क्यों सभी लोगों को कोरोना संक्रमित मान रहे हैं अमेरिकी एक्सपर्ट?

राजस्थान में कोरोना संक्रमण के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राजस्थान में कोरोना संक्रमण के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के ताजा मामलों का विश्लेषण कर अमेरिकी विशेषज्ञों (US experts) का कहना है कि वर्तमान संक्रमण (Corona Infection) को देखते हुए सभी लोगों को संक्रमित मान लेना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 3:38 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर में बहुत तेजी से और बड़ी संख्या में सक्रमण (Corona infection) फैल रहे हैं. इस बार के संक्रमण की खास बात यह है कि इनमें पूर्व लक्षणिक (Pre-symptomatic) संक्रमितों की संख्या बहुत ज्यादा है जो एक चिंता की  बात है. अमेरिका के विशेषज्ञ का कहना है कि चूंकि 60 प्रतिशत तक संक्रमण के मामले पूर्व लाक्षणिक हैं, इस लिहास से सभी को संक्रमित मान लेना चाहिए.

चिंता का विषय

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कोरोलाडो बोउल्डर और कोऑपरेटिव इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन एनवायर्नमेंटल साइंसेस (CIRES) में कैमिस्ट जोस लुइस जिमिनेज ने चिंता जाहिर की है कि इस बार जो संक्रमण हो रहे हैं उनमें से 30 से 59 प्रतिशत पूर्व लाक्षणिक संक्रमितों से आ रहे हैं ना कि अलाक्षणिकों संक्रमितों से, और यही चिंता का विषय है.

Youtube Video

छह विशेषज्ञों में शामिल हैं जिमिनेज

जिमिनेज उन छह विशेषज्ञों में शामिल हैं जिनका आंकलन हाल ही में मेडिकल जर्नल लेंसेट में प्रकाशित हुआ है जिसमें कहा गया है कि इस बात के पक्के प्रमाण मिल रहे हैं कि कोविड-19 हवा से फैल रहा है. जिमिनेज से बताया कि पूर्व लाक्षणिक लोग वे होते हैं जो वायरस को तो फैलाते हैं, लेकिन यह नहीं जानते कि वे खुद संक्रमित है, इतना ही नहीं दूसरे भी नहीं समझ पाते कि वे संक्रमित हैं.

क्या होते हैं पूर्व लाक्षणिक संक्रमित



जिमिनेज ने बताया कि इस तरह के लोग ना तो खांस रहे हैं ना ही छींक हैं वे अपनी सामान्य जिंदगी जी रहे हैं. वे काम कररहे हैं, अपने परिवार से मिल रहे हैं और वे खरीददारी कर रहे हैं. लेकिन वे संक्रमित हैं और वे वायरस को फैला रहे हैं. इससे निपटने का एक ही तरीका है कि आप सभी लोगों को संक्रमित मान कर चले और यह भी मानें कि जो भी आपके सामने आएगा वह संक्रमित है.

, Health, Covid-19, Coronavirus, Corona infection, Pre Symptomatic, US Experts, SARS CoV-2, Pre-symptomatic
कोरोना संक्रमण (Corona infection) की दूसरी लहर ने भारत में सुनामी जैसा विकराल रूप ले लिया है. (सांकेतिक तस्वीर)


तीन कारणों से महामारी

हम सब आज इस महामारी में क्यों हैं जिमिनेज इसके तीन कारण बताते हैं. पहला किसी में इसके प्रतिरोध की क्षमता नहीं है. दूसरा यह हवा से पैदा होता है इसलिए यह आसानी से फैलता है. और तीसरी वजह है इसका बिना लक्षणों वाले लोगों से संक्रमण फैल रहा है जिन्हें पूर्व लाक्षणिक या प्री सिम्प्टोमैटिक कहा जाता है.

क्या खास विटामिन खाने वाली महिलाओं को कम होता है कोरोना संक्रमण?

क्यों अहम है पूर्व लाक्षणिक संक्रमण

सार्स कोव-1 और सार्स कोव-2 महामारी में दो समानताएं हैं. साल 2003 में फैला सार्स कोव-1 भी हवा से फैलता था और इसके प्रति हममें कोई प्रतिरोधी क्षमता नहीं थी. लेकिन यह पूर्व लाक्षणिक तौर से नहीं फैलता था. यह केवल उन लोगों से फैलता था जो बहुत बीमार थे इसलिए उनकी पहचान आसान थी जिससे उन्हें आइसोलेट किया जा सका. सार्स कोव-1 के केवल 9 हजार मामले थे लेकिन आज लाखों संक्रमित मामले हमारे सामने हैं. जिमिनेज इसीलिए पूर्व लाक्षणिक संक्रमण को इतना अहम मानते हैं.

, Health, Covid-19, Coronavirus, Corona infection, Pre Symptomatic, US Experts, SARS CoV-2, Pre-symptomatic
जिमिनेज का मानना है कि कोरोना संक्रमण (Corona infection) ड्रॉपलेट्स से नहीं बल्कि हवा से फैल रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


डिसइन्फेक्शन से कुछ नहीं होता?

जिमिनेज अपने दलील के लिए अमेरिका सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन का हवाला देते हैं जिसने कहा है कि यह संभव है कि संपर्क और संक्रमित सतहों के जरिए संक्रमित हो सकते हैं. सीडीसी का कहना था कि कि इसका जोखिम कम है. लेकिन जिमिनेज का कहना है कि सतह को डिसइन्फेक्ट करने से कुछ हासिल नहीं होता.

जानिए कोविड-19 संक्रमितों में कितना अलग दिखाई दे रहा है प्रतिरोध

जिमिनेज का यह भी कहना है कि ड्रॉपलेट संक्रमण के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं. वास्तव में ड्रॉपले संक्रमण चिकित्सा के इतिहास में कभी सीधे प्रदर्शित नहीं किया गया. जिमिनेज ने जोर दिया कि कोविड-19 शुरू से ही हवा में फैलना वाला संक्रमण था. जिमिनेज के दावों की ना तो सीधे पुष्टि हो सकती है और ना ही उसे सीधे खारिज किया जा सकता है क्योंकि यह तो सच है ही कि कोविड-19 के लक्षण बदलने के साथ संक्रमण बहुत तेज हो गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज