लाइव टीवी

कोरोना वायरस : आखिर चीन से ही क्यों फैलती हैं नई-नई महामारियां

News18Hindi
Updated: January 28, 2020, 12:45 PM IST
कोरोना वायरस : आखिर चीन से ही क्यों फैलती हैं नई-नई महामारियां
कोरोनावायरस से पीड़ित लोगों के मरने का आंकड़ा चीन में 100 के पार चला गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोरोना वायरस (Coronavirus) नाम की नई बीमारी ने दुनिया के कई हिस्सों को अपनी चपेट में ले लिया है. ये बीमारी चीन (China) से फैली है. सवाल उठ रहे हैं कि आखिर संक्रमण से फैलने वाली सारी घातक बीमारियां चीन से ही क्यों फैल रही हैं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2020, 12:45 PM IST
  • Share this:
चीन (China) से फैला कोरोना वायरस (Coronavirus) दर्जनों देशों को अपनी चपेट में ले चुका है. भारत में भी इसके कुछ संदिग्ध मामले सामने आए हैं. अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया, वियतनाम और सिंगापुर जैसे देशों में कोरानावायरस से पीड़ित मरीज मिले हैं. इस नई महामारी की वजह से चीन में मरने वालों का आंकड़ा सौ के पार चला गया है.

कोरोना वायरस एक नई महामारी है, जो चीन से फैली है. इसका संक्रमण तेजी से दुनियाभर के देशों में फैल रहा है. हाल के वर्षों में संक्रमण से फैलने वाली कई नई बीमारियां चीन से फैली हैं. इनमें सीवियर एक्यूट रेसपेरेट्री सिंड्रोम (सार्स) और बर्ड फ्लू जैसी बीमारियां शामिल हैं. अब कोरोना वायरस नाम की नई बीमारी ने कहर बरपा रखा है. सवाल है कि आखिर संक्रमण से फैलने वाली सारी घातक बीमारियां चीन से ही क्यों फैल रही हैं? आखिर क्या वजह है कि हर नई बीमारी का पहला वायरस चीन में मिलता है और वहां से ये पूरी दुनिया में फैल जाता है?

चीन के फूड मार्केट की वजह से फैल रही हैं नई बीमारियां
विशेषज्ञ बताते हैं कि चीन से नई-नई बीमारियों के फैलने की एक वजह वहां का फूड मार्केट है. चीन के शहरों में फल-सब्जी से लेकर मीट के मार्केट फैले हुए हैं. खासकर चीन के मांस के मार्केट नई बीमारियों की जड़ बनते जा रहे हैं. चीन में कई तरह के जानवरों के मांस मिलते हैं. चीन के लोग सांप-छिपकली से लेकर सीफूड के नाम पर कई तरह के समुद्री जीवों का मांस खाते हैं. चीन के शहरों में मीट के मार्केट में ये सब खुलेआम मिलता है. चीन के शहरों की घनी आबादी और वहां के मीट के मार्केट की वजह से वहां से नई-नई बीमारियां पनप रही हैं.

चीन के मांस के बाजार बीमारियों की जड़
चीन के मांस के बाजार नई और संक्रामक बीमारियों की जड़ हैं. हाल के वर्षों में ऐसी कई बीमारियां सामने आई हैं, जिसके वायरस जानवरों के मांस से आदमी के शरीर में आए हैं और फिर इनका संक्रमण तेजी से फैला है. एचआईवी (एड्स), सार्स और H1N1 इनफ्लुऐंजा ऐसी ही बीमारियां हैं.

coronavirus why new epidemics spread from china itself
कोरोनावायरस के मरीज चीन के अलावा दुनिया के कई हिस्सों में पाए गए हैं
वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की एक रिपोर्ट के मुताबिक जानवरों के मांस से फैले वायरस की वजह से दुनियाभर के करोड़ों लोग बीमार पड़ रहे हैं. इसकी वजह से हर साल लाखों मौतें हो रही हैं. संक्रमण से फैलने वाली बीमारियों में कुल 60 फीसदी बीमारियां जानवरों के जरिए फैल रही हैं. पिछले तीन दशक में 30 नई संक्रामक बीमारियों का पता चला है. इनमें से 75 फीसदी संक्रामक बीमारियों के वायरस जानवरों से आदमियों में आए हैं.

चीन में बड़े पैमाने पर होती है एनिमल फार्मिंग
विशेषज्ञ बताते हैं कि मीट मार्केट में जानवरों के मांस और ब्लड का ह्यूमन बॉडी से संपर्क होता रहता है. ये वायरस के फैलने की सबसे बड़ी वजह है. खासकर हाईजीन में थोड़ी भी चूक वायरस के फैलने में मददगार साबित होती है. ये कहीं भी हो सकता है. मसलन इबोला नाम का वायरस अफ्रीका से पूरी दुनिया में फैला. इबोला के वायरस चिंपाजी से ह्यूमन बॉडी में आए थे. अफ्रीका में चिंपाजी को मारकर खाने की वजह से वायरस आदमी के शरीर में पहुंचा और फिर संक्रमण की वजह से ये पूरी दुनिया में फैला.

विशेषज्ञ बताते हैं कि पूरी दुनिया में मांस का कारोबार बढ़ रहा है. जंगल कम हो रहे हैं और जानवरों की फार्मिंग बढ़ रही है. इसकी वजह से जंगली जानवरों के वायरस फार्मिंग वाले जानवरों में आ जाते हैं. वहां से ये वायरस आदमी के शरीर में पहुंच जाते हैं.

चीन के मीट मार्केट में कई तरह के जानवरों के मांस मिलते हैं. इसलिए वहां से नए-नए वायरस तेजी से फैल रहे हैं. संक्रामक वायरस होने की वजह से ये पूरी दुनिया में फैल जाते हैं. मसलन भारत में भी कोरानावायरस के कुछ संदिग्ध मरीज मिले हैं. ये मरीज वो छात्र हैं, जो चीन में मेडिकल की पढ़ाई करने गए थे. वहां से संक्रमण लेकर वो भारत पहुंच गए. इसी तरह से ये बाकी देशों में फैलता है.

coronavirus why new epidemics spread from china itself
भारत में भी कोरोनावायरस के कुछ संदिग्ध मरीज मिले हैं


चीन के शहरों की घनी आबादी भी एक वजह
चीन की आबादी करीब 140 करोड़ है. दुनियाभर का करीब 50 फीसदी पशुधन (Livestock) चीन के पास है. इसकी वजह से जानवरों से आदमी के शरीर में पहुंचने वाले वायरस को मनमुताबिक वातावरण मिल जाता है. चीन का दुनिया के बाकी देशों के साथ संपर्क भी ज्यादा है. चीन का एयर नेटवर्क मजबूत है. इसकी वजह से चीन से संक्रमण तेजी से दुनिया के बाकी हिस्सों में फैल जाता है.

सार्स महामारी नवंबर 2002 में चीन से ही फैली थी. सबसे पहले दक्षिणी चीन के गुआंगडॉन्ग इलाके से इसका वायरस मिला था. चीन से ही कई तरह के बर्ड फ्लू फैले. 2013 में चीन से ही H7N9 एवियन इनफ्लुऐंजा फैला. 2018 में चीन के जियांग्शु प्रांत से H7N4 वायरस से पीड़ित मरीज मिला. 2019 में चीन के शीनजियांग प्रांत से ही H5N6 बर्ड फ्लू फैला.

विशेषज्ञ बता रहे हैं कि चीन के उन्हीं इलाकों से ये बीमारियां फैल रही हैं, जहां की आबादी घनी है. घनी आबादी की वजह से संक्रमण तेजी से फैलता है और फिर ये दुनिया के कई हिस्सों को अपनी चपेट में ले लेता है. पिछले कुछ वर्षों में संक्रामक बीमारियों के फैलने का तकरीबन यही पैटर्न रहा है.

ये भी पढ़ें:-

लाला लाजपत राय ने रखी थी पहले स्वदेशी बैंक की नींव

चीन के रुख के कारण ही दुनियाभर में महामारी बन रहा है कोरोना वायरस

न्यूजीलैंड का 11 साल का लड़का है दुनिया में सबसे कम उम्र का पिता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 12:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर