschke, Adobe, PDF, PDF inventor, Adobe co-founder, Computer, Software developer
एडोब (Adobe) कंपनी के उत्पादों ने बुहत लोकप्रियता अर्जित की जो आज भी कायम है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)


तेजी से छुआ सफलता का शिखर

एडोब कंपनी बनने के दो साल के अंदर ही कंपनी का रेवेन्यू 17 लाख डॉलर हो गया. जल्दी से सफलता मिलने के बाद एडोब का तेजी से विस्तार हुआ. 1986 में एडोब पब्लिक कंपनी हो गई. 1993 में एडोब एक्रोबैट लॉन्च किया गया जिसने भारी सफलता अर्जित की. इसके बाद फोटोशॉप और पेजमेकर भी आने के बाद लोकप्रिय हो गए.

हवा से सीसे की गैस को अवेशोषित कर मिट्टी में मिला देते हैं पौधे- शोध

2000 में रिटायर होने के बाद 2001 में उनके साथी जॉन वार्नोक भी एडोब कंपनी के सीईओ के पद से रिटायर हो गए.  लेकिन दोनों ही इसके बाद भी बोर्ड ऑफ डायरेक्टर में शामिल रहे. दोनों के सक्रिय रूप से हटने के बाद भी एडोब बिलियन डॉलर कंपनी बनी रही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज