Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    कोरोना के बाद चीन में तलाक की मांग कई गुना बढ़ी, बताई जा रही है ये वजह

    चीन के मैरिज रजिस्ट्री ऑफिसों में तलाक की मांग तेजी से बढ़ी है
    चीन के मैरिज रजिस्ट्री ऑफिसों में तलाक की मांग तेजी से बढ़ी है

    चीन में कोरोना वायरस (Coronavirus in China) का कहर थमने के बाद अब एक नया मर्ज सामने आया है. क्वरेंटाइन (quarantine) के दौरान एक साथ महीनाभर या उससे ज्यादा समय बिता चुके चीनी कपल्स अब तलाक (divorce) की मांग कर रहे हैं.

    • News18Hindi
    • Last Updated: March 15, 2020, 2:59 PM IST
    • Share this:
    पूरे चीन में मैरिज रजिस्ट्री ऑफिसों में तलाक की अर्जियां आ रही हैं. 1 मार्च को दफ्तर खुलते ही शादीशुदा जोड़े तलाक की एप्लिकेशन लेकर आने लगे. यहां तक कि कई दफ्तर काफी दिनों के लिए पूरी तरह से 'बुक' हो चुके हैं, जो सिर्फ तलाक के मामले ही सुलझाएंगे.

    ये कहते हैं आंकड़े
    Global Times की एक रिपोर्ट के अनुसार चीन के Xi'an शहर में तलाक की सबसे ज्यादा मांग आई है. एक दिन में 14 शादीशुदा जोड़े तलाक के लिए पहुंचे. यहां तक कि कई जिलों में स्थानीय सरकारी दफ्तरों में तलाक के लिए अपॉइंटमेंट इतने ज्यादा आए कि अब वो लंबे वक्त के लिए पूरी तरह से 'बुक' हो चुके हैं. दक्षिण-पश्चिम चीन के Sichuan प्रांत में मैरिज रजिस्ट्री ऑफिस के मैनेजर Lu Shijun बताते हैं कि उनके पास 24 फरवरी के बाद से अब तक यानी 20 से भी कम दिनों में 300 से ज्यादा जोड़े तलाक की अर्जी लेकर आए.

    वक्त बिताने के कारण ऊब
    ऑफिशियल्स का मानना है कि कोरोना के डर से क्वेरेंटाइन में ज्यादा समय साथ बिताना भी तलाक की एक वजह हो सकती है. बता दें कि कोरोना वायरस आउटब्रेक के कारण चीन में लगातार लॉकडाउन चल रहा है. वहीं लगभग पूरे देश में सबको सेल्फ क्वेरेंटाइन में रहने को कहा गया. लगभग पूरा एक महीना ज्यादातर जोड़ों में लगातार एक साथ बिताया. दफ्तर का काम भी घर से किया गया. चीनी सरकार की सख्त हिदायत रही कि सिर्फ राशन और दवाओं जैसी जरूरी चीजों के लिए ही घर से बाहर निकलें. ऐसे में सभी शादीशुदा और गैर-शादीशुदा जोड़े दिन-रात पूरे समय एक साथ रहे. इस दौरान बहुत मुमकिन है कि दोनों के बीच पहले से चल रहा हो हल्का-फुल्का तनाव खुलकर सामने आ गया हो.



    चौबीस घंटों के लिए साथ रहने पर मामूली बातों पर भी तनाव उपजने लगा होगा


    Lu Shijun के अनुसार चीन में आम दिनों में नए शादीशुदा जोड़े सोशल गेदरिंग, दफ्तर या कहीं जाने-आने में काफी समय बिताते हैं. ऐसे में एकदम से चौबीस घंटों के लिए साथ रहने पर मामूली बातों पर भी तनाव उपजने लगा होगा और यही वजह है कि 1 मार्च को सरकारी दफ्तर खुलते ही नए जोड़े तलाक की अर्जी लेकर पहुंच गए.

    बंद भी हो सकती है वजह
    तलाक की मांग में अचानक इतनी तेजी के पीछे ये तर्क भी दिया जा रहा है कि हो सकता है लोग पहले से ही तलाक प्लान कर रहे हों लेकिन लॉकडाउन की वजह से वे इसके लिए अर्जी न डाल सके हों. दक्षिण चीन के Fujian प्रांत के Fuzhou शहर में हालत ये है कि एक दिन में 10 से ज्यादा जोड़े तलाक चाह रहे हैं. चीन के ऐसे हालात के बाद इस बात पर बहस बढ़ गई है कि क्या साथ में ज्यादा वक्त बिताना शादीशुदा जोड़ों के लिए सही नहीं है!

    लिव-इन के बाद शादी से बढ़ता है तलाक
    इससे पहले साल 2018 में हुई एक स्टडी बताती है कि वे जोड़े, जो शादी से पहले लिव-इन में रह चुके होते हैं, शादी के सालभर के भीतर ही उनमें तलाक की नौबत आ जाती है. Cohabitation Experience and Cohabitation's Association With Marital Dissolution के नाम से ये स्टडी दो सोशल साइंटिस्ट ने मिलकर की जो Wiley Online Library में पढ़ी जा सकती है.

    सेल्फ क्वेरेंटाइन के दौरान लोग घर पर रहने लगते हैं


    क्या है वो क्वेरेंटाइन, जिसकी वजह से चीनी जोड़े एक-दूसरे से उकता गए है
    क्वेरेंटाइन का मतलब है, किसी ऐसे व्यक्ति को अलग-थलग रखा जाना जो किसी कोरोना मरीज के संपर्क में आ चुका हो या फिर ऐसी किसी जगह गया हो, जहां कोरोना फैल चुका है. क्वेरेंटाइन पीरियड के दौरान मरीज घर पर अलग रहता है और अपने लक्षणों पर गौर करता है. अगर सर्दी, खांसी, बुखार जैसे लक्षण दिखाई दें तो अस्पताल में जांच होती है और फिर उसे आइसोलेशन में यानी एकदम अलग कमरे में रख दिया जाता है, जहां पूरा इलाज तब तक चलता है जब तक कि रिपोर्ट निगेटिव न आ जाए. इसके साथ ही एक और टर्म है , जिसे सेल्फ क्वेरेंटाइन कहते हैं. ये कदम एहतियातन उठाया जाता है और स्वस्थ लोग भी अपने घरों या किसी सुरक्षित जगह पर कुछ दिनों के लिए (कोरोना के मामले में 14 दिनों तक) खुद को लगभग कैद कर लेते हैं और जरूरी चीजों जैसे खाने या दवाओं के लिए ही बाहर निकलते हैं.

    रियल टाइम डाटा देने के लिए प्रामाणिक मानी जाने वाली वेबसाइट worldometers के अनुसार कोरोना वायरस (coronavirus) के कुल मामले अब 156,910 हो चुके हैं. भारत में भी मामले बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में तेजी से फैलती इस रहस्यमयी बीमारी पर नियंत्रण के लिए सरकार और लोग भी कई स्तरों पर कोशिश कर रहे हैं. सेल्फ क्वेरेंटाइन भी इसमें से एक है. जैसे कि बहुत से दफ्तरों में घर से काम करने की इजाजत दी गई है ताकि लोग आने-जाने के दौरान हो सकने वाले संक्रमण की आशंका से भी बच सकें.

    ये भी पढ़ें:

    छोटे पैरों वाली लड़कियां देती हैं यौन सुख, इस मान्यता में बांध दिए जाते थे चीनी बच्चियों के पैर

    कोरोना ही नहीं, मांसाहारी खाने से फैलती है ये गंभीर बीमारियां

    क्‍या HIV/AIDS की दवा से ठीक होकर घर लौट रहे हैं Coronavirus के मरीज

    कोरोना, फ्लू या जुकाम में क्या है अंतर, कैसे पता चलेगा कि हुआ क्या है?

    Coronavirus: क्‍या बाहर खाना खाने से भी हो सकता है इंफेक्‍शन?
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज