वैक्सीन लगवाने से क्यों झिझक रहे हैं लोग- अमेरिकी विश्लेषण ने बताया

दुनिया में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) लगवाने को लेकर झिझक परेशानी का सबब बनती दिख रही है. (फोटो: AP)

दुनिया में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) लगवाने को लेकर झिझक परेशानी का सबब बनती दिख रही है. (फोटो: AP)

अमेरिकी (USA) विश्लेषण में बताया गया है कि लोगों की कोविड वैक्सीन (Covid Vaccine) के प्रति झिझक (Hesitation) मानव स्वभाव का हिस्सा है लेकिन फिर भी यह उनके अविवेक तो दर्शाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2021, 11:29 AM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Corona virus) की दूसरी लहर का सबसे सटीक उपाय टीकाकरण (Vaccination) में तेजी बताया जा रहा है. लेकिन भारत ही नहीं अमेरिका (USA) और दुनिया के बहुत से देशों में ऐसे लोगों की संख्या बहुत है जो टीका लगवाने में झिझक महसूस कर रहे हैं. ऐसे में सवाल उठा रहा है कि आखिर लोग वैक्सीन लगवाने में इतनी झिझक क्यों दिखा रहे हैं. एक अमेरिकी शोध ने इस पर रोशनी डाली है.

टीका और जोखिम

टीका को लेकर लोगों की मानसिकता का संबंध जोखिम लेने और बर्ताव के अन्य पहलुओं से है. जीवन में जोखिम सामान्य बात है.  लेकिन कई जोखिम फायदेमंद भी होते हैं. ऐसे कैल्क्युलेटेड रिस्क की सूची लंबी है. वहीं हैरानी की बात है कुछ जोखिम लेने में खतरा ज्यादा नहीं होता है और उसका प्रतिफल भी अच्छा होता है तब भी लोग वह जोखिम नहीं लेते है. कोविड-19 वैक्सीन के साथ भी ऐसा ही कुछ हो रहा है.

वैक्सीन ही इलाज?
कोविड महामारी ने जहां भारत में जहां दो लाख लोगों की जान ले ली है, वहीं अमेरिका में 5.7 लाख लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. वहीं लाखों लोग इन देशों में ठीक होने के बाद बीमारी के बाद के दुष्प्रभाव झेल रहे हैं और अपने मरने का जोखिम बढ़ा चुके हैं. और विशेषज्ञ लगातार इसका समाधान वैक्सीन ही बता रहे हैं.

Health, Covid-19, Corona virus, Covid vaccine, Corona vaccine, Vaccine, Vaccination, Vaccine hesitation, Human behaviour, Irrationality
कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर झिझक मानव स्वभाव का हिस्सा माना जा रहा है. (फाइल फोटो)


सब जगह है झिझक



इसके बाद भी सर्वे बताता है कि अमेरिका में बहुत से लोग तीन उपलब्ध वैक्सीन में से एक भी लगवाने में झिझक रहे हैं. ऐसा केवल अमेरिका में ही नहीं भारत और दुनिया के कई देशों में हो रहा है. ऐसा तब हो रहा है जब वैक्सीन स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक साल पहले के दावों से ज्यादा प्रभावी और सुरक्षित साबित हुई हैं.

Covid-19- सूंघने की क्षमता वापस हासिल करने के लिए क्या सुझा रहे हैं विशेषज्ञ

राजनैतिक कारण भी

अमेरिका में वैक्सीन लगवाने के कुछ प्रतिरोध राजनैतिक भी था. मेडिकलएक्सप्रेसडॉटकॉम के मुताबिक एक सर्वे में 40 प्रतिशत रिपब्लिकन्स ने रायशुमारी करने वालों को लगातार बताया था कि वे वैक्सीन लगवाने की योजना नहीं बना रहे हैं. वहीं भारत में शुरू में राजनैतिक कारण दिखाई तो दिया था, लेकिन वह केवल कुछ ही राजनैतिक लोगों तक ही सीमित दिखाई दिया था. याद करें यूपी में समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने क्या कहा था. अभी इस बारे में ऐसा कोई संकेत दिखाई नहीं दिया है.

Health, Covid-19, Corona virus, Covid vaccine, Corona vaccine, Vaccine, Vaccination, Vaccine hesitation, Human behaviour, Irrationality
अभी तक पिछले एक साल से वैक्सीन (Vaccine) के फायदे उम्मीद से ज्यादा दिख रहे हैं. Image-shutterstock.com


मानवीय अविवेक

यहां कोविड महामारी का विकराल रूप देखने वाले आधे से ज्यादा अगली पंक्ति के स्वास्थ्यकर्मियों ने अभी तक वैक्सीन नहीं लगवाई है. भारत में ऐसा नहीं दिखाई दिया. न्यूयार्क टाइम्स के लेखक डेविड लियोहार्ट ने हाल ही में लिखा है, “यह जोखिम को लेकर मानवीय अविवेक का उत्तम उदाहरण है. हम प्रायः बड़े गंभीर खतरों जैसेकि कार दुर्घटना और रासायनिक प्रदूषण को कम आंकते हैं और छोटे छिपे हुए जोखिम जैसे कि हवाई दुर्घटना या फिर शार्क हमले को अहमित देते हैं.”

कोरोना वैक्सीन में देरी वायरस को नए वेरिएंट बनाने का दे सकती है मौका

इसका एक बड़ा कारण लोगों की वैक्सीन के प्रति संदेह और आशंकाएं है जो उन्होंने कहीं से सुनी या जानी है लेकिन उनका कोई आधार नहीं है या खरिज हो चुकी हैं. इतिहास गवाह है वैक्सीन के प्रति संदेह वैक्सीन जितना पुराना ही है. ऐसे में झिझक समझी जा सकती है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि यह सही या उचित है. सभी वैक्सीन के ट्रायल और उनके बाद के आंकड़े बता रहे हैं वैक्सीन कितना ज्यादा फायदेमंद निकल रही है. उसके बाद के दुष्प्रभाव बहुत कम लोगों में हैं और वे भी कम समय के लिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज