मुसलमानों को पोर्क खाने और शराब पीने पर मजबूर कर रहा है चीन?

छह फरवरी से शुरू हुआ चाइनीज साल इस बार पिग ईयर (सुअर वर्ष) है. चीनी नववर्ष हर साल एक अलग तिथि पर होता है. यह चंद्र कैलेंडर पर आधारित है.

News18Hindi
Updated: February 10, 2019, 3:45 PM IST
मुसलमानों को पोर्क खाने और शराब पीने पर मजबूर कर रहा है चीन?
सांकेतिक तस्वीर, वीगर्स
News18Hindi
Updated: February 10, 2019, 3:45 PM IST
चीन के मुसलमान नागरिकों की शिकायत है कि उन्हें नव वर्ष समारोह के दौरान पोर्क खाने और शराब पीने के लिए मजबूर किया गया. अंग्रेजी अखबार  मिरर की वेबसाइट मिरर.को.यूके ने चीन के कुछ मुस्लिम नागरिकों के हवाले से प्रकाशित रिपोर्ट में यह बात कही है. रिपोर्ट के मुताबिक, नॉर्थ वेस्ट चीन के इली कज़ाख ऑटोनोमस प्रीफेक्चर के रहने वाले मुसलमानों को नए साल के उस फेस्टिव इवेंट में न्यौता दिया गया, जहां पोर्क परोसा जा रहा था. इसमें बताया गया कि अगर वे लोग ऐसे फंक्शन का हिस्सा बनने से इनकार करते हैं तो उन्हें 'री-एजुकेशन' कैंप भेजने की धमकी दी जाती है.

पढ़ें, क्या है 'री-एजुकेशन' कैंप

वहां के एक और निवासी ने rfa.org को बताया, शिनजियांग में कज़ाख लोगों ने कभी पोर्क नहीं खाया, लेकिन पिछले साल से कुछ लोगों ने उन्हें यह खाने के लिए फोर्स किया. आपको बता दें कि पोर्क और एल्कोहल खाना/पीना इस्लाम में सख्ती से मना है. चीन के वीगर मुसलमान वहां का lunar न्यू ईयर हॉलीडे/स्प्रिंग फेस्टिवल नहीं मनाते.



कौन हैं वीगर मुसलमान

Pew रिसर्च सेंटर के अनुसार चीन में मुस्लिमों की आबादी साढ़े 21 करोड़ से भी ज्यादा है. वहां के मुसलमान तीन समुदायों से जुड़े हैं. 1- हुई (Hui) समुदाय से जुड़े मुसलमानों की तादाद 9.8 मिलियन यानी 98 लाख है. 2- वीगर (Uyghurs/Uighurs) समुदाय से जुड़े मुसलमानों की तादाद 8.4 मिलियन यानी 84 लाख है. 3- कज़ाख (Kazakhs) समुदाय से जुड़े मुसलमानों की तादाद 1.25 मिलियन यानी 12.5 लाख है.


वीगरों का कहना है, 'हमारे मुख्य त्यौहार ईद-उल-फित्र और ईद-उल-अदहा हैं. स्प्रिंग फेस्टिवल हान चाइनीज़ के लिए है, जो बुद्धिज्म में विश्वास करते हैं.'
Loading...

वहां के एक और नागरिक ने कहा कि हम वहां के फेस्टिवल की सजावट के मुताबिक लालटेन नहीं लगाते और गाना नहीं गाते तो वे हमें दोहरी मानसिकता वाला बताते हैं और फिर इसी आधार पर हमें री-एजूकेशन कैंप भेज देते हैं.

ये भी पढ़ें- इन विवादों में पहले भी सामने आ चुका है रॉबर्ट वाड्रा का नाम

फेस्टिवल के मुताबिक सजावट का आदेश
चीन के नव वर्ष की जड़ें FOLK रिलीजन से जुड़ी बताई जाती हैं, जिसमें बुद्धिस्ट तस्वीरें और आर्टवर्क शामिल होता है. मिरर.को.यूके की रिपोर्ट के मुताबिक, वहां के लोगों का कहना है कि चीनी अधिकारियों ने Kazakh के सभी नागरिकों को आदेश दिया है (मुस्लिम समेत) कि वे अपने घरों के बाहर फेस्टिवल के मुताबिक सजावट करें.



शराब पीने के लिए भी मजबूर
एग्जाइल ग्रुप वर्ल्ड वीगर कांग्रेस के प्रवक्ता Dilxat Raxit ने कहा, 'हमारी जानकारी के मुताबिक चीनी सरकार वीगरों को हान चीनी संस्कृति में आत्मसात करने के अभियान को आगे बढ़ा रही है. वे वीगरों को Lunar New Year सेलिब्रेट करने के लिए मजबूर कर रहे हैं. वे वीगरों को शराब पीने के लिए भी मजबूर कर रहे हैं, यह दिखाने के लिए कि वे 'चरम धार्मिक मान्यताओं' की सदस्यता नहीं लेते हैं और पारंपरिक चीनी संस्कृति का अनादर नहीं करते हैं.'

शिक्षा शिविरों के अस्तित्व से इनकार 
हालांकि बीजिंग ने शुरू में शिक्षा शिविरों के अस्तित्व से इनकार कर दिया था, लेकिन उस क्षेत्र की सरकार के अध्यक्ष, शोहरात ज़ाकिर ने अक्टूबर में कहा था कि देश को आतंकवाद से बचाने और वीगरों के लिए व्यावसायिक प्रशिक्षण की सुविधाएं एक प्रभावी उपकरण हैं.



पिछले साल फरवरी में भी दावा किया गया था कि एक ही क्षेत्र के मुसलमानों को नए साल के जश्न में भाग लेने के लिए मजबूर किया गया. इन दावों में फिर से यही आरोप शामिल हैं कि मुसलमानों ने वह खाना खाया जो उन्हें खाना मना है.

'दोबारा शिक्षा' 
बता दें कि 'दोबारा शिक्षा' देने के लिए हिरासत में रखे लोगों को चीन 'व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थानों' में रखना करार दे चुका है. चीन सरकार ने इस विवादास्पद कदम को यह कहते हुए जायज ठहराया था कि इससे पिछले 21 महीने में वहां आतंकवादी हमले रुक गए हैं.

क्या है चीन का नव वर्ष
छह फरवरी से शुरू हुआ चीनी साल इस बार पिग ईयर (सुअर वर्ष) है. चीन में हर नया साल उनके 12 जोडिएक प्रतीक जानवरों को समर्पित होता है. हर ज़ोडिएक साइन का वर्ष 12 सालों के बाद आता है. चीनी मानते हैं कि जो साल ज़ोडिएक के अनुसार जिस जानवर के नाम होता है, उसका असर उस साल उनके जीवन पर होता है.



आमतौर पर चाइनीज लोगों का अपने देश की एस्ट्रोलॉजी पर विश्वास है. चीनी लोग अपनी ज्योतिष को शेंग जियाओ के रूप में जानते हैं. चीनी ज्योतिषचक्र 12 राशियों पर आधारित है, जिसमें हर राशि का स्वामी एक जानवर है. ये जानवर चूहा, बैल, बाघ, खरगोश, ड्रैगन, सांप, घोड़ा, बकरा, बंदर, मुर्गा, कुत्ता और सुअर होता है. ज्योतिष चक्र के अनुसार हर साल एक जानवर पर आधारित होता है. लिहाजा ये चाइनीज राशि चक्र के सबसे आखिरी जानवर सुअर पर है, जो 12 साल के बाद अब फिर आया है.

चीनी नववर्ष हर साल एक अलग तिथि पर होता है. यह चंद्र कैलेंडर पर आधारित है. नव वर्ष उत्सव दो सप्ताह तक मनाया जाता है. नए साल की शुरुआत 21 जनवरी और 20 फरवरी के बीच होती है.

ये भी पढ़ें- 'इस्लाम को झूठ और क़ुरान को ज़हर' बताने वाले डच सांसद ने अपनाया इस्लाम
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर