लाइव टीवी

Coronavirus: 10 जिलों में हैं देश के कुल मरीजों के 30 फीसदी संक्रमित

News18Hindi
Updated: April 7, 2020, 6:22 PM IST
Coronavirus: 10 जिलों में हैं देश के कुल मरीजों के 30 फीसदी संक्रमित
केरल में कोरोना वायरस के नए मामले सामने आने की दर घट गई है. हालांकि, कुछ राज्‍यों में संक्रमण फैलने की रफ्तार चिंता का कारण बनी हुई है.

दुनियाभर में हर दिन सामने आने वाले कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए मरीजों की संख्‍या में कमी दर्ज की गई है. वहीं, भारत (India) में संक्रमितों की संख्‍या में हर दिन वृद्धि हो रही है. इनमें कुछ जिले बुरी तरह प्रभावित हुए हैं.

  • Share this:
दुनिया के सबसे ज्‍यादा कोरोना वायरस (Coronavirus) प्रभावित देशों में अब हालात धीरे-धीरे सुधरने लगे हैं. वहीं, भारत (India) में संक्रमितों की संख्‍या में लगातार तेजी से वृद्धि हो रही है. हालांकि, देश के सभी हिस्‍सों में नए मरीजों के सामने आने की रफ्तार एक जैसी नहीं है. इस बीच देश में सबसे ज्‍यादा प्रभावित केरल (Kerala) में नए मरीजों के सामने आने की रफ्तार घट गई है. हालांकि, महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में रोज बढते मरीज अभी भी समस्‍या बने हुए हैं. सरकार का ध्‍यान फिलहाल राज्‍यों (States) के बजाय 10 जिलों पर ज्‍यादा है. दरअसल, पूरे देश में कुल संक्रमितों के 30 फीसदी से ज्‍यादा मरीज इन्‍हीं 10 जिलों में हैं.

तबलीगी जमात के 25 हजार से ज्‍यादा लोग किए क्‍वारंटीन
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय (Health Ministry) के मुताबिक, देश में संक्रमितों की संख्‍या में तेजी से हो रही वृद्धि के लिए तबलीगी जमात (Tablighi Jammat) जिम्‍मेदार है. देश भर में 25,000 से ज्‍यादा तबलीबी जमात के सदस्‍यों को क्‍वारंटीन किया गया है. देश में 6 अप्रैल तक कोरोना वायरस के 4,200 से ज्‍यादा पॉजिटिव केस सामने आ चुके थे. इनमें 1,445 लोग वो हैं, जो दिल्‍ली (Delhi) के निजामुद्दीन इलाके में हुए तबलीगी जमात के मरकज में शामिल हुए थे. मरकज ठीक उसी समय हुआ जब देश में संक्रमण फैल रहा था. इसके बाद मरकज में शामिल हुए काफी लोग देश के अलग-अलग हिस्‍सों में भी गए. सरकार का कहना है कि इनमें काफी लोगों ने संक्रमण को आगे फैलाया.

आईसीएमआर ने बताया कि अगले कुछ हफ्तों में कोरोना टेस्‍ट की संख्‍या 1,00,000 प्रतिदिन कर दी जाएगी.




कुछ हफ्तों में हर दिन किए जाएंगे 1,00,000 कोरोना टेस्‍ट


एक स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी (Health Officer) ने बताया कि कोरोना टेस्‍ट (Corona Test) की संख्‍या में भी दोगुना इजाफा कर दिया है. बीते तीन में टेस्‍ट की संख्‍या हर दिन 10,000 कर दी गई है. टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने बताया कि अगले तीन दिन में कोरोना टेस्‍ट की संख्‍या बढाकर 20,000 कर प्रतिदिन कर दी जाएगी. हालात बिगड़ने पर टेस्‍ट की संख्‍या को अगले कुछ हफ्तों में एक दिन में 1,00,000 तक पहुंचा दिया जाएगा. पड़ोसी देश पाकिस्‍तान (Pakistan) और अफगानिस्‍तान (Afghanistan) का हाल भी काफी कुछ भारत जैसा ही है. हालांकि, इस मामले में श्रीलंका (Sri Lanka) का प्रदर्शन काफी बेहतर है.

केरल में संक्रमण के नए मामले सामने की रफ्तार घट गई है
पाकिस्‍तान में अब तक संक्रमितों की संख्‍या 3,918 हो गई है, जिनमें 54 लोगों की मौत हो चुकी है. पाकिस्‍तान के पंजाब (Punjab) प्रांत के हालात सबसे खराब है. यहां संक्रमितों की संख्‍या 1,500 पहुंच गई है, जबकि प्रांत में लॉकडाउन (Lockdown) लगा दिया गया था. अफगानिस्‍तान में अब तक 423 संक्रमितों में 11 लोगों की मौत हो चुकी है. अगर भारत में नए मामले सामने की दर इसी तरह बढती रही तो अगले हफ्ते तक देश में संक्रमितों की संख्‍या 17,000 से ज्‍यादा हो जाएगी. हालांकि, इस बीच सुकून देने वाली खबर सिर्फ इतनी सी है कि केरल में पिछले हफ्ते नए मामले (New Coronavirus Cases) सामने की दर कम हो गई है.

दुनियाभर में नए मामले आने की रफ्तार म हो गई है. माना जा रहा है कि ये सिर्फ लॉकडाउन लागू किए जाने के कारण संभव हुआ है.


देश भर में इन जिलों को घोषित किया गया कोरोना हॉटस्‍पॉट
महाराष्‍ट्र (Maharashtra), तमिलनाडु (Tamil Nadu) और दिल्‍ली में हालात दिन-ब-दिन खराब होते जा रहे हैं. तेलंगाना (Telangana), उत्‍तर प्रदेश (UP) और राजस्‍थान (Rajasthan) में भी हालात खराब हैं, लेकिन बहुत बुरे नहीं हैं. केरल, जम्‍मू-कश्‍मीर और कर्नाटक में संक्रमण की रफ्तार काफी धीमी है. महाराष्‍ट्र में सतारा, केरल में कन्नूर व कासरगोड, कर्नाटक में बेंगलुरु ग्रामीण व मैसूर, गुजरात में अहमदाबाद व सुरेंद्रनगर, राजस्‍थान में जोधपुर व जयपुर, आंध्र प्रदेश में गुंटूर व चित्तूर, मध्‍य प्रदेश में इंदौर, उत्‍तर प्रदेश में नोएडा, मेरठ व हापुड़, हरियाणा में गुरुग्राम कोरोना हॉटस्पॉट्स (Corona Hotspot) पाए गए हैं. राजस्‍थान के भीलवाड़ा में तेजी से संक्रमितों की पहचान हुई. इसके बाद शहर की सीमाओं को सील कर दिया गया. अब वहां भी हालात पहले से बेहतर हैं.

पूरी दुनिया में हालात सुधरे, नए मरीजों का सामने आना घटा
दुनियाभर में 9 मार्च को 1,00,000 से ज्‍यादा संक्रमित लोगों की पहचान हुई थी. इस समय ये संख्‍या 12 गुना ज्‍यादा होकर 13 लाख के पार निकल गई है. हालांकि, अच्‍छी खबर ये है कि दुनियाभर में नए मामले सामने आने की रफ्तार कुछ कम हो गई है. माना जा रहा है कि ये सिर्फ लॉकडाउन लागू किए जाने के कारण संभव हुआ है. अमेरिका (America) से पहले दुनिया में सबसे बुरी तरह प्रभावित इटली (Italy) में 5 अप्रैल को 525 लोगों की मौत हुए, जो 4 अप्रैल की 681 से कम रही. अब तक दुनियाभर में 75,000 से ज्‍यादा लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि, बीते 4 हफ्ते के डाटा का आकलन करने पर पता चलता है कि संक्रमण का सबसे बुरा दौर खत्‍म हो चुका है.



ये भी देखें:

Good News: हैरी पॉटर की लेखक ने घर पर ही ऐसे ठीक कर लिए कोरोना वायरस के लक्षण

Coronavirus: जानें अपने नागरिकों को कितने पैसे और भत्‍ते दे रहे हैं सभी देश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 7, 2020, 6:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading