लाइव टीवी

केरल से ही क्यों मिल रहे कोरोना वायरस के मरीज, कैसी है बीमारी से लड़ने की तैयारी

News18Hindi
Updated: February 4, 2020, 4:15 PM IST
केरल से ही क्यों मिल रहे कोरोना वायरस के मरीज, कैसी है बीमारी से लड़ने की तैयारी
केरल में कोरोना वायरस से संक्रमित तीन मरीज पाए गए हैं

केरल (Kerala) में कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है. विशेषज्ञ बताते हैं कि इसे केरल की महामारी से निपटने की क्षमता के बतौर देखा जाना चाहिए..

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2020, 4:15 PM IST
  • Share this:
भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) के पहले तीन मरीज केरल (Kerala) से मिले हैं. इन तीनों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. वैसे कुछ दूसरे राज्यो में भी कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज मिले हैं. लेकिन उनमें वायरस के संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है. पंजाब के फरीदकोट में भी कोरोना वायरस से संक्रमित एक संदिग्ध मरीज मिला है.

इन सबके बीच एक सवाल पैदा होता है कि आखिर केरल से ही कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज क्यों मिल रहे हैं? आखिर इसके पीछे क्या वजह है कि एक के बाद एक कोरोना वायरस के पॉजिटिव केसेज़ केरल से आ रहे हैं?

केरल से ही क्यों मिल रहे हैं कोरोना वायरस के मरीज
केरल में कोरोना वायरस को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है. विशेषज्ञ बताते हैं कि इसे केरल की महामारी से निपटने की क्षमता के बतौर देखा जाना चाहिए कि जैसे ही कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर खबर फैली, केरल की सतर्कता इतनी तेज थी कि उन्होंने तुरंत संक्रमण से पीड़ित पहले मरीज की पहचान कर ली.

केरल में इमिग्रेशन से लेकर पुलिस और लोकल पंचायत स्तर तक स्वास्थ्य को लेकर सतर्कता बरती जा रही है. 2018 में भी ऐसा ही हुआ था. 2018 में निपाह वायरस की वजह से केरल में 18 लोगों की मौत हो गई थी. हालांकि राज्य ने कई स्तर पर कार्रवाई करके बीमारी पर काबू पा लिया था.

coronavirus outbreak why virus infected cases so far found in kerala how are they preparing to fight the disease
केरल में कोरोना वायरस को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है


कोरोना वायरस की खबर मिलते ही अलर्ट हो गया केरलचीन ने जैसे ही कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर जानकारी जारी की, केरल का प्रशासन अलर्ट हो गया. विदेश से जो भी यात्री भारत आ रहे थे, उन्हें एयरपोर्ट पर हेल्थ कार्ड दिया जाने लगा. उसमें यात्री को अपना ट्रेवल डिटेल और स्वास्थ्य की जानकारी देनी थी.

हेल्थ डेस्क के पहली एंट्री पाइंट पर कार्ड को स्क्रीन किया जाता. क्लियरेंस मिलने के बाद ही उन्हें आगे इमिग्रेशन की तरफ जाने की अनुमति मिलती. अगर यात्री चीन या हॉन्गकॉन्ग से आ रहा होता है तो पहले उन्हें एक ट्रांजिट रूम में शिफ्ट किया जाता. जहां सबसे पहले उनके शरीर का तापमान लिया जाता. उनके संक्रमण की जांच की जाती

केरल ने कोरोना वायरस को लेकर ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल जारी किया है. संक्रमण से पीड़ित मरीज के लिए अलग प्रोटोकॉल फॉलो किया जाता है. लोगों के बीच कोरोना वायरस को लेकर जागरुकता भी फैलाई जा रही है. बीमारी को लेकर अफवाह या फेक न्यूज को लेकर प्रशासन सतर्क है.

केरल में हजारों लोगों पर रखी जा रही है निगरानी
केरल में कोरोना वायरस को लेकर प्रशासन अलर्ट पर है. सोमवार शाम तक के आंकड़ों के मुताबिक कुल 2,239 लोगों पर निगरानी रखी जा रही है. इनमें से 84 लोग अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं. हालांकि इनमें से बहुत कम के पॉजिटिव पाए जाने की संभावना है. स्वास्थ्य विभाग सतर्क है कि वायरस को फैलने से रोका जा सके.

केरल की स्वास्थ्य मंत्री के शैलजा ने बताया है कि बाकि के राज्य भी कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए केरल की व्यवस्था को लेकर जानकारी मांग रहे हैं. हम बीमारी से निपटने के प्रोटोकॉल के बारे में उन्हें जानकारी भी दे रहे हैं.

coronavirus outbreak why virus infected cases so far found in kerala how are they preparing to fight the disease
केरल में कोरोना वायरस के तीन पॉजिटिव केस मिले हैं.


राज्य के सभी 5 एयरपोर्ट को एंबुलेंस और इमरजेंसी हेल्थ सर्विस से जोड़ा गया है. जैसे ही किसी यात्री के बुखार या गला खराब होने की जानकारी मिलती है, उसे तुरंत संबंधित हॉस्पिटल में शिफ्ट किया जाता है और जिला के नोडल अधिकारी को इसकी जानकारी दी जाती है. इसके तुरंत बाद उस यात्री के परिजनों को इसकी जानकारी दी जाती है और मरीज को आइसोलेशन में रखा जाता है.

अगर मरीज के भीतर कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्षण नहीं दिखते हैं तो उन्हें घर भेज दिया जाता है. लेकिन इसके बाद उसका हेल्थ लगातार मॉनिटर किया जाता है. घरेलू उड़ान से आने वाले यात्रियों का भी हेल्थ चेकअप किया जा रहा है. लोग स्वेच्छा से भी हेल्थ सेंटर पर अपना चेकअप करवाने आ रहे हैं.

केरल में कोरोना वायरस को लेकर आपात स्थिति घोषित
केरल में कोरोना वायरस को लेकर आपात स्थिति घोषित हो चुकी है. 40 हजार से अधिकारी स्वास्थ्यकर्मी, सरकारी कर्मचारी और ग्राउंड स्टॉफ को वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लगाया गया है. केरल में वायरस के संक्रमण में पॉजिटिव पाए गए तीनों मरीज चीनी शहर वुहान से लौटे हैं. उन्हें तीन अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है. पिछले 3 दिनों में जो 80 लोग, उन तीन संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए हैं, उन्हें भी आइसोलेशन में रखा गया है.

ये भी पढ़ें:

चीन ने अगर ये 'गलती' नहीं की होती, तो इतना नहीं फैलता कोरोना वायरस

भारत में हर 10 में से एक आदमी को कैंसर का खतरा, 15 में से एक मरीज की होगी मौत

मांसाहारियों और शराबियों को टिकट नहीं देती थी ये पार्टी, कभी नहीं जीता एक भी कैंडिडेट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 4:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर