लाइव टीवी

घातक प्रदूषण की चपेट में दिल्ली की मदद कीजिए, आपके छोटे कदम होंगे बड़े कारगर

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 2:27 PM IST
घातक प्रदूषण की चपेट में दिल्ली की मदद कीजिए, आपके छोटे कदम होंगे बड़े कारगर
न्यूज़18 क्रिएटिव

यातायात (Traffic), कंस्ट्रक्शन, सड़क की गंदगी, कोयला जलाने वाले उद्योग प्लांट और पड़ोसी राज्यों व ज़िलों में पराली (Rice Stubble Burning) जलाए जाने से दिल्ली गैस चेंबर बन गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 2:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi), एनसीआर (NCR) और आसपास के शहरों में प्रदूषण (Pollution) के कारण हल्ला मचा हुआ है. ज़हरीली हवा (Smog) की वजह से लोग बगैर मास्क पहने सड़कों पर निकलने से बच रहे हैं, तो सेहत से जुड़ी समस्याओं (Health Issues) की खबरें आना शुरू हो गई हैं. खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के हवाले से बयान आ चुका है कि दिल्ली गैस चेंबर (Gas Chamber) बन गई है. बड़ी मुश्किल ये है कि यह स्थिति अगले दो महीने तक रह सकती है. ऐसे में यह जानना उपयोगी है कि इस खतरनाक और जानलेवा वायु प्रदूषण (Air Pollution) में आपको किस तरह की सावधानियां बरतना चाहिए.

ये भी पढ़ें : पराली जलने से दिल्ली में कैसे छा जाती है ज़हरीली और काली धुंध?

इमरजेंसी कैटेगरी में हवा की क्वालिटी
राष्ट्रीय राजधानी (National Capital) में हवा की क्वालिटी (AQI) एक दिन पहले तक सीवीयर प्लस यानी अति गंभीर श्रेणी में बताई गई थी, जिसे शुक्रवार को इमरजेंसी कैटेगरी में घोषित कर दिया गया. काली धुंध की एक चादर दिल्ली के आसमान पर बिछी हुई है और गुरुवार शुक्रवार की दरमियानी रात प्रदूषण का स्तर (Pollution Level) 50 पॉइंट बढ़कर एयर क्वालिटी इंडेक्स का आंकड़ा 459 पॉइंट पर पहुंच चुका है. इस घातक प्रदूषण से बचने के लिए अगर आप कुछ छोटी सावधानियां (Health Precautions) बरतें तो बड़ी मदद मिल सकती है.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

air pollution, delhi pollution, delhi smog, delhi air quality, delhi health, वायु प्रदूषण, दिल्ली प्रदूषण, दिल्ली स्मॉग, दिल्ली सेहत, प्रदूषण से बचाव

गाड़ियों के इस्तेमाल में सतर्कता
Loading...

जहां तक संभव हो, कारपूल करें या राइड साझा करें. निजी वाहनों का उपयोग बेहद ज़रूरी होने पर ही करें और सामान्य तौर पर पब्लिक ट्रांसपोर्ट या पैदल चलने को तवज्जो दें. गाड़ी चलाएं तो ध्यान रखें कि आपकी गाड़ी प्रदूषण फैलाने वाली न हो.

बिजली उपकरणों में सावधानी
आप अपने घर और दफ्तर में बिजली का जो इस्तेमाल करते हैं, उससे गैस उत्सर्जन या कार्बन उत्सर्जन होता है इसलिए ज़रूरत के मुताबिक कम से कम बिजली का इस्तेमाल करें और गैर ज़रूरी स्विच व उपकरणों को बंद रखें.

प्लास्टिक से बचें
कोशिश करें और आदत में लाएं कि आपके घर या दफ्तर से निकलने वाले कचरे में कम से कम प्लास्टिक हो. जो कचरा रिसाइकिल या दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है, ऐसी ही चीज़ों के इस्तेमाल को तवज्जो दें. टनों कचरे के ढेर वायु प्रदूषण के बड़े कारण हैं इसलिए प्लास्टिक की चीज़ों के इस्तेमाल और उन्हें जलाने से बचें.

पेड़ लगाना ज़िम्मेदारी है
नासा ने हाल में खोजा है कि घरों में लगाए जाने वाले कुछ खास पौधों से हवा में मौजूद कार्बन मोनोआॅक्साइड गैस को कम करने में मदद मिलती है. जैसे आपके शरीर को शुद्ध करने का काम लिवर करता है, इसी तरह कई पौधे आपके घर की हवा को शुद्ध कर सकते हैं.

जागरूकता फैलाएं
वायु प्रदूषण के खतरों और उससे बचने के बारे में लगातार खुद को अपडेट रखने के साथ ही अपने आसपास के लोगों को भी सचेत करें. यह व्यक्तिगत से लेकर सामाजिक ज़िम्मेदारी है कि आप अपने आने वाले कल और अपने बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करें, उनकी सेहत को लेकर जागरूक रहें और जागरूकता फैलाने में भी शामिल रहें.

ये भी पढ़ें :

कैसे चलता है US राष्ट्रपति पर महाभियोग, कैसे बर्खास्त हो सकते हैं ट्रंप?
ऐसे बना था दिल्ली केंद्र शासित प्रदेश, जानिए उजड़ने और बसने की पूरी कहानी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 2:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...