Home /News /knowledge /

कौन हैं ऑस्ट्रेलिया की चेंग ली, जो महीनों से चीन की गिरफ्त में हैं?

कौन हैं ऑस्ट्रेलिया की चेंग ली, जो महीनों से चीन की गिरफ्त में हैं?

चीनी मूल की ऑस्ट्रेलियाई चेंग ली.

चीनी मूल की ऑस्ट्रेलियाई चेंग ली.

जैक मा (Jack Ma) जैसे मशहूर और अमीर उद्यमी अगर चीन में अचानक गायब हो सकते हैं, तो एक टीवी सेलिब्रिटी (TV Celebrity) की हैसियत क्या है? लेकिन चेंग ली क्या चीन और ऑस्ट्रेलिया (China vs Australia) के बीच जारी आपसी खिंचाव में मोहरा बन गईं?

अधिक पढ़ें ...

    चेंग ली पर चीनी अधिकारियों (Chinese Officials) ने हाल में यह आरोप लगाया है कि वो चीन की सीक्रेट सूचनाएं (Secret Information) विदेशों तक पहुंचा रही थीं. हालांकि ली को पिछले कई महीनों से एक तरह से चीन ने कैद में रखा हुआ है और अब जाकर आरोपों का खुलासा हुआ है. कई महीनों की इस प्रताड़ना के बाद अब कहा जा रहा है कि उन्हें बीते शुक्रवार को ही गिरफ्तार (Arrest After Detention) किया गया, जबकि ऑस्ट्रेलिया पिछले कई महीनों से चीन के आला अफसरों के साथ ली के बारे में बातचीत कर रहा है.

    चेंग ली अस्ल में एक पत्रकार हैं, जो चीन के सेंट्रल टेलिविज़न के अंग्रेज़ी चैनल CGTN के साथ जुड़ी रही हैं. ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार के तौर पर काम करने वाली ली का जन्म चीन में ही हुआ था, लेकिन वो लंबे समय तक चीन से बाहर रहीं. पिछले साल अगस्त में ली को चीन ने अपनी हिरासत में ले​ लिया था. अब चीन ने कहा है कि ली के खिलाफ आधिकारिक तौर पर आपराधिक जांच होगी.

    ये भी पढ़ें:- आत्मनिर्भर भारत की तरफ.. जानिए अब राफेल में क्या होगा स्वदेशी फैक्टर

    कौन हैं चेंग ली?
    चेंग ली की पैदाइश तो चीन की ही है लेकिन वो नौ साल की उम्र में ही ऑस्ट्रेलिया चली गई थीं. सिंगल मदर ली के दो बच्चों समेत उनके परिवार के ज़्यादातर सदस्य ऑस्ट्रेलिया में ही रहते हैं. बिज़नेसवूमन रहीं ली ने कुछ समय पहले ही पत्रकारिता का पेशा चुना और फिर वह चीन शिफ्ट हो गई थीं. सीजीटीएन में बिज़नेस एंकर के तौर पर काम करने वाली ली पिछले कुछ सालों से चीन में ही हैं.

    china foreign policy, china trade policy, disappearance in china, human rights in china, चीन की विदेश नीति, चीन की व्यापार नीति, चीन में मानवाधिकार, चीन की रक्षा नीति

    पिछले दिनों चीनी उद्यमी जैक मा के गायब होने की सुर्खियां थीं.

    पिछले साल अगस्त में ली अचानक टीवी के पर्दे से गायब हो गईं. बड़ा रहस्य तब बन गया जब सीजीटीएन ने अपनी वेबसाइट से ली से जुड़ी प्रोफाइल जैसी तमाम सूचनाएं हटा दीं. यही नहीं, तब ली के साथ उनके परिजन और दोस्त तक संपर्क नहीं कर पा रहे थे और किसी को नहीं पता था कि ली कहां हैं.

    ली को क्यों लिया गया हिरासत में?
    अचानक गायब होने के घटनाक्रम के बाद चीन ने कहा था कि ली को राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामलों के चलते नज़रबंद किया गया और उन्हें एक अनजान लोकेशन पर ले जाया गया था. हालांकि तब न तो ली के खिलाफ आधिकारिक आरोप लगाए गए थे और न ही उन्हें वकील से बात करने दी गई थी.

    ये भी पढ़ें:- चीन की नई सिल्क रोड से किस तरह बदल रहे हैं एथेंस, कोलंबो और लंदन?

    ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कार्पोरशन की मानें तो ली को चीन में एक ऐसी कोठरी में कैद किया गया, जहां न तो कुदरती रोशनी थी, न हवा. उनसे बार-बार सख्त पूछताछ की गई. चिट्ठी लिखने और व्यायाम करने पर भी प्रतिबंध लगा दिए गए. चेंग के परिजनों के हवाले से रिपोर्टों में कहा गया है कि परिवार को यह पता नहीं है कि उन्हें क्यों नज़रबंद किया गया था और क्यों अब गिरफ्तार किया गया.

    क्या है इंसाफ की उम्मीद?
    परिवार की चिंताओं के बीच, ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मैरिस पैन ने ली को हिरासत में लिये जाने के मामले में कहा कि उनकी सरकार नियमित तौर पर चीन के वरिष्ठ अधिकारियों से ली के बारे में चिंता ज़ाहिर कर रही है और ली की सेहत व उनकी गिरफ्तारी से जुड़ी तमाम सूचनाएं ले रही है. वहीं, पैन ने यह भी कहा कि वो ली के खिलाफ चल रही चीन की कवायद में इंसाफ के मूलभूत पैमानों की उम्मीद कर रहे हैं.

    ये भी पढ़ें:- पहाड़ों पर एयरफोर्स के Mi-17 और ALH Dhruv हेलिकॉप्टर क्यों भेजे गए?

    पैन के मुताबिक अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रक्रियाओं में जो पारदर्शिता बरती जानी चाहिए, मानवीय बर्ताव होना चाहिए और इंसाफ को लेकर जो तौर तरीके ज़रूरी हैं, ली के मामले में चीन उसे अपनाए तो बेहतर होगा. आपको याद दिला दें कि गंभीर आरोप साबित होने पर चीन ली को उम्रकैद भी दे सकता है. दूसरी ओर, दोनों देशों के बीच एग्रीमेंट के तहत चीन ने ऑस्ट्रेलियाई प्रतिनिधियों को महीने में एक बार ली से मिल पाने की इजाज़त दी है.

    china foreign policy, china trade policy, disappearance in china, human rights in china, चीन की विदेश नीति, चीन की व्यापार नीति, चीन में मानवाधिकार, चीन की रक्षा नीति

    चीन व ऑस्ट्रेलिया के बीच संबंध लगातार बिगड़ने की खबरें हैं.

    खराब होते चीन व ऑस्ट्रेलिया के संबंध
    कोविड-19 की शुरूआत कहां से, कैसे हुई, इस बारे में जब ऑस्ट्रेलिया ने चीन के खिलाफ ग्लोबल जांच की सिफारिश की थी, तबसे ही दोनों देशों के बीच रिश्ते खराब होने शुरू हुए. दोनों देशों के बीच व्यापारिक संबंध खराब हो चुके हैं और चीन अपने क्षेत्र में ऑस्ट्रेलिया से रिश्ते रखने वाले लोगों, खासकर पत्रकारों को टारगेट कर रहा है. ली के खिलाफ एक्शन से पहले की कुछ घटनाएं अहम दिखाई देती हैं.

    ये भी पढ़ें:- क्यों जानलेवा हो सकती हैं हिमालय के ग्लेशियरों में बनती हुई झीलें?

    एबीसी की रिपोर्ट कहती है कि ली को हिरासत में लिये जाने से पहले ऑस्ट्रेलियाई इं​टेलिजेंस अफसरों ने सिडनी में चीन के स्टेट मीडिया के चार पत्रकारों के घरों पर रेड की थी. इसी दौरान ऑस्ट्रेलिया ने चीन में अपने नागरिकों को चेताया था कि चीन उन्हें अ​नधिकृत तौर पर हिरासत में ले सकता है, जिसे चीन ने मनगढ़ंत आरोप कहा था.

    ली को पकड़े जाने के बाद चीन में दो और ऑस्ट्रेलियाई पत्रकारों को निगरानी के दायरे में रखा गया है. दोनों के ही घरों पर चीनी अफसर पूछताछ के लिए आधी रात पहुंचते रहे. रिपोर्टें कह रही हैं कि चीनी मूल के ऑस्ट्रेलियाई जासूसी लेखक यांग हेंगजुन के खिलाफ आरोपों को लेकर भी ऑस्ट्रेलिया ने चीन की आलोचना की.

    Tags: Australia, China news in Hindi, China spy news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर