लाइव टीवी

हिजाब पहनने और दाढ़ी रखने पर भी मुसलमानों को डिटेंशन सेंटर में डाल रहा चीन

News18Hindi
Updated: February 18, 2020, 11:46 PM IST
हिजाब पहनने और दाढ़ी रखने पर भी मुसलमानों को डिटेंशन सेंटर में डाल रहा चीन
चीन में उइगर मुसलमानों की हालत बयान करने वाली एक रिपोर्ट लीक हुई है

चीन (China) की कम्यूनिस्ट सरकार (Communist Government) की क्रूरता के शिकार लाखों उइगर मुसलामनों (Uyghur Muslim) की हालत बयान करने वाले दस्तावेज से कुछ हैरान करने वाली जानकारी सामने आई है. लीक हुए दस्तावेज ने पूरी दुनिया के सामने चीन की पोल खोल दी है..

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2020, 11:46 PM IST
  • Share this:
चीन (China) अपने यहां रहने वाले उइगर मुसलमानों (Uyghur Muslim) से किस क्रूरता के साथ पेश आ रहा है, इसका खुलासा करने वाला एक सनसनीखेज डॉक्यूमेंट्स सामने आया है. इस डॉक्यूमेंट्स में ऐसे हजारों उइगर मुसलामनों की जानकारी दर्ज है, जिन्हें चीन अपने डिंटेशन सेंटर में कैद करके रखे हुए है. इस सनसनीखेज दस्तावेज के सामने आने से पूरी दुनिया में खलबली मच गई है.

पूरी दुनिया के सामने चीन की करतूतों का पर्दाफाश हो गया है. पाकिस्तान के साथ हमदर्दी रखने वाला चीन अपने यहां के मुसलमानों को किस बेदर्दी से कुचल रहा है, इसका पूरी दुनिया को पता चल गया है. एक बात ये भी सामने आई है कि चीन में उइगर मुसलमानों के साथ ज्यादती, आतंक से निपटने के सिलसिले में नहीं हो रही है. मुसलमानों के साथ अमानवीय व्यवहार सिर्फ धर्म के नाम पर हो रहा है.

कम्यूनिस्ट सरकार की क्रूरता के शिकार हो रहे मुसलमान
चीन की कम्यूनिस्ट सरकार की क्रूरता के शिकार लाखों उइगर मुसलामनों की हालत बयान करने वाले दस्तावेज से कुछ हैरान करने वाली जानकारी सामने आई है. मसलन- उइगर मुस्लिम महिलाओं को सिर्फ हिजाब पहनने पर डिटेंशन सेंटर में डाल दिया गया, किसी मुसलमान को सिर्फ दाढ़ी रखने के आरोप में हिरासत में ले लिया गया, किसी को नमाज पढ़ने, तो किसी महिला को तीन से ज्यादा बच्चे पैदा करने की वजह से हिरासत में रखा गया है. चीन में उइगर मुसलमानों के साथ होने वाली ज्यादती की पोल खोलने वाले दस्तावेज ने पूरी दुनिया में सनसनी मचा दी है.



सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन के सरकारी सिस्टम से लीक हुए इस दस्तावेज में शिनजियांग प्रांत में रहने वाले हजारों उइगर मुसलमानों की एक-एक जानकारी दर्ज है. उइगर मुसलमानों को अंदाजा नहीं रहा होगा कि चीन की कम्यूनिस्ट सरकार सिस्टम के इस्तेमाल करके उनकी एक-एक हरकत पर नजर रख रही है. उइगर मुसलमान क्या खाते हैं, वो कहां जाते हैं, किनसे मिलते हैं, उनके परिवार में कितने लोग हैं, परिवार के लोग क्या काम करते हैं, जैसी छोटी से छोटी जानकारी चीन की सरकार के पास है.

china is putting uyghur muslims in detention center just to wearing hijab and keeping beard leaked chinese government records reveal
चीन में उइगर मुसलमानों पर धर्म के आधार पर अत्याचार हो रहे हैं


सिर्फ धर्म के आधार पर मुसलमानों को सहना पड़ रहा है अत्याचार
इस जानकारी का एक छोटा सा हिस्सा लीक हुआ है. जिसके बाद खलबली मच गई है. इसमें हिरासत में रखे गए कुछ ऐसे उइगर मुसलमानों की जानकारी है, जिन्हें सिर्फ और सिर्फ मुसलमान होने की वजह से निशाना बनाया गया है. उनका आतंकवाद या अतिवाद से कोई लेना-देना नहीं है. उन्हें सिर्फ इसलिए हिरासत में रखा गया है, क्योंकि वो मुसलमान हैं.

सीएनएन की रिपोर्ट में उस लीक हुए दस्तावेज के हवाले से एक ऐसी ही उइगर मुस्लिम महिला रोजिंसा ममत्तोती के बारे मे जानकारी दी गई है. चीन की सरकार ने रोजिंसा के परिवार की छोटी से छोटी जानकारी अपने रिकॉर्ड में दर्ज रखी थी. चीन के शिनजियांग प्रांत में रहने वाली रोजिंसा का परिवार कोई मशहूर या अतिवादी ग्रुप से जुड़ा परिवार नहीं है. फिर भी उसके परिवार की एक-एक जानकारी ऑफिशियल रिकॉर्ड में थी.

सिर्फ 4 बच्चे होने की वजह से डिटेंशन सेंटर में डाल दिया
रोजिंसा की बहन पटेम चीनी डिटेंशन सेंटर में कैद है. लीक हुए दस्तावेज में उसके बारे में लिखा गया है कि पटेम ने फैमिली प्लानिंग पॉलिसी का उल्लंघन किया है. शिनजियांग के ग्रामीण इलाकों में तीन ही बच्चे पैदा करने कानूनन प्रावधान है. पटेम के चार बच्चे हैं, इसलिए चीनी प्रशासन ने उन्हें डिटेंशन सेंटर में डाल दिया है, जबकि आमतौर पर ऐसे मामलों में चीनी नागरिक को शायद ही कभी हिरासत में रखा जाता है.

चीन में उइगर मुसलमानों के खिलाफ चल रहे सरकारी कार्यक्रमों को लेकर ये तीसरा बड़ा लीक है. लीक हुए दस्तावेज से साफ पता चलता है कि चीन की सरकार उइगर मुसलमानों को उनकी धार्मिक और सांस्कृतिक पहचान के चलते निशाना बना रही है. उन्हें देशद्रोही मानकर उनके साथ क्रूरता से पेश आया जा रहा है.

china is putting uyghur muslims in detention center just to wearing hijab and keeping beard leaked chinese government records reveal
पाकिस्तान के साथ हमदर्दी रखने वाला चीन अपने यहां के मुसलमानों पर कहर बरपा रहा है.


सिर्फ धार्मिक परंपरा निभाने की वजह से हिरासत में लिया

चीन की सरकार का कहना है कि वो शिनजियांग प्रांत में बढ़ते अंसतोष और आतंकवाद की घटनाओं पर काबू पाने के लिए और धार्मिक कट्टरता को खत्म करने वाला कार्यक्रम (deradicalization programme) चला रही है. लेकिन ऐसे कार्यक्रम के बहाने उइगर मुसलमानों के साथ नाइंसाफी हो रही है. उन्हें अपनी धार्मिक मान्यताएं और परंपराएं निभाने पर सजा दी जा रही है. किसी को हिजाब पहनने पर हिरासत में ले लिया जा रहा तो किसी को दाढ़ी रखने के आरोप में डिटेंशन कैंप में डाल दिया जा रहा है.

एपी की एक रिपोर्ट में इसी तरह शिनजियांग प्रांत के एक इमाम मेमेतिमिन एमर की कहानी का खुलासा हुआ है. एमर एक धार्मिक व्यक्ति है, जो इस्लाम धर्म के शांति के संदेश प्रचारित करता है. शुक्रवार को धार्मिक प्रवचन सुनाता और रविवार को बीमारों को हर्बल दवाइयां देता था. सर्दियों के दिनों में वो गरीबों के बीच कोयले बांटता.

एमर और उसके तीन बेटों को चीनी प्रशासन ने हिरासत में ले लिया है. ये चारों अब चीन के डिटेंशन सेंटर में हैं. इन्हें सिर्फ इनके धर्म की वजह से हिरासत में लिया गया. ऐसी हजारों कहानियां हैं. चीन के शिनजियांग में उइगर मुसलमानों पर चीन कहर बरपा रहा है. नया लीक हुआ दस्तावेज चीन में धार्मिक अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार की पोल खोलने वाला है.

ये भी पढ़ें:

40 साल पहले एक उपन्यास ने की थी चीन में कोराना वायरस की भविष्यवाणी
जम्मू-कश्मीर के सोशल मीडिया यूजर्स पर क्यों लगा UAPA, जानें कितना सख्त है कानून
क्यों खुद को अच्छा हिंदू मानते थे महात्मा गांधी लेकिन किस बात को मानते थे दोष
महात्मा गांधी पर बोले RSS प्रमुख मोहन भागवत- उन्हें अपने हिन्दू होने पर नहीं थी शर्म
जानिए कैसी है अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की करामाती कार, जो पहुंच चुकी है भारत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 11:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर