लाइव टीवी

कोरोना संक्रमण में खत्म हो जाती है सूंघने और स्वाद की क्षमता?

News18Hindi
Updated: April 1, 2020, 2:42 PM IST
कोरोना संक्रमण में खत्म हो जाती है सूंघने और स्वाद की क्षमता?
कोरोना महामारी के दुनियाभर में फैलने के साथ नए लक्षण भी सामने आ रहे हैं.

शुरुआत में जब कोरोना ने वुहान में पैर पसारने शुरू किए थे तब आम तौर पर यही खबरें आई थीं कि कोरोना के लक्षण सूखी खांसी और बुखार हैं. लेकिन अब नए शोधों में अलग तरह के खुलासे हो रहे हैं.

  • Share this:
कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के लक्षणों को लेकर दिन-प्रतिदिन नई जानकारियां सामने आ रही हैं. अब नई जानकारी के मुताबिक कोरोना के मरीजों में सूंघने की शक्ति खत्म हो जाती है साथ ही खाने में स्वाद आना बंद हो जाता है. एक और रिपोर्ट का कहना है कि इस रोग में पेट भी सामान्य नहीं रहता है और डायरिया जैसी दिक्कतें महसूस होती हैं.

क्या थे शुरुआती लक्षण
शुरुआत में जब कोरोना ने वुहान में पैर पसारने शुरू किए थे तब आम तौर पर यही खबरें आई थीं कि कोरोना के लक्षण सूखी खांसी और तेज बुखार हैं. डॉक्टर भी लोगों के रोगों का परीक्षण इसी आधार पर कर रहे थे. फिर हाल ही में चीन से ऐसी जानकारियां भी सामने आईं कि बड़ी संख्या में ऐसे लोग थे जिनमें लक्षण सामने नहीं आए लेकिन वो कोरोना पॉजिटिव थे. इन्हें साइलेंट करियर बताया गया और कहा गया कि दुनिया भर में ये बीमारी फैलाने में इनका सबसे बड़ा योगदान है.

अमेरिकी इंस्टीट्यूट का दावा



अब कहा जा रहा है कि कोरोना के मरीजों में कोरोना के मरीजों में सूंघने की शक्ति खत्म हो जाती है साथ ही खाने में स्वाद आना बंद हो जाता है. ये आंकड़े ईरान, चीन, अमेरिका और इटली के रोगियों से मिले हैं. ये रिपोर्ट American Acadamy of Otolaryngology ने जारी की है.





सूंघने की क्षमता पर कैसे हमला करता है कोरोना
ऐसे कई वायरस जो मुंह, नाक, गले के जरिए शरीर में प्रवेश करते हैं, उनकी वजह से सूंघने की क्षमता प्रभावित होती है. इसका सबसे मजबूत कारण ये होता है कि ये वायरस संक्रमित व्यक्ति की नाक में म्यूकस ज्यादा मात्रा में बनाते हैं. जिससे नाक से शरीर में पहुंचने वाला एयरफ्लो कम हो जाता है. इससे सूंघने की क्षमता भी प्रभावित होती है. हालांकि कोरोना म्यूकस बहुत ज्यादा क्रिएट नहीं करता लेकिन सूंघने की क्षमता ज्यादा प्रभावित करता है. ये आपकी श्वसन नली पर सीधा हमला करता है और उन कोशिकाओं को खत्म करता है जो सूंघने की क्षमता विकसित करती हैं.

स्वाद नहीं आने की शिकायत
अल जजीरा पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक सामान्य फ्लू में भी करीब 1 प्रतिशत लोगों का स्वाद आना बंद हो जाता है. हालांकि कोरोना वायरस सीधे तौर पर स्वाद की क्षमता पर हमला नहीं करता लेकिन चूंकि सूंघने की प्रक्रिया सीधे तौर पर इससे जुड़ी होती है, इसलिए कोरोना रोगियों में स्वाद न आने की दिक्कतें भी आ रही हैं. इसी वजह से कोरोना के रोगियों को स्वाद की भी शिकायतें आ रही हैं. इसी वजह से अब डॉक्टर यह भी कह रहे हैं कि अगर आपको गंध न आ रही हो या फिर स्वाद न आ रहा हो तो भी सात दिनों तक सेल्फ आइसोलेशन में रह सकते हैं.

पेट में दर्द की शिकायतें, डायरिया जैसे लक्षण
ब्रिटेन में कोरोना रोगियों में कुछ अन्य लक्षण भी दिखाई दिए हैं जिन्हें लेकर डॉक्टर ने लोगों को सचेत किया है. डॉक्टरों का कहना है कि बड़ी संख्या में मरीजों ने पेट में दर्द की शिकायत की है. ये पेट दर्द सामान्य नहीं होता है. इसमें कुछ-कुछ डायरिया जैसे लक्षण उभर कर सामने आए हैं. ब्रिटेन में कोरोना बीमारी को लेकर आए लक्षणों पर अभी और जांच जारी है. गौरतलब है कि ब्रिटेन इस समय कोरोना संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित देशों में शामिल है. देश के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन भी इस समय कोरोना से पीड़ित हैं.



चीन जारी कर सकता है आंकड़े
कोरोना महामारी के लक्षणों में नित नए मोड़ आने की वजह से पश्चिमी देशों में चीन को लेकर गुस्सा भी है. कई बार आरोप लगाए जा चुके हैं चीन ने इस बीमारी के संदर्भ में कई जरूरी जानकारियां दुनिया से साझा नहीं की जिनकी वजह से आज यह वैश्विक संकट बनकर उभरी है. इसे देखते हुए चीन की सरकार भी अब चेत गई है. सरकार ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी देश के स्थानीय प्रशासन को आगाह किया है कि कोरोना संबंधित हर चीज को सार्वजनिक किया जाए.

ये भी देखें:-

coronavirus: क्‍या पलायन कर इटली वाली गलती कर बैठे हैं भारतीय?

Fact Check: क्या गर्म पानी से गरारे करने पर मर जाता है कोरोना वायरस?
First published: April 1, 2020, 2:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading