• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • खराब हैं चीन में महिला सैनिकों के हालात, मिलती है मेकअप और हेयर स्टाइल की ट्रेनिंग

खराब हैं चीन में महिला सैनिकों के हालात, मिलती है मेकअप और हेयर स्टाइल की ट्रेनिंग

 चीन में आज से दशकभर पहले ही 16 महिला अफसरों को फाइटर जेट उड़ाने की ट्रेनिंग मिल चुकी है (Photo- flickr)

चीन में आज से दशकभर पहले ही 16 महिला अफसरों को फाइटर जेट उड़ाने की ट्रेनिंग मिल चुकी है (Photo- flickr)

चीन की आर्मी में महिला सैनिकों की संख्या अच्छी-खासी है, लेकिन उन्हें लगातार अजीबोगरीब काम दिए (gender discrimination in Chinese army) जाते हैं. बहुत सी महिला सैनिकों को रिसेप्शनिस्ट का काम दे दिया गया. साथ ही उन्हें मेकअप करने या फिर लंबे बाल रखने को कहा जाता है.

  • Share this:
    यूक्रेन में महिला सैनिकों के हाई हील्स पहनकर परेड (Ukraine female soldiers made to march in high heels) करने को लेकर बवाल मचा है. विपक्ष का कहना है कि महिला सैनिकों को ताकतवर न दिखाकर, आकर्षक दिखाने के लिए हाई हील्स पहनाई गईं. बता दें कि यूक्रेन, सोवियत संघ से अपनी आजादी के 3 दशक पूरे होने पर जश्न की तैयारी कर रहा है, इसी दौरान सैनिकों के साथ ये लैंगिक भेदभाव दिखा. वैसे महिलाओं के साथ भेदभाव में यूक्रेन से कहीं आगे चीन की सेना (Chinese army) है. वहां पीपल्स लिबरेशन आर्मी (People's Liberation Army) में महिला भर्तियां तो हो रही हैं, लेकिन उन्हें बाल लंबे रखने और डांस सीखने को कहा जाता है.

    मिलते हैं सॉफ्ट स्किल वाले काम 
    फाइटर जेट उड़ाने वाली महिला अफसरों के बाद भी चीन की सेना में महिलाओं की हालत बहुत खराब है. बता दें कि चीन में आज से दशकभर पहले ही 16 महिला अफसरों को फाइटर जेट उड़ाने की ट्रेनिंग मिल चुकी है. इसके बावजूद वहां महिला सैनिकों को नीची नजर से देखा जाता है. यहां तक कि चीनी आर्मी में महिलाओं के यौन शोषण की खबरें भी आती रहती हैं. मजबूत होने के बाद भी उन्हें केवल हल्के-फुल्के काम के लायक समझा जाता है.

    gender discrimination in China army
    यूक्रेन में महिला सैनिकों के हाई हील्स पहनकर परेड करने को लेकर बवाल मचा है (Photo- news18 English via AP)


    पोस्ट होते हैं अजीबोगरीब वीडियो
    हर साल 1 अगस्त को अपने फाउंडिंग डे पर PLA महिला सैनिकों के भी वीडियो सोशल मीडिया से लेकर अखबारों और टीवी में दिखाता है. ये वीडियो महिलाओं की बहादुरी के बजाए के सॉफ्ट स्किल की बात करते हैं. जैसे वे कैसे फोन उठाती हैं या फिर मिलिट्री में होने के बाद भी कितना बढ़िया मेकअप करती हैं. यहां तक कि ढेरों ऐसे वीडियो डाले जाते हैं, जिनमें महिला सैनिक डांस करती नजर आएं. कोई भी वीडियो या खबर ऐसी नहीं डाली जाती, जिनमें मिलिट्री में महिलाओं का मुख्य काम नजर आ सके.

    ये भी पढ़ें: कनाडा में अचानक बेमौसम पड़ी हाहाकारी गर्मी का आखिर क्या है राज?

    सैनिकों को डांस की ट्रेनिंग
    साल 2009 में चीन में एक साथ 16 फीमेल फाइटर पायलट ट्रेंड हुईं. इसके बाद भी उनके कारनामे दिखाने की बजाए महिला सैनिकों के डांस और मेकअप दिखाया जा रहा है. यहां तक कि उसी साल PLA ने एक टेलेंट सेगमेंट बनाया, जिसमें उन महिला अफसरों को प्रमोट किया जाता है, जो शानदार डांस या ऐसा ही कोई काम कर सकें. चीन का सरकारी मीडिया पीपल्स डेली अपनी सोशल साइट पर उनके इसी हुनर की वीडियो डालता है.

    gender discrimination in China army
    चीन की सेना PLA में महिला सैनिकों को मनोरंजन करने की ट्रेनिंग लेने को कहा जाता है- सांकेतिक फोटो (pixabay)


    जिनपिंग की पत्नी आर्मी में मेजर
    बता दें कि चीन की सेना PLA में फिलहाल महिला सैनिकों की संख्या 4.5% है. ये अच्छी-खासी संख्या है लेकिन तब भी उनके कामों के बतौर डांस और मेकअप ही दिखाया जाता है. वैसे यहां ये जानना जरूरी है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की पत्नी पेंग लियुआन PLA फीमेल मिलिट्री में मेजर जनरल हैं. इस अहम पद पर होने के बाद भी वे लंबे समय तक सिंगर के तौर पर ही जानी जाती रहीं. और उनके साथ-साथ सेना की पूरी फीमेल विंग से यही उम्मीद की जाती रही.

    ये भी पढ़ें: Explained: क्यों पाकिस्तान के अलावा कोई भी देश चीन से नहीं कर रहा रक्षा डील?

    बालों की लंबाई पर देना होता है ध्यान
    यहां तक कि आर्मी में भर्ती के लिए उनके शारीरिक दमखम से ज्यादा वे कैसी दिखती हैं, इसपर फोकस होता है. क्वार्टज की एक रिपोर्ट के मुताबिक महिला सैनिकों का जूड़ा लंबाई-चौड़ाई-ऊंचाई में 13 सेंटीमीटर और 6-6 सेंटीमीटर होना चाहिए. खुद चाइना न्यूज. कॉम ने एक रिपोर्ट में छापा है कि चूंकि बहुत सी युवा महिला सैनिकों के बाल उतने लंबे नहीं होते इसलिए वे अपने बालों में नकली बाल लगाने को मजबूर हैं ताकि जूड़ा बड़ा दिखे. सैनिकों को मेकअप की ट्रेनिंग दी जाती है. खुद पीएलए कहता है कि महिला सैनिकों के लिए सबसे पहला सबक यही है कि मेकअप कैसे किया जाए.

    gender discrimination in China army
    चीनी आर्मी में भर्ती होने और फिर फोन ऑपरेटर का काम करने वाली महिलाओं की जिंदगी आसान नहीं- सांकेतिक फोटो (pxfuel)


    टेलीफोन ऑपरेटर की तरह लेते हैं काम
    साल 2017 में मिलिट्री अखबार ने उन सारी महिला सैनिकों की प्रोफाइल छापी, जो फोन कॉल उठाती और ट्रांसफर करती हैं. साल 1960 में ही चीनी आर्मी में महिलाओं को ये काम दिया जाने लगा. हालांकि ये कभी नहीं बताया गया कि सिर्फ महिला सैनिक ही क्यों ये काम करें, और इसके लिए पुरुष सैनिकों की तैनाती क्यों नहीं हो सकती.

    आसान नहीं जिंदगी
    युद्ध के मोर्चे पर तैनाती का सपना लेकर आर्मी में भर्ती होने और फिर फोन ऑपरेटर का काम करने वाली महिलाओं की जिंदगी आसान नहीं. क्वार्टज.कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक फोन कॉल लेने वाली फीमेल कैडर को 3000 से ज्यादा फोन नंबर याद होने चाहिए. उन्हें पूरे चीन में हर तरह की बोली को समझना और बोलना आना चाहिए, साथ ही उनमें ये खूबी हो कि एक बार आवाज सुनने के बाद वे उसे याद कर लें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज