लाइव टीवी

तुर्की में बन सकता है कानून, लड़की को अपने रेपिस्ट से करनी पड़ेगी शादी

News18Hindi
Updated: January 23, 2020, 5:41 PM IST
तुर्की में बन सकता है कानून, लड़की को अपने रेपिस्ट से करनी पड़ेगी शादी
तुर्की में इस कानून को लेकर बड़े स्तर पर विरोध जारी है. महिला संगठन इस बिल को लेकर सरकार की जबरदस्त आलोचना कर रहे हैं.तुर्की में इस कानून को लेकर बड़े स्तर पर विरोध जारी है. महिला संगठन इस बिल को लेकर सरकार की जबरदस्त आलोचना कर रहे हैं.

देश की संसद में सरकार एक बिल लेकर आने वाली है जिसके मुताबिक अगर 18 साल से कम उम्र की लड़की से रेप का दोषी सजा से बचना चाहता है तो उसे पीड़िता से शादी करनी होगी. महिला अधिकार संगठन इस बिल को 'marry-your-rapist' बिल कह रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 23, 2020, 5:41 PM IST
  • Share this:
तुर्की में एक विवादास्पद बिल (Controversial Bill) को लेकर बवाल शुरू हो गया है. देश की संसद में सरकार एक बिल लेकर आने वाली है जिसके मुताबिक अगर 18 साल से कम उम्र की लड़की से रेप का दोषी सजा से बचना चाहता है तो उसे पीड़िता से शादी करनी होगी. माना जा रहा है कि जनवरी के आखिर तक इस बिल को पार्लियामेंट में पेश कर दिया जाएगा. महिला अधिकार संगठन इस बिल को 'marry-your-rapist' बिल कह रहे हैं.

जमकर हो रही आलोचना
इस बिल की तुर्की में जमकर आलोचना हो रही है. आलोचकों का कहना है कि इससे बाल यौन शोषण सहित रेप की मानसिकता को बल मिलेगा. अगर कोई लड़की किसी को पसंद नहीं करती है तो उसके साथ रेप हो सकता है. कोई भी इसे एकतरफा इस्तेमाल कर सकता है. महिला संगठनों का कहना है कि सरकार रेप पीड़िता के मनोभावों को समझने के बजाए अजीबोगरीब कानून लाने की तैयारी में है जिससे अराजकता फैलेगी.

संयुक्त राष्ट्र ने की आलोचना

ऐसे ही एक बिल को साल 2016 में तुर्की की सरकार ने वैश्विक आलोचना के बाद वापस लिया था. वर्तमान बिल को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने भी तुर्की सरकार को चेतावनी दी है कि इससे बाल यौन शोषण और रेप की घटनाएं तेजी के साथ बढ़ेंगी. सरकार को इस बिल पर चर्चा करने से पहले सोचना चाहिए. गौरतलब है कि Marry-your-rapist जैसे बिल दुनिया के कुछ देशों में प्रभावी हैं और इनके बनने के पीछे छद्म पारिवारिक सम्मान मुख्य वजह है .


आलोचकों का कहना है कि सरकार ये कानून लाकर 'रेप मानसिकता' को हवा दे रही है.
इस बिल के खिलाफ खड़ी सामाजिक कार्यकर्ता सउद अब दायेह का तर्क है यह बिल रेपिस्ट माइंडसेट के लोगों को कानूनी वैधता प्रदान कर देगा. ब्रिटिश अखबार इंडिपेंडेंट से बातचीत में उन्होंने कहा कि तुर्की में मौजूद महिला अधिकार कार्यकर्ताओं ने इस बिल का तीखा विरोध किया है.

तुर्की में लड़कियों की शादी की उम्र 18 साल तय की गई है. साल 2018 में आई एक सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक बीते एक दशक के दौरान देश में तकरीबन 5 लाख बाल विवाह हुए हैं. महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध तुर्की में आम हैं. संयुक्त राष्ट्र के एक आंकड़े के मुताबिक करीब 38 प्रतिशत तुर्की महिलाओं को सेक्सुअल और फिजिकल वॉयलेंस का सामना करना पड़ता है.

देश में काम करने वाले एक जागरूकता समूह के आंकड़ों के मुताबिक 2017 में 409 महिलाओं की हत्या या तो उनके पति ने कर दी या फिर ससुराल पक्ष के किसी व्यक्ति ने. तुर्की में जारी महिलाओं के प्रति हिंसा को लेकर वहां के राष्ट्रपति रेसेप तैयब आर्दोआन का एक भाषण भी महत्वपूर्ण है. साल 2014 में इस्तांबुल में दिए एक भाषण में उन्होंने कहा था कि महिला-पुरुष बराबरी प्रकृति के खिलाफ है. आप दोनों को बराबर का दर्जा नहीं दे सकते. आर्दोआन के मुताबिक एक महिला को कम से कम 3 बच्चे तो पैदा करने ही चाहिए. किसी महिला का जीवन अधूरा है अगर वो बच्चे पैदा नहीं करती.


तुर्की के राष्ट्रपति ने महिलाओं को लेकर बेहद विवादित बयान दिया था.


आर्दोआन इतने पर ही नहीं रुके. उन्होंने कहा कि अगर कोई महिला कामकाजी होने की वजह से बच्चे पैदा करने से मनाही करती है तो वो वास्तविकता में स्त्रीत्व को ही नकार रही है. तुर्की के महिला संगठनों का मानना है कि राष्ट्रपति आर्दोआन रूढ़िवाद को हवा दे रहे हैं और देश में महिला विरोधी कानून लागू कर रहे हैं.

ईरान में बना था विवादित कानून
ईरान सरकार ने भी एक बेहद विवादित कानून बनाया था जिसे लेकर बहुत आलोचना हुई थी. इस कानून के तहत कोई भी व्यक्ति गोद ली हुई 13 साल की बेटी के साथ शादी कर सकता है. इस कानून को ईरानी संसद ने पारित किया. ईरानी मानवाधिकार कार्यकर्ता शाहदी सद्र ने मीडिया को बताया कि यह कानून बच्चों के साथ यौन दुष्कर्म जैसे अत्याचारों को वैध ठहरा रहा है.

ये भी पढ़ें :-

क्या बांंग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में चुनाव लड़ सकते हैं हिंदू-सिख
Health Explainer : कोरोना वायरस के लक्षण, जो फेफड़े पर करता है घातक हमला
बड़ी संख्या में जहरीला पानी पी रहे अमेरिकी, पर्यावरण एजेंसी की रिपोर्ट
बाल ठाकरे: भारतीय राजनीति का इकलौता नेता जिसने कश्मीरी पंडितों की मदद की
वो महारानी, जिसने सैंडल में जड़वाए हीरे-मोती, सगाई तोड़ किया प्रेम विवाह
अमीर सिंगल चीनी महिलाएं विदेशी स्पर्म से पैदा कर रही हैं बच्चे, नहीं करना चाहती शादी

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 5:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर