लाइव टीवी

लोगों के साथ अलग-अलग बर्ताव कर रहा है कोरोना वायरस, जानिए क्यों हो रहा है ऐसा

Vikas Sharma | News18Hindi
Updated: April 5, 2020, 11:23 AM IST
लोगों के साथ अलग-अलग बर्ताव कर रहा है कोरोना वायरस, जानिए क्यों हो रहा है ऐसा
वैज्ञानिकों ने पाया है कि कोरोना वायरस लोगों को अलग-अलग तरह से प्रभावित कर रहा है.

कोरोना वायरस (Corona Virus) लोगों पर अलग-अलग तरह से असर दिखा रहा है. कुछ लोगों को यह आसानी से मार रहा है तो कइयों को पता ही नहीं है कि वे इससे संक्रमित हैं. यह वैज्ञानिकों के लिए हैरानी की बात है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 5, 2020, 11:23 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona virus) को लेकर दुनिया भर में हर तरफ शोध हो रहे हैं. इसके इलाज और टीकों के लेकर तरह तरह के दावे किए जा रहे हैं. वहीं इस बीमारी के लक्षणों से लेकर इसके फैलने के तरीके पर भी शोध कम नहीं हो रहे हैं. एक शोध में पाया गया है कि कोरोना वायरस लोगों को अलग-अलग तरह से प्रभावित कर रहा है.

अलग-अलग तरह से लोगों पर असर कर रहा है कोरोना
अमेरिका में हुए एक शोध में पाया गया है कि यह बीमारी अलग-अलग लोगों को अलग तरह से असर कर रही है. अभी तय यह निश्चित तौर पर माना गया है कि यह उम्रदराज लोगों में ज्यादा घातक है और  उन लोगों में भी जो लंबे समय से सांस की बीमारी, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, कमजोर प्रतिरोधी क्षमता जैसी समस्याओं से ग्रसित हैं.

कैसा असर दिखा रहा है कोरोना



वहीं यह भी देखा गया है कि कई लोग ऐसे भी जो कम उम्र में भी मारे गए इसमें 25 से लेकर 32 साल की उम्र वाले भी शामिल हैं.  लॉस एंजेलिस टाइम्स के लेख के अनुसार कोरोना वायरस का असर लोगों में अलग अलग तरह से हो रहा है. वैज्ञानिक अध्ययन के मुताबिक करीब 20 प्रतिशत और उससे भी ज्यादा लोगों में यह पाया गया कि संक्रमित होने के बाद भी उनमें कभी कोई लक्षण विकसित नहीं हुए.



Corona, corona virus, punjab, chandigarh,
कोरोना वायरस अधिक उम्र के लोगों के लिए ज्यादा घातक साबित हो रहा है.


कइयों को तो पता नहीं है कि वे संक्रमित भी हैं
इन लोगों में सूखी खांसी, बुखार और दर्द के लक्षण  तो नहीं मिल रहे हैं लेकिन उनसे वायरस दूसरे लोगों में जरूर फैल रहा है. इसी वजह से अमेरिका के सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने लोगों को घर से बाहर जाते समय मास्क पहनने की सलाह दी है. ऐसा इसलिए कहा गया है जिससे उन लोगों से वायरस न फैले जिन्हें पता भी नहीं है कि वे संक्रमित हैं.

इस मामले में भी शोध तेजी से चल रहा है
यह हैरानी की बात है कि वायरस लोगों को अलग-अलग तरह से प्रभावित कर रहा है. जहां कई लोग बहुत जल्दी इस बीमारी से मर रहे हैं तो वहीं कई लोग इससे यह भी नहीं जान पा रहे हैं कि इससे संक्रमित भी हैं. संक्रमण रोग विशेषज्ञ डॉ ओटो यांग और डॉ एडवर्ड जोंस लोपेज ने इस मामले में कुछ रोशनी डाली है उनका कहना है कि इस मामले में शोधकार्यों में बाढ़ आ गई है. जो हम जानते हैं वह करीब हर घंटे में बदल रहा है.

कैसे संक्रमित करता है वायरस
नोवल कोरना वायरस अन्य वायरस की तरह एक जेनेटिक जानकारी का हिस्सा है जो कोशिका मं घुसता है और उसकी कार्यप्रणाली पर कब्जा कर लेता है जिसके बाद कोशिका अपने खुद के जेनेटिक सामग्री की जगह वायरस की जेनेटिक सामग्री बनाने लगता है. यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि सभी तरह के संपर्क से संक्रमण नहीं होता बल्कि कुछ संक्रमण होने का मतलब है कि वायरस ने ऐसी कोशिका ढूंढ ली है जिसे वह संक्रमित कर सकता है. इसके बाद वह बढ़ने लगता है.

Corona viurs
कई लोगों को पता भी नहीं है कि वे कोरोना संक्रमित हैं.


लोगों को कैसे बीमार करता है कोरोना
ऐसा दो तरह से होता है. पहले लोगों को बुखार और खांसी के साथ अन्य लक्षण होते हैं. इस दौरान वायरस सीधा नुकासान पहुंचाते हुए फेफड़ों की कोशिकाओं (Cells) को संक्रमित कर देता है. कुछ मरीज यहां से ठीक हो जाते हैं, लेकिन कुछ की हालत गंभीर होने लगती है. यहां मरीज की प्रतिरोधी क्षमता वायरस पर तेजी से काम करती है. इस दौरान मरीज की जान भी जा सकती है.

बहुत से लोग अलग तरह से बीमार पड़ रहे हैं
आंकड़े बताते हैं कि  संक्रमित लोगों में से आधे लोग में लक्षण सामने नहीं आ रहे हैं या बहुत ही कम लक्षण दिख रहे हैं और उन्हें पता भी नहीं चल रहा है कि वे संक्रमित हैं. बाकी में 30 प्रतिशत हलके लक्षण दिखा रहे हैं.  बाकी लोगों में गंभीर लक्षण दिख रहे हैं और यही लोग अस्पताल पहुंच रहे हैं.

वायरस लोगों को इतनी विविधता से क्यों प्रभावित कर रहा है
यह अभी दावे से नहीं कहा जा सकता कि ऐसा क्यों है. हां डायबिटीज, हृदय संबंधी रोग, फेफड़ों की बीमारी और उम्र बहुत बड़े जोखिम हैं. फिर भी ये मरने वालों की दर में कैसे योगदान दे रही है यह साफ नहीं हुआ है. हो सकता है यहां भी एक ही तरह से असर नहीं हो रहा हो. यहां उम्र भी स्पष्ट तौर पर निर्णायक कारक नहीं हैं. बूढ़े लोग बाकी  बीमारियों को जल्दी लगती हैं इसीलिए वे ठीक नहीं हो पा रहे हैं.

corona
कोरोना के बारे में हर घंटे में नई जानकारी सामने आ रही है.


लेकिन कई स्वस्थ लोग भी तो बहुत बीमार हो रहे हैं
यही समस्या है हो सकता है कि यह इस पर निर्भर करता हो कि लोगों का इम्यून सिस्टम कैसे प्रतिक्रिया कर रहा हो. ऐसा लगता है कि इन्यून सिस्टम पुलिस और वायरस अपराधी की तरह काम कर रहा है. अगर पुलिस अपराधी को आसानी से नहीं पकड़ पाती है तो उससे लोगों को नुकसान पहुंचता है. ऐसा ही ज्यादा बीमार लोगों में दिख रहा है.

पूरी जानकारी नहीं है अभी
हैरानी की बात यही है कि यह बच्चों में उतना गहरा असर नहीं दिखा रहा है. ऐसा बाकी वायरस के साथ नहीं  होता है. इससे शायद बाद में कुछ मदद मिले. अभी कुछ ही समय हुआ है हो सकता है कि शायद अगले छह महीने में हमारे पास ज्यादा और काम की जानकारी हो. पूर्वानुमान लगाना बहुत मुश्किल होता है, लेकिन एक दो सालों में हमारे पास अच्छी खबर होगी, यह तय है.

यह भी पढ़ें:

क्या है इम्युनिटी सर्टिफिकेट, जिसे लेकर लॉकडाउन में भी निकल सकते हैं बाहर

Coronavirus: इक्वाडोर के इस शहर में सड़कों पर ही छोड़ दी जा रही हैं लाशें

आज का इतिहास: रानी लक्ष्‍मीबाई को झांसी छोड़कर जाना पड़ा था ग्‍वालियर

समुद्र के नीचे गहरी चट्टानों में मिले Bacteria, मंगल पर जीवन की जगी आस

Coronavirus: आईआईटी रुड़की ने बनाया सस्‍ता पोर्टेबल वेंटिलेटर, जानें खासियत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 5, 2020, 11:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading