इस महिला ने तलाक के बाद भरा था 16 हजार करोड़ का 'हर्जाना'

इस महिला ने तलाक के बाद भरा था 16 हजार करोड़ का 'हर्जाना'
चीनी बिजनेस वुमन वू याजुन को तलाक के बाद बड़ा नुकसान हुआ था.

बीते सालों के दौरान दुनिया में कई बेहद महंगे तलाक हुए हैं. इनमें से ज्यादातर में पुरुषों को संपत्ति का नुकसान उठाना पड़ता है. लेकिन चीन की एक बिजनेस वुमन (Wu Yajun) को तलाक के बाद 16 हजार करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा था.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
इस वक्त चीन के बिजनेसमैन डू विमिन की चर्चा दुनियाभर में हो रही है. डू विमिन ने तलाक के बाद अपनी पत्नी को हर्जाने के तौर पर करीब 24 हजार करोड़ की संपत्ति दी है. कहा जा रहा है कि ये एशिया में अब तक का सबसे महंगा तलाक है. डू विमिन दवा कंपनी Shenzhen Kangtai Biological Products के चेयरमैन हैं. इससे पहले भी दुनिया में तलाक के हर्जाने के रूप में बहुत बड़ी-बड़ी रकम अदा की गई है. लेकिन ऐसा नहीं है कि संपत्ति के संदर्भ में तलाक की कीमत सिर्फ पुरुष चुकाते रहे हैं. चीन की बिजनेसमैन वू याजुन ने अपने पति से तलाक के बाद करीबन 16 हजार करोड़ की संपत्ति गंवाई थी. तलाक की वजह से वू याजुन का चीन की 'सबसे अमीर महिला' होने का 'खिताब' छिन गया था.

जर्नलिस्ट के तौर पर की थी शुरुआत
चीन के एक बेहद सामान्य परिवार में जन्मीं वू याजुन ने करियर की शुरुआत एक जर्नलिस्ट के तौर पर की थी. इस दौरान उन्होंने रियल स्टेट से संबंधित मामलों की रिपोर्टिंग की. इस नौकरी के दौरान वू याजुन ने रियल स्टेट की बारिकियां सीखी थीं. फिर 1995 में उन्होंने अपने पति साई कुई के साथ मिलकर Longfor Properties की स्थापना की.





कंपनी को बढ़ाने में वू याजुन का योगदान


इस कंपनी को बढ़ाने में दोनों ने काफी मेहनत की लेकिन कहा जाता है वू याजुन बिजनेस के मामले में अपने पति से काफी तेज थीं. यही वजह है कि कंपनी में वू याजुन के शेयर भी वक्त के साथ बढ़ते चले गए. वू ने सिर्फ रियल स्टेट में ही अपनी पैठ नहीं बनाई बल्कि राजनीतिक गलियारों में भी उनकी अच्छी-खासी पहचान थी. इस पहचान का फायदा कंपनी को लगातार मिला. साल 2011 तक वू के कंपनी में शेयर 45 प्रतिशत से ज्यादा थे जबकि उनके पति के पास तीस प्रतिशत से भी कम.

तलाक की वजह नहीं हुई सार्वजनिक
साल 2011 में ही वू के पति ने तलाक की अर्जी दी. दोनों के बीच क्या दिक्कतें हुई थीं इसका खुलासा आजतक नहीं हो सका है. कहते हैं कि वू नहीं चाहती थीं कि तलाक हो. दंपत्ति को एक बच्चा है. लेकिन उनके पति तलाक पर अड़े थे और फिर कुछ समय बाद दोनों में तलाक की लीगल प्रक्रिया पूरी हो गई.

घट गई थी वू की संपत्ति
इस तलाक का सबसे ज्यादा नुकसान वू को हुआ. उनके पति ने कंपनी से अपने शेयर मांग लिए. वो इसके लिए अड़े हुए थे और इससे कंपनी का बेहद नुकसान होने वाला था लेकिन ये सबकुछ हुआ. और वू की कुल संपत्ति एक बार में काफी घट गई.



फिर बनाया बिजनेस साम्राज्य
लेकिन कहते हैं कि जिसने अपनी मेहनत से फर्श से अर्श तक का सफर किया हो उसे गिरना के बाद उठना आता है. इस झटके उबरने में वु याजुन के करीबन 8 साल गए. लेकिन 2019 में वो एक बार फिर दुनिया की सबसे अमीर महिला बन गईं. इस वक्त वु याजुन की कंपनी सफलता के झंडे गाड़ रही है. कंपनी की नेट वर्थ इस वक्त 11 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा है. इस वक्त वू याजुन नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की सदस्य भी हैं. वो चीन की राजनीति में भी खासा दखल रखती हैं. वू की कंपनी ने उबर में भी बड़े पैमाने पर इन्वेस्टमेंट कर रखा है. उनकी रियल स्टेट कंपनी का साम्राज्य पूरे चीन में फैला हुआ है.
ये भी पढ़ें:

शराब के पैग की वजह से मनु शर्मा ने छीन ली थी जेसिका लाल की जिंदगी, अब हुआ रिहा

तलाक लेकर 24 हजार करोड़ की मालकिन बनी ये महिला, देश के रईस लोगों में हुई शुमार

इस देश में नहीं होता है तलाक, सिर्फ मरने के बाद अलग होते हैं पति-पत्नी
First published: June 3, 2020, 4:00 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading