रक्षा मंत्रालय ने दिया 114 धनुष तोप का ऑर्डर, 38 किमी की रेंज में लगा सकती हैं निशाना

धनुष भारत की पहली लंबी दूरी की स्‍वदेशी तोप है. पिछले साल जून में राजस्‍थान के पोकरण में इसका आखिरी परीक्षण किया गया था. इसे देसी बोफोर्स भी कहा जाता है.

News18Hindi
Updated: February 20, 2019, 2:21 PM IST
News18Hindi
Updated: February 20, 2019, 2:21 PM IST
रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए 114 धनुष स्‍वदेशी तोप का ऑर्डर दिया है. यह ऑर्डर ऑर्ड्नन्स फैक्‍ट्री बोर्ड को दिया गया है. सेना को कुल 414 धनुष तोपें मिलेंगी और इसके तहत पहले बैच में 114 तोप शामिल हैं. इन तोपों को मरूस्‍थल के साथ ही पहाड़ी इलाकों में भी तैनात किया जा सकता है.

ये है धनुष की ताकत



धनुष भारत की पहली लंबी दूरी की स्‍वदेशी तोप है. पिछले साल जून में राजस्‍थान के पोकरण में इसका आखिरी परीक्षण किया गया था. इसे देसी बोफोर्स भी कहा जाता है.

धनुष तोप


धनुष 155एमएम x 45 एमएम कैलिबर की तोप है. इसकी स्‍ट्राइक रेंज 38 किलोमीटर है और इसके 81 फीसदी पुर्जे भारत में ही बने हैं. सिक्किम व लेह के ठंडे, ओडिशा के गर्म व नमी और राजस्‍थान के गर्म मौसम में इसका परीक्षण किया जा चुका है जहां यह कामयाब रही थी. इसमें इलेक्‍ट्रॉनिक गन लेयिंग और साइटिंग सिस्‍टम भी है. इसके चलते बोफोर्स तोप की तुलना में यह 11 किलोमीटर दूर तक निशाना लगा सकती है.

इसके जरिए रात में निशाना लगाया जा सकता है और एक मिनट में छह गोले दागे जा सकते हैं. पहले इस तोप को 2017 में ही सेना में शामिल किया जाना चाहिए था. लेकिन कुछ खामियों की वजह से इसमें देरी हुई.

धनुष तोप
सूत्रों के अनुसार, इस पर 14.50 करोड़ रुपये की लागत आई है. वहीं अमेरिकन अल्‍ट्रा लाइट हॉवित्‍जर तोप की कीमत 33 करोड़ रुपये थी. सेना ने यह तोप भी ट्रायल के लिए मंगाई थी. धनुष तोप का पहला प्रोटोटाइप 2014 में बना था और इसके बाद कई बार इसके प्रोटोटाइप में बदलाव किया गया है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार