अपना शहर चुनें

States

मोटापे और मास्टरबेशन के कारण चीनी युवा फेल हो रहे हैं आर्मी के टेस्ट में

मोटापे की वजह से ज्यादातर युवा चीन की सेना के फिटनेस टेस्ट में छंट जाते हैं
मोटापे की वजह से ज्यादातर युवा चीन की सेना के फिटनेस टेस्ट में छंट जाते हैं

चीनी युवाओं में सेना (Chinese youth in army) में भर्ती होने का चाव तो बहुत है लेकिन उनमें से ज्यादातर आर्मी की भर्ती परीक्षा पास नहीं कर पाते. इसकी वजह है उनका मोटापा (obesity) और जरूरत से ज्यादा मास्टरबेट करना.

  • Share this:
लद्दाख की गलवान घाटी (Galwan Valley Face off) में एक सप्ताह पहले भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प (India-China Dispute) के बाद से तनाव बढ़ रहा है. चीन इस दौरान अपना सैनिक बेस और मजबूत करने में जुटा हुआ है. वैसे जिस चीन को अपने सैनिक बल पर इतना भरोसा है, उसे खड़ा करने में चीन को भारी मशक्कत करनी पड़ती है. दरअसल इस देश के जवान सेना में आना तो चाहते हैं लेकिन अपनी फिजिकल फिटनेस की वजह से मार खा जाते हैं.

खुद चीनी सेना के न्यूजपेपर पीपल्स लिबरेशन आर्मी डेली (People’s Liberation Army Daily) के मुताबिक मोटापे की वजह से ज्यादातर युवा छंट जाते हैं. साथ ही जरूरत से ज्यादा हस्तमैथुन भी उन्हें अनफिट बना देता ( masturbate too much to pass fitness exam) है.

वैसे तो चीन की अर्थव्यवस्था मजबूत होते जाने के कारण वहां लोगों का लिविंग स्टैंडर्ड भी ऊंचा हो रहा है लेकिन इसका गलत असर उनकी डायट पर दिख रहा है. ज्यादातर चीनी युवा जंक फूड पसंद करते हैं. यही वजह है कि नब्बे के दशक के बाद उनमें मोटापा तेजी से बढ़ा. वैज्ञानिक जर्नल द लैंसेट में इस बारे में रिपोर्ट आ चुकी है. साल 2016 की इस रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा ओवरवेट लोग चीन में हैं. इनमें 42 मिलियन से ज्यादा आबादी युवा पुरुषों की है.



सेना में अपना जोश-खरोश दिखाने के लिए भर्ती होने जो युवा आ रहे हैं, वे मोटापाग्रस्त हैं (Photo-pixabay)

सेना में भर्ती के दौरान पीपल्स लिबरेशन आर्मी को यही दिक्कत दिखाई दे रही है. वहां सेना में अपना जोश-खरोश दिखाने के लिए भर्ती होने जो युवा आ रहे हैं, वे मोटापाग्रस्त हैं. इस बारे में एससीएमपी को दिए एक इंटररव्यू में Jingzhou के मिलिट्री कमांडर ने कहा कि सैनिक भर्ती के लिए आ रहे युवाओं का स्वास्थ्य ठीक नहीं. चूंकि सैनिकों की संख्या बढ़ानी है, इसके लिए हम अपने स्टैंडर्ड कम नहीं कर सकते. यही वजह है कि तीन चौथाई से भी ज्यादा लोग फिजिकल टेस्ट में मार खा रहे हैं. स्टेट मीडिया के मुताबिक हालात इतने खराब हैं कि साल 2017 में भर्ती परीक्षा के दौरान  56.9 प्रतिशत लोगों को सिर्फ फिजिकल टेस्ट में फेल कर दिया गया.



ये भी पढ़ें: घातक हो सकती है कोरोना की वैक्सीन, खुद वैज्ञानिक देने लगे वॉर्निंग

सेना में भर्ती को लेकर चीन की सरकार काफी चिंतित है. यहां तक कि एक के बाद एक काफी सारे युवाओं के भर्ती के दौरान फिजिकल टेस्ट पास न कर पाने पर PLA Daily को सोशल मीडिया पर वे वजहें डालनी पड़ीं, जिनके कारण युवा टेस्ट पास नहीं कर पा रहे हैं. इसमें 10 कारण गिनाए गए, जिनमें मोटापा, बहुत ज्यादा वीडियो गेम खेलने के कारण आंखें कमजोर होना और बहुत ज्यादा हस्तमैथुन करना है.

सेना में भर्ती को लेकर चीन की सरकार काफी चिंतित है (Photo-pixabay)


हस्थमैथुन का सेना की भर्ती परीक्षा से क्या ताल्लुक है? इसपर खुद आर्मी के न्यूजपेपर ने कहा कि भर्ती परीक्षा के लिए आए 8 प्रतिशत से ज्यादा युवाओं की टेस्टिकुलर वेन्स ( testicular veins) सूजी हुई थीं. ये बहुत ज्यादा मास्टरबेशन के कारण होता है. साथ ही लंबे-लंबे समय के लिए कुर्सी पर बैठे रहने से इन नसों में सूजन आ जाती है. इससे ऐसे तो दर्द जैसी कोई समस्या नहीं होती है लेकिन नपुंसकता बढ़ जाती है. ऐसे में सेना में भर्ती जवान मनोवैज्ञानिक या कई दूसरी तरह की समस्याओं से घिर सकता है इसलिए भी बहुत ज्यादा बढ़ी हुई testicular veins वाले चीनी युवा भर्ती परीक्षा में फेल हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें: नेपाल में अब हिंदी पर बैन की तैयारी, जानिए, कितनी लोकप्रिय है वहां ये भाषा

वैसे सेना में भर्ती के लिए ऐसा नियम सिर्फ चीन नहीं, बल्कि दुनिया के सभी देशों में है. अगर भर्ती के वक्त किसी पुरुष या स्त्री के रिप्रोडक्टिव ऑर्गन सही अवस्था में नहीं हों तो वो सेना में भर्ती नहीं पा सकता. टेस्टिकल्स की नसें सूजी होने को मेडिकल साइंस में Left varicocele कहा गया है. ये होना भी मिलिट्री में किसी को अनफिट बताता है.

ये भी पढ़ें: गर्दन सीधी रहे, इसके लिए चीनी सैनिकों की कॉलर पर रहती है नुकीली पिन

मोटापा या हस्तमैथुन ही नहीं, कई दूसरी वजहों से भी लोग सेना में जगह नहीं पा रहे हैं. जैसे बहुत ज्यादा अल्कोहल या फिर कोल्ड ड्रिंक पीने के कारण 25% युवा ब्लड और यूरिन टेस्ट पास नहीं कर सके. 46% इसलिए फेल हुए क्योंकि उनकी आंखें कमजोर हो चुकी थीं. वहीं बहुतों में मनोवैज्ञानिक समस्याएं भी दिखीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज