Home /News /knowledge /

Covid-19: सामान्य सर्दी जुकाम कैसे कर सकता है कोरोना से बचाव

Covid-19: सामान्य सर्दी जुकाम कैसे कर सकता है कोरोना से बचाव

सामान्य जुकाम (Common cold) और कोविड-19 में काफी अंतर होता है, लेकिन फिर भी जुकाम का प्रतिरोध  कोविड संक्रमण में काम आ सकता है.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

सामान्य जुकाम (Common cold) और कोविड-19 में काफी अंतर होता है, लेकिन फिर भी जुकाम का प्रतिरोध कोविड संक्रमण में काम आ सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

कोरोना वायरस (Coronavirus) का इलाज खोजने की दिशा में चल रहे बहुत से शोधों में एक शोध में अनोखी बात पता चली है. इस अध्ययन में पता चला है की सामान्य सर्दी जुकाम (Common Cold) से पैदा हुई प्रतिरोधक क्षमता कोविड-19 के संक्रमण से लड़ने में कुछ हद तक सहयाक होती है. लंदन में हुए इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने यह जानने का प्रयास किया था कि क्या जुकाम के वायरस से पैदा हुई प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) कोरोना वायरस के लिए काम आ सकती है या नहीं.

अधिक पढ़ें ...

    कोरोना वायरस (Covid-19) के नए वेरिएंट लोगों की चिंता बढ़ा रहे हैं. इसके के साथ ही इस बार एक से ज्यादा वायरस के हमले भी परेशान कर रहे हैं. डेल्टा और ओमिक्रॉन के मिश्रण के साथ फ्लू और कोरोना दोनों के वायरस का एक साथ हमला भी सुनने को मिल रहा है. इसी बीच एक अध्ययन से पता चला है कि समान्य सर्दी जुकाम (Common Cold) में हमारे शरीर की प्रतिरोधक प्रणाली (Immune System) की सक्रियता कोविड-19 के संक्रमण से कुछ हद तक सुरक्षा प्रदान कर रही है. शोधकर्ताओं ने अपने नतीजों की पुष्टि करने के बावजूद चेताया है कि इसके बाद भी यह कहना सही नहीं होगा कि इससे कोविड-19 पूरी तरह से ठीक हो जाएगा या वैक्सीन की जरूरत नहीं होगी.

    खास तरह की प्रतिरोधक क्षमता?
    नेचर कम्यूनिकेशन में प्रकाशित इस छोटे स्तर पर किए अध्यनन में 52 लोगों को शामिल किया गया था जो उन लोगों के पास रह रहे थे जिन्होंने हाल ही में कोविड-19 संक्रमण हुआ था. इस अध्ययन में बताया गया है कि वे लोग जिन्होंने सामान्य सर्दी जुकाम से पीड़ित होने के बाद खास तरह की प्रतिरोधक कोशिकाओं की यादें विकसित कर ली हैं. उन्हें कोविड-19 संक्रमण से लड़ने में इनसे मदद मिलती है.

    इसी पर भरोसा ठीक नहीं
    विशेषज्ञों का स्पष्ट रूप से कहना है कि किसी को भी इस तरह के रक्षा तंत्र पर ही अकेले भरोसा नहीं करना चाहिए और वैक्सीन की भूमिका इस दौरान बहुत महत्व रखती है और उसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. फिर भी विशेषज्ञों का मानना है कि उनकी पड़ताल इस बारे में काफी जानकारी दे सकती है कि इंसान के शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कैसे इस वायरस से लड़ता है.

    दोनों ही वायरस का संक्रमण
    कोविड-19 की बीमारी एक  प्रकार के कोरोना वायरस से होती है और कुछ सर्दी जुकाम दूसरे तरह को कोरोना वायरस से होते हैं. इसीलिए वैज्ञानिक यह जानने का प्रयास कर रहे थे कि क्या इन वायरस से पैदा हुई प्रतिरोध क्षमता दूसरे संक्रमण के लिए उपयोगी सिद्ध हो सकती है या नहीं.

     Health, Covid-19, Coronavirus, common Cold, SARS CoV-2, Vaccine, Covid Vaccine,

    कुछ सर्दी जुकाम और कोविड-19 दोनों ही कोरोना वायरस (Coronavirus) के अलग अलग रूपों से संक्रमित होते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    टी कोशिकाओं की भूमिका
    लंदन के इंपीरियल कॉलेज की टीम यह समझने का प्रयास कर रहे थे कि क्यों कोविड-19 का वायरस कुछ ही लोगों को संक्रमित तो कर देता है, सभी को नहीं करता है. उन्होंने अपना अध्ययन शरीर की प्रतिरोध क्षमता के खास हिस्सा टी कोशिकाओं पर केंद्रित किया. कुछ टी कोशिकाएं ऐसी कोशिकाओं को मारने का काम करती हैं, जो समान्य सर्दी के वायरस जैसे खास खतरों से संक्रमित होती हैं.

    क्या है कोरोना का IHU वेरिएंट, क्या आ सकते हैं ऐसे और भी वेरिएंट

    टी कोशिकाओं की भूमिका
    लंदन के इंपीरियल कॉलेज की टीम यह समझने का प्रयास कर रहे थे कि क्यों कोविड-19 का वायरस कुछ ही लोगों को संक्रमित तो कर देता है, सभी को नहीं करता है. उन्होंने अपना अध्ययन शरीर की प्रतिरोध क्षमता के खास हिस्सा टी कोशिकाओं पर केंद्रित किया. कुछ टी कोशिकाएं ऐसी कोशिकाओं को मारने का काम करती हैं, जो समान्य सर्दी के वायरस जैसे खास खतरों से संक्रमित होती हैं.

    Health, Covid-19, Coronavirus, common Cold, SARS CoV-2, Vaccine, Covid Vaccine,

    वायरस (Virus) से लड़ने में टी कोशिकाएं बहुत काम आती हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    क्या पाया गया अध्ययन में
    इस अध्ययन के समूह में आधे लोगों को तो 28 दिन के अध्ययन समय के दौरान कोविड-19 हो गया, लेकिन बाकी को संक्रमण नहीं हुआ. समूह के एक तिहाई लोग, जिन्हें कोविड-19 संक्रमण नहीं हुआ था उनके खून में खास याद्दाश्त टी कोशिकाएं की उच्च स्तर पाया गया था. ये कोशिकाएं तब पैदा हुई होंगी जब उनका शरीर दूसरे तरह के मानवीय कोरोना वायरस से संक्रमित हुआ होगा जो सामान्य सर्दी जुखाम जैसे संक्रमण में बनते हैं.

    नहीं पता थी वैज्ञानिकों को इतनी सी बात, जानिए कैसे खाना खाती हैं कोशिकाएं

    शोधकर्ताओं का कहना है कि यह एक छोटा अध्ययन जरूर है, लेकिन यह इस बात को समझने में मददगार होगा क हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली वायरस से कैसे लड़ती है और इससे भविष्य में वैक्सीन बनाने में सहायता मिल सकेगी. उन्होंने यह भी कहा कि टी कोशिकाएं वायरसके आंतरिकप्रोटीन को निशाना बनाती हैं जो वेरिएंट के साथ ज्यादा नहीं बदलती हैं. इसलिए वैक्सीन की अहमियत को कम नहीं समझा जा सकता.

    Tags: Coronavirus, COVID 19, Health, Research, Science

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर