लाइव टीवी

लालच नहीं छोड़ पा रहा है चीन, कोरोना वायरस पर फिर कर रहा है बड़ी भूल

News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 11:30 AM IST
लालच नहीं छोड़ पा रहा है चीन, कोरोना वायरस पर फिर कर रहा है बड़ी भूल
चीन चाहता है कि उसकी आर्थिक ग्रोथ रेट कम न हो जाए.

चीनी नेतृत्व (Chinese Leadership) चाहता है कि आर्थिक गतिविधियां फिर से चालू हो जाएं जिससे उसका नुकसान कम हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 11:30 AM IST
  • Share this:
चीन इस वक्त दोतरफा मार झेल रहा है. एक तरफ तो उस पर भयानक कोरोना वायरस (Corona Virus) का खतरा बना हुआ है तो दूसरी ओर इकॉनमी गर्त में जा रही है. ऐसी हालत में घबराया चीनी नेतृत्व चाहता है कि आर्थिक गतिविधियां (Economic Activities) फिर से चालू हो जाएं, जिससे उसका नुकसान कम हो. लेकिन ऐसा करने से कोरोना वायरस के और तेजी से फैलने का खतरा बढ़ने लगा है. गौरतलब है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने कोरोना वायरस को कम्यूनिस्ट चीन के इतिहास में सबसे बड़ी हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया है.

चीनी नेतृत्व का दबाव
चीनी शीर्ष नेतृत्व की तरफ से डाले जा रहे इस दबाव की वजह से व्यापारियों में घबराहट और दबाव की स्थिति पैदा हो सकती है. चीनी राष्ट्रपति और दूसरे नेता चाहते हैं कि उत्पादन कार्य फिर से शुरू हो जिससे आर्थिक संकट का हल निकाला जा सके. दरअसल चीनी नेतृत्व के भीतर संकट की घड़ी में भी हाई इकोनोमिक ग्रोथ रेट का लालच बना हुआ है. उन्हें ये भय है कि कोरोना वायरस की वजह से वो आर्थिक रूप से पिछड़ जाएंगे.

कई जगह खुली फैक्टरियां



इसी क्रम में वुहान से करीब 600 किलोमीटर दूर झेजियांग प्रांत में कई जगहों पर उत्पादन गतिविधियां फिर से शुरू कर दी गई हैं. ब्लूमबर्ग में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक एक कपड़ा कंपनी के मालिक डॉन्ग लियू ने कहा है कि हमारे पास अभी सबसे बड़ी समस्या वर्कर्स की है. लोग कोरोना की वजह से बुरी तरह से डरे हुए हैं. वो घरों से बाहर नहीं आना चाहते हैं. डॉन्ग लियू की कंपनी में 400 से ज्यादा वर्कर्स काम करते थे लेकिन अभी उन्हें मुश्किल हो रही है. उन्होंने बताया कि ऐसी स्थिति में हम उत्पादन पहले जैसा नहीं कर पाएंगे. डॉन्ग के मुताबिक जल्द ही इलाके में और भी कई फैक्टरी शुरू कर दी जाएंगी.

डॉक्टर कर रहे हैं आगाह
हालांकि लोगों के बीच ये डर भी बना हुआ है कि फैक्टरियां दोबारा खुलने की स्थिति में कोरोना वायरस तेजी के साथ पैर पसार सकता है. अभी तक चीन का वुहान प्रांत इससे सबसे ज्यादा प्रभावित है लेकिन अगर आर्थिक गतिविधियां शुरू हुईं और लोगों ने एक-दूसरी जगह जाना शुरू किया तो शायद कोरोना वायरस से लड़ना नामुमकिन हो जाएगा. ग्वांगझू में रेस्पिरेटरी सिस्टम के डॉक्टर झॉन्ग नानशान का कहना है कि अभी कोरोना वायरस का खतरा और बढ़ने के आसार हैं. ऐसे में अगर उत्पादन कार्य फिर से शुरू हुए तो ये खतरा और बढ़ जाएगा. महामारी अपने और विकराल रूप दिखा सकती है.

चीन पर लगते रहे हैं आरोप
चीन में कोरोना वायरस को लेकर कई तरह की खबरें चल रही हैं. इनमें कुछ कॉन्सपिरेसी थ्योरी (Conspiracy Theory) भी हैं. इनमें से एक थ्योरी है कि चीन में जैविक हथियारों का विकास किया जा रहा था और कोरोना वायरस उसी का दुष्प्रभाव है. पश्चिमी विशेष तौर पर रूसी मीडिया में तो इसे लेकर कई तरह की रिपोर्ट्स भी प्रकाशित की गई हैं.

महामारी को छिपाया
चीन पर कोरोना महामारी को छिपाने के भी आरोप लगे हैं. कई रिपोर्ट्स में खुलासा हुआ है चीन ने कोरोना के संकट को भांपने में हीलाहवाली की. इतना ही नहीं, एक डॉक्टर ने इसे लेकर सरकार को आगाह किया तो उसकी आवाज दबा दी गई. बाद में उस डॉक्टर की मौत भी कोरोना की वजह से हो गई.

खतरा क्यों उठा रहा है चीन
सवाल ये है कि दुनिया कोरोना को सबसे बड़ी हेल्थ इमरजेंसी स्वीकार करने के बावजूद भी चीन दोबारा आर्थिक गतिविधियां शुरू कर खतरे को और क्यों बढ़ा रहा है? दरअसल दुनिया की कई बड़ी कंपनियों ने कहा है कि उनका उत्पादन धीमा हो रहा है क्योंकि चीन में प्रोडक्शन बंद है. ऐसे में चीनी नेतृत्व अब चाहता है कि उसका आर्थिक विकास न रुके. लेकिन इसके लिए वो बड़ी भयावह स्थिति पैदा कर रहा है.
ये भी पढ़ें:

40 साल पहले एक उपन्यास ने की थी चीन में कोराना वायरस की भविष्यवाणी
जम्मू-कश्मीर के सोशल मीडिया यूजर्स पर क्यों लगा UAPA, जानें कितना सख्त है कानून
क्यों खुद को अच्छा हिंदू मानते थे महात्मा गांधी लेकिन किस बात को मानते थे दोष
महात्मा गांधी पर बोले RSS प्रमुख मोहन भागवत- उन्हें अपने हिन्दू होने पर नहीं थी शर्म
जानिए कैसी है अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की करामाती कार, जो पहुंच चुकी है भारत
आजादी के दिन सरदार पटेल को लेकर फैली थीं अफवाहें-नहीं बनाए जाएंगे मंत्री

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 10:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर