• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • Cytomegalovirus: जानिए क्या हैं इसके लक्षण और कोविड-19 से इसका संबंध

Cytomegalovirus: जानिए क्या हैं इसके लक्षण और कोविड-19 से इसका संबंध

साइटोमेगलोवायरस (Cytomegalovirus) के संक्रमण ने भी लोगों के बीच एक डर पैदा किया है, सही जानकारी और सावधानी एक कारगर बचाव हो सकता है. (तस्वीर: shutterstock)

साइटोमेगलोवायरस (Cytomegalovirus) के संक्रमण ने भी लोगों के बीच एक डर पैदा किया है, सही जानकारी और सावधानी एक कारगर बचाव हो सकता है. (तस्वीर: shutterstock)

Cytomegalovirus का संक्रमण ने एक बार फिर वह खौफ पैदा कर दिया जो ब्लैक फंगस (Black Fungus) ने किया था लेकिन सवाल यह है कि यह वायरस (Virus) कितना खतरनाक है.

  • Share this:
    क्या भारत कोविड-19 (Covid-19) से मुक्त होने की ओर है. विशेषज्ञों की माने तो अभी तो तीसरी लहर का आना बाकी है. देशभर में दूसरी लहर ढलान पर है पूर्ण अनलॉक की तैयारी चल रही है. दूसरी लहर में ब्लैक फंगस ऐसे कई तरह के संक्रमणों ने कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान पैर पसारे  जिसमें कोविड-19 के मरीजों को खास तौर पर निशाना बनाया. अब एक और संक्रमण, साइटोमेगलोवायरस  या सीएमवी ने कई लोगों को अपना शिकार बनाया है. हाल ही में दिल्ली में छह कोविड-19 मरीजों को साइटोमेगलोवायरस से संक्रमित पाया गया है. आइए जानते हैं कि यह साइटोमेगलोवायरस है क्या, कितना खतरनाक है और इसका कोविड-19 से क्या संबंध है.

    क्या है यह साइटोमेगलोवायरस
    तो क्या है साइटोमेगालोवायरस एक समान्य तरह का हर्पीज वायरस होता है. यह एक आम वायरस है लेकिन बहुत से लोग इस वायरस के बारे में इसलिए नहीं जानते हैं क्योंकि इसके लक्षण दिखाई नहीं देते और यह बहुत कम लोगों को नुकसान पहुंचाता है. लेकिन यह वायरस शरीर में सुप्त अवस्था में रहता है. यह गर्भवती महिलाओं और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली तंत्र वाले लोगों में स्वास्थ्य संबंधी जटिलताएं पैदा करता है और कई बार स्थिति गंभीर हो जाती है.

    कैसे फैलता है यह संक्रमण
    यह वायरस शरीर के द्रव्यों के द्वारा फैलता है जिसमें खून, लार ,मूत्र, आंसू आदि द्रव्यों से संपर्क शामिल है.  यह गर्भवती महिला से उनके शिशु में जाता है और उस बच्चे में बाद में इसके लक्षण प्रमुखता से दिखने भी लगते हैं. वैसे तो इस वायरस की खोज 40 साल पहले हो गई थी, लेकिन कोविड-19 में कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों पर इस वायरस का हमला तेज तो हुआ ही साथ ही लक्षण भी दिखाई देने लगे.

    किसी को भी हो सकता है ये
    अमेरिका के डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशनस  (CDC) के अनुमान के मुताबिक इस वायरस से संक्रमित करीब आधे से ज्यादा व्यस्क 40 साल से ऊपर की उम्र के होते हैं. यह लिंग जाति और उम्र के लोगों को समान रूप से प्रभावित करता है. लेकिन लक्षणों की गंभीरता उसकी अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली तंत्र पर निर्भर करती है.

    Health, Covid-19, Corona virus, Cytomegalovirus, Viurs, herpes virus, CMV, Black Fungus, Immune System,
    साइटोमेगलोवायरस (Cytomegalovirus) के मामले में सही जानकारी होना बहुत जरूरी है. तस्वीर: shutterstock)


    अलग-अलग लक्षण
    अलग अलग सीएमवी अलग तरह के लक्षण दिखाते हैं  और उनमें भी वे कम ज्यादा हो सकते हैं.  अक्वायर्ड सीएमवी में बुखार, पसीना, थकान, असहजता, गले में खराश, जोड़ो और मांसपेशियों में दर्द के साथ कम भूख लगना और वजन कम होने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं जो 2 हफ्ते में ठीक हो जाते हैं

    और ये लक्षण भी
    रिकरिंग सीएमवी के लक्षण प्रभावित अंग पर निर्भर करते हैं. इनमें आंके, फेफड़े, पाचन तंत्र प्रमुख हैं. बुखार, दस्त, पेट में अल्सर, खून बहना, सांस लेने में तकलीफ, न्यूमोनिया, मुंह के छाले, देखने में समस्या, दिमाग में सूजन, यहां तक कि कोमा तक की स्थिति आ सकती है.  कमजोर प्रतिरक्षा तंत्र वाले लोगों में ऐसे लक्षण दिखने पर चिकित्सकीय सहायता  की जरूरत होती है.

    Fighting Infection: अब तेजी और ज्यादा ताकत से जूझ सकेंगी इम्यून सेल्स

    यह चिंताजनक संक्रमण
    कॉन्जेनिटल सीएमवी सबसे खतरनाक किस्म का सीएमवी होता है लेकिन यह बहुत कम भी होता है सीएमवी संक्रमण केसाथ पैदा हुए 90 प्रतिशत बच्चों में यह संक्रमण नहीं होता है. लेकिन कॉन्जेनिटल सीएमवी के लक्षण बहुत खतरनाक हो जाते हैं. इसमें कम से कम एक कान के सुनने की क्षमता पूरी तरह से खत्म भी हो जाती है. इसमें पीलिया, न्यूमोनिया, लीवर में खराबी, दौरे आना, बचपन से वजन कम होने वाले गंभीर लक्षण दिखते हैं. बाद में इन बच्चों में ऑटिज्म, मिर्गी आदि के रोग होने की संभावना बहुत अधिक हो जाती है.

    Health, Covid-19, Corona virus, Cytomegalovirus, Viurs, herpes virus, CMV, Black Fungus, Immune System,
    साइटोमेगलोवायरस (Cytomegalovirus) का फिलहाल कोई इलाज या टीका नहीं हैं लेकिन सही समय पर सही उपाय इससे बचा सकते हैं. तस्वीर: shutterstock)


    क्या है इलाज
    वैज्ञानिक अभी तक सीएमवी वैक्सीन की खोज करने में लगे हैं और इसका कोई निश्चित या सटीक इलाज नहीं है. शुरूआत में लक्षण स्पष्टता से नहीं दिखने के कारण लोग दर्द निवारक और अन्य तरह की लक्षण आधारित सामान्य दवाओं का सेवन करते हैं लेकिन पहली बार इस तरह के इलाज में कोई नुकसान भी नहीं हैं. इन हालात में उन्हें पानी खूब पीना चाहिए. गंभीर रोगियों को कुछ खास दवाएं लेनी चाहिए जिससे संक्रमण नहीं फैले.

    वो कौन सा ‘बैक्टीरिया’ है, जो करता है हमारे ब्रेन को हेल्दी रखने का काम  

    लेकिन सबसे प्रमुख सवाल यही है कि इसका कोविड-19 से कितना और कैसा संबंध है. इसका कोविड-19 और सीएमवी के बीच की कड़ी है कमजोर इम्यूनसिस्टम. कोविड-19 प्रतिरक्षा तंत्र को कमजोर करता है और मरीज सीएमवी के सक्रमण के लिए आसान तो हो ही जाते हैं, यह संक्रमण उनके लिए ज्यादा असरदार हो जाता है और उनके स्वास्थ्य को और गंभीर और जटिल बना देता है. ऐसे में सावधानियां बरतते रहना बहुत जरूरी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज