लाइव टीवी

कोरोनो वायरस के शक में दी जान, अफवाहों से बचें और ऐसे रखें खुद को संक्रमण से सुरक्षित

News18Hindi
Updated: February 12, 2020, 12:56 PM IST
कोरोनो वायरस के शक में दी जान, अफवाहों से बचें और ऐसे रखें खुद को संक्रमण से सुरक्षित
कोरोना वायरस से संक्रमित होने के शक में आंध्र प्रदेश में एक शख्स ने खुदकुशी कर ली

कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर पूरी दुनिया दहशत में है. लेकिन ऐसे वक्त में पैनिक के बजाए कुछ एहतियात बरतने की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2020, 12:56 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर अब चिंताजनकर खबरें सामने आ रही हैं. इस बीमारी का खौफ इतना बढ़ गया है कि बीमारी होने का शक होने भर से एक आदमी ने खुदकुशी (Suicide) कर ली. आंध्रप्रदेश (Andhra Pradesh) के कोरोना वायरस से पीड़ित होने के शक में अपनी ही जान लेने का मामला हैरान करने वाला है. आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के रहने वाले कृष्णाहद को शक हो गया था कि वो कोरोना वायरस से संक्रमित है. इस बीमारी के संक्रमण से अपने परिवार को बचाने के लिए उसने घर से दूर जाकर पेड़ से फांसी लगाकर जान दे दी.

कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया दहशत में है. लेकिन ऐसे वक्त में पैनिक के बजाए कुछ एहतियात बरतने की जरूरत है. इस बात में कोई शक नहीं है कि कोरोना वायरस एक भयानक महामारी का रूप ले चुका है. इसकी चपेट में आकर चीन में हजारों लोगों की जान जा चुकी है. सबसे खतरनाक बात ये है कि अभी तक कोरोना वायरस का इलाज तक नहीं ढूंढ़ा जा सका है.

हालांकि इतना सब होने के बाद भी कोरोना वायरस को लेकर पैनिक करने के बजाए बचाव के उपाय पर विचार करना चाहिए, ताकि जिस भ्रम का शिकार होकर आंध्र प्रदेश के एक शख्स ने जान दी. वैसे मामले सामने न आएं.

कोरोना वायरस को लेकर अफवाहों से बचें

सबसे पहली बात कोरोना वायरस को लेकर अफवाहों से बचना चाहिए. कोरोना वायरस चीन के शहर वुहान से फैला है. चीन में ये सबसे भयावह तौर पर सामने आया है. चीन से ही ये दूसरे देशों में भी फैला है. भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज सामने आए हैं. लेकिन इस वायरस का संक्रमण इतना ज्यादा नहीं है कि बहुत अधिक चिंता की जाए.

coronavirus outbreak avoid rumors and keep yourself safe by applying these who guidelines
भारत में केरल में कुछ संक्रमण के मामले सामने आए हैं


केरल में कोरोना वायरस के कुछ मरीज मिले हैं. संक्रमित मरीज वो हैं, जो कुछ दिनों पहले चीन से आए हैं. जैसे ही उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने का पता चला है, उन्हें तुरंत अलग-थलग कर दिया गया. वो मेडिकल टीम की देखरेख में हैं. सबसे बड़ी बात है कि भारत में इस वायरस से संक्रमित मरीज बहुत कम मिले हैं. सिर्फ केरल में ही कुछेक मामले सामने आए हैं. उनमें से भी इस बीमारी की वजह से किसी की मौत नहीं हुई है. इसलिए इस बीमारी को लेकर ज्यादा पैनिक करने की जरूरत नहीं है.क्या हैं कोरोना वायरस के लक्षण
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर इमरजेंसी घोषित की है. विश्व स्वास्थ्य संगठन लगातार इस बीमारी को लेकर पूरी दुनिया को जानकारी दे रहा है. WHO ने इस बीमारी के लक्षण और उससे बचाव के तरीकों की जानकारी भी दी है. कोरोना वायरस के लक्षण शुरू में बहुत सामान्य होते हैं. बाद में एक झटके में मरीज की हालत बिगड़ती है. बताया जा रहा है कि शुरुआत के 10-15 दिनों में मरीज को संक्रमण का पता ही नहीं चलता. इसी वजह से ये बीमारी तेजी से फैली है.

बीमारी के शुरुआती लक्षणों में- सांस लेने में थोड़ी तकलीफ़, खांसी या फिर बहती हुई नाक है. ये भी गौर करने वाली बात है कि कोरोना वायरस परिवार के ज्यादातर वायरस नुकसानदायक नहीं होते हैं. अगर कोई सामान्य कोरोना वायरस की चपेट में आता है तो तीन दिन से लेकर एक हफ्ते में ठीक हो जाता है, लेकिन कोरोना परिवार में छह सदस्य ऐसे रहे हैं, जिन्हें जानलेवा कहा जाता है.

अब नोवल कोरोना वायरस-2019 इस परिवार का सातवां घातक सदस्य है. इन्हीं घातक वायरस से सार्स (सिवियर एक्यूट रेसपिरेटरी सिंड्रोम) और मर्स (मिडल ईस्ट रेसपिरेटरी सिंड्रोम) जैसी बीमारियां फैली हैं. अब ये नई बीमारी फैल रही है.

coronavirus outbreak avoid rumors and keep yourself safe by applying these who guidelines
कोरोना वायरस को लेकर कुछ एहतियात बरतने की जरूरत है


कैसे होती है बीमारी की शुरुआत
कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों में शुरुआत बुखार से होती है. फिर सूखी खांसी. सांस में दिक्कत होने लगती है. नोवल कोरोना वायरस फेफड़ों को गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त करता है. इसके बाद रोगी की हालत बिगड़ जाती है.

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए क्या करें
कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए WHO ने कुछ गाइडलाइंस जारी किए हैं. इन उपायों को अपनाकर संक्रमण से बचा जा सकता है. ये रहे वो 10 उपाय-

1. दिन में कई बार साबुन से हाथ धोएं.
2. अपने हाथों से आंख, नाक और मुंह को बार-बार नहीं छुएं.
3. अपनी और परिवार की इम्युनिटी को बरकरार रखने वाली चीजों का सेवन करें.
4. खांसते और छींकते समय अपने मुंह और नाक को अच्छी तरह से ढंककर रखें.
5. खांसी, बुखार और जुकाम के लक्षण होते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.
6. सांस की किसी तकलीफ़ से संक्रमित मरीज़ों के क़रीब जाने से बचें. मास्क लगाएं.
7. किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के फौरन बाद, पालतू या जंगली जानवरों से दूर रहने की सलाह भी दी गई है.
8. कच्चा या अधपका मांस खाने से परहेज करें.
9. नियमित रूप से साफ-सफाई का ध्यान रखें
10. अगर बुखार और खांसी हो तो यात्रा से परहेज करें

इस संक्रमण पीड़ित मरीजों का इलाज करने वालों के लिए भी गाइडलाइन जारी की गई है. स्वास्थ्य कर्मी खुद संक्रमण का शिकार न हो, इसके लिए सभी एहतियाती उपाय करने चाहिए. गाउन, मास्क, दस्तानों के इस्तेमाल के अलावा अस्तपाल में संक्रमित मरीज़ों की गतिविधि पर नियंत्रण करने की भी सलाह दी गई है.

ये भी पढ़ें:

Delhi Election Results 2020: बिना किसी वादे के केजरीवाल ने कैसे जीता मुस्लिम वोटर्स का दिल
Delhi Results 2020: क्या पूर्वांचली वोटर्स फिर दे गए बीजेपी को गच्चा
Delhi Results 2020: इन रणनीतियों की वजह से केजरीवाल ने जीती दिल्ली
केजरीवाल के घर पहुंचा ये 'मफलरमैन' तो हैरान रह गए सब
क्यों दिल्ली में सबसे VVIP सीट है नई दिल्ली, जहां से बनते रहे हैं सीएम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 12:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर