जानें एशिया के मुकाबले अमेरिका और यूरोप में ज्यादा जानलेवा साबित क्‍यों हुआ कोरोना?

जानें एशिया के मुकाबले अमेरिका और यूरोप में ज्यादा जानलेवा साबित क्‍यों हुआ कोरोना?
Demo pic

एशियाई देशों (Asia) के मुकाबले अमेरिका (US) और यूरोप (Europe) में कोरोना वायरस के कारण मरने वालों की संख्‍या (Mortality rate) काफी ज्‍यादा है. वैज्ञानिक और शोधकर्ता इस बड़े फर्क के लिए कई चीजों को जिम्‍मेदार मान रहे हैं.

  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से एशियाई देशों (Asia) के मुकाबले उत्‍तरी अमेरिका (US) और पश्चिमी यूरोप (Europe) में ज्‍यादा मौतों की वजह अब तक रहस्‍य ही बनी हुई है. दुनियाभर में संक्रमितों की जांच की अलग रणनीति, गणना के अलग तरीके और बताए जा रहे पुष्‍ट मामलों की संख्‍या पर उठे सवालों के बीच दुनियाभर में मृत्‍यु दर (Mortality Rate) में बड़े अंतर ने वैज्ञानिकों व शोधकर्ताओं को सोचने पर मजबूर कर दिया है.

वैज्ञानिकों का मानना है कि एशिया में ज्‍यादातर देशों ने खतरे को भांपते हुए समय रहते सोशल डिस्‍टेंसिंग (Social Distancing) और लॉकडाउन (Lockdown) जैसे नियमों को बड़े पैमाने पर लागू किया. इससे एशिया में मृत्‍यु दर कम रही है. हालांकि, वैज्ञानिक और शोधकर्ता इसके अलावा लोगों के जेनेटिक्‍स (Genetics), इम्‍यून सिस्‍टम (Immune System), अलग वायरस स्‍ट्रेंस (Virus Strains) में अंतर जैसे दूसरे पहलुओं पर भी काम कर रहे हैं.

प्रति 10 लाख लोगों पर मरने वालों के आंकड़ों में बड़ा अंतर
चीन के वुहान (Wuhan) शहर में सबसे पहले दिसंबर 2019 में कोरोना वायरस फैलना शुरू हुआ. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, चीन (China) में अब तक 5,000 से कम लोगों की कोरोना वायरस (COVID-19) से मौत हुई है. इस आधार पर चीन में प्रति 10 लाख लोगों पर 3 लोगों की मौत हुई है. वहीं, जापान में ये आंकड़ा 7 लोगों की मौत का है. वियतनाम, कंबोडिया और मंगोलिया का कहना है कि उनके यहां कोविड-19 से एक भी व्‍यक्ति की मौत नहीं हुई है.
अब अगर जर्मनी का आंकड़ा देखें तो वहां हर 10 लाख लोगों में करीब 100 लोगों की कोविड-19 से मौत हुई है. वहीं, प्रति 10 लाख लोगों पर कनाडा में 180, अमेरिका में करीब 300 और ब्रिटेन, इटली व स्‍पेन में 500 से ज्‍यादा लोगों की मौत हुई है. जापान की Chiba University के वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस से निपटने की योजना और दूसरे कारणों से पहले सभी क्षेत्रों के भौगोलिक अंतर पर विचार करना जरूरी है.



सभी देशों के टेस्टिंग, रिपोर्टिंग और कंट्रोल करने के तरीकों में काफी अंतर है. इसके अलावा अलग-अलग देशों में हाइपरटेंशन, क्रॉनिक लंग्‍स डिजीज की दर में भी बड़ा अंतर है.


शुरुआत में अपनाए उपायों और अनदेखी से बदली तस्‍वीर
कोलंबिया यूनिवर्सिटी में महामारी विशेषज्ञ जेफरी शमन का कहना है कि सभी देशों के टेस्टिंग, रिपोर्टिंग और कंट्रोल करने के तरीकों में काफी अंतर है. इसके अलावा अलग-अलग देशों में हाइपरटेंशन, क्रॉनिक लंग्‍स डिजीज की दर में भी बड़ा अंतर है. अमेरिका और पश्चिमी यूरोप में ऊंची मृत्‍यु दर का बड़ा कारण शुरुआत में वैश्विक महामारी के खतरों को नजरअंदाज करना भी माना जा रहा है.

वहीं, एशियाई देशों ने सार्स और मर्स के अनुभवों के आधार पर कोरोना वायरस फैलना शुरू होने के साथ ही रोकथाम के ठोस कदम उठा लिए थे. इनमें वुहान से आने वाले हवाई यात्रियों की स्‍क्रीनिंग भी शामिल थी. दक्षिण कोरिया ने शुरुआत में ही टेस्टिंग, ट्रेसिंग और आइसोलेट करने की व्‍यापक योजना पर काम करना शुरू कर दिया था. लेकिन, जापाान और भारत में मृत्‍यु दर कम रहने पर वैज्ञानिक आश्‍चर्य में हैं. पाकिस्‍तान और फिलीपींस को लेकर भी वैज्ञानिकों की सोच कुछ ऐसी है.

गर्म और आर्द्र मौसम की भी रही है मृत्‍यु दर में भूमिका
वैज्ञानिकों का मानना है कि कंबोडिया, वियतनाम और सिंगापुर में गर्म व आर्द्र मौसम (Hot and Humid Weather) की कम मृत्‍यु दर में अहम भूमिका हो सकती है. कुछ अध्‍ययनों से पता चला था कि गर्मी और उमस कोरोना वायरस के फैलने की रफ्तार को कम कर सकती हैं. साथ ही इससे वायरस की लोगों को गंभीर तौर पर बीमार करने की क्षमता भी घट सकती है. हालांकि, इसके उलट इक्‍वाडोर (Ecuador) और ब्राजील (Brazil) में कोविड-19 की वजह से काफी मौतें हुईं.

वाशिंगटन पोस्‍ट की रिपोर्ट के मुताबिक, शोधकर्ताओं का मानना है कि जनसांख्यिकी (Demography) की भी इसमें भूमिका है. अफ्रीका (Africa) की युवा आबादी की रोगप्रतिरोधी क्षमता इटली (Italy) के बुजुर्गों के मुकाबले वायरस से लड़ने में ज्‍यादा प्रभावी रही है. वहीं, दुनिया की सबसे ज्‍यादा बुजुर्ग आबादी वाले जापान (Japan) में कम मृत्‍यु दर के दूसरे कारण हो सकते हैं. जापान में हमेशा से साफ-सफाई पर विशेष ध्‍यान देने के कारण संक्रमण बहुत तेजी से नहीं फैला.

corona virus update, covid 19 update, infectious decease, lethal virus, global infection, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, संक्रामक रोग, संक्रमण कैसे फैलता है, जानलेवा वायरस
पूर्वी एशिया से निकलकर यूरोप पहुंचने तक वायरस में कई बार म्‍यूटेशन हो चुका था यानी उसके स्‍ट्रेंस में बदलाव हो चुका था.


वायरस के म्‍यूटेशन से भी मृत्‍यु दर में आया काफी अंतर
जापान के लोगों ने जल्‍द ही फेस मास्‍क (Face Mask) का इस्‍तेमाल करना भी शुरू कर दिया था, जबकि वहां के लोग हाथ मिलाने से अमूमन परहेज ही करते हैं. साथ ही वैश्विक महामारी के दौरान जापान में बुजुर्गों की सेहत का विशेष ध्‍यान भी रखा गया. इससे वहां मृत्‍यु दर कम रही. इसके अलावा वायरस के म्‍यूटेशन (Mutation) के कारण भी अलग-अलग देशों में मृत्‍यु दर अलग रही है. कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की एक टीम के शोध में पाया गया कि पूर्वी एशिया से निकलकर यूरोप पहुंचने तक वायरस में कई बार म्‍यूटेशन हो चुका था यानी उसके स्‍ट्रेंस (Virus Strains) में बदलाव हो चुका था.

शोध रिपोर्ट में संभावना जताई गई थी कि पूर्वी एशिया के लोगों के बड़े धड़े का इम्‍यून सिस्‍टम (Immune System) शुरुआती स्‍ट्रेंस से मुकाबले के लिए तैयार हो चुका था. टीम के मुताबिक, विभिन्‍न वायरस के स्‍ट्रेंस के अलग-अलग जगह की आबादी पर असर को लेकर बहुत कम जानकारी है. अभी बदलते स्‍ट्रेंस के कारण मृत्‍यु दर पर असर का आकलन किया जाना जरूरी है.

जींस और मोटापे में अंतर के कारण भी मृत्‍यु दर अलग
जापान के फिजीशियन-साइंटिस्‍ट, इम्‍यूनोलॉजिस्‍ट और नोबेल पुरस्‍कार विजेता सुकू होंजो (Tasuku Honjo) के मुताबिक, एशियाई व यूरोपीय लोगों में ह्यूमन ल्‍यूकोसाइट एंटीजन (HLA), जींस (Genes) और वायरस के खिलाफ रोगप्रतिरोधी प्रणाली की प्रतिक्रिया के आधार पर काफी अंतर होता है. इससे एशियाई देशों में कम मृत्‍यु दर को समझने में आसानी हो सकती है. हालांकि, उनका कहना है कि एशिया में कम मृत्‍यु दर का ये अकेला कारण नहीं हो सकता है. मृत्‍यु दर में अंतर को समझने के लिए विभिन्‍न पहलुओं पर अध्‍ययन की जरूरत है.

कोरोना वायरस से मृत्‍यु दर में अंतर के लिए मोटापे (Obesity) को भी जिम्‍मेदार माना जा रहा है. वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं का कहना है कि एशिया में पश्चिमी देशों के मुकाबले मोटापे की समस्‍या काफी कम है. कुछ अध्‍ययनों में पाया गया कि मोटे लोगों को कोविड-19 के कारण मौत की आशंका ज्‍यादा होती है. आंकड़ों पर नजर डालें तो जापान में महज 4 फीसदी और दक्षिण कोरिया में 5 फीसदी लोगों को ही मोटापे का शिकार माना जाता है. वहीं, वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन के मुताबिक, पश्चिमी यूरोप में 20 फीसदी और अमेरिका में 36 फीसदी लोग इस श्रेणी में रखे गए हैं.

ये भी देखें:

फूंक मारने पर 1 मिनट में रिजल्‍ट देगी ये कोरोना टेस्‍ट किट, बिना लक्षण वालों की भी करेगी सटीक जांच

आखिर क्‍यों नेहरू ने चीन के खिलाफ पाक की संयुक्‍त रक्षा समझौते की पेशकश ठुकरा दी थी?

जानें वीर सावरकर पर अंतरराष्‍ट्रीय अदालत 'हेग' में क्‍यों चलाया गया था मुकदमा

Fact Check: क्‍या धूप में खड़ी कार में सैनेटाइजर की वजह से लग सकती है आग?

क्या वाकई भारत में ज्यादातर कोरोना रोगी हो रहे हैं ठीक और दुनिया में सबसे कम है मृत्यु दर

टिड्डियों का हमला : बरसों से मिलकर लड़ रहे हैं भारत और पाकिस्‍तान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading