कांग्रेस के सबसे अमीर नेताओं में से एक हैं शिवकुमार, 6 साल में 600 करोड़ रुपये बढ़ी संपत्ति

मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) के मामले में ईडी (ED) ने कांग्रेस (Congress) के बड़े नेता डीके शिवकुमार (DK Shivakumar) को गिरफ्तार कर लिया है. डीके शिवकुमार कर्नाटक (Karnataka) के सबसे अमीर नेताओं में से हैं...

News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 4:15 PM IST
कांग्रेस के सबसे अमीर नेताओं में से एक हैं शिवकुमार, 6 साल में 600 करोड़ रुपये बढ़ी संपत्ति
डीके शिवकुमार को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में गिरफ्तार किया गया है
News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 4:15 PM IST
पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) के बाद अब कांग्रेस (Congress) के बड़े नेता डीके शिवकुमार (DK Shivkumar) को ईडी (ED) ने अपने शिकंजे में ले लिया है. डीके शिवकुमार को मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार किया है. गिरफ्तारी के बाद तबीयत बिगड़ने की वजह से उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. डीके शिवकुमार अपनी गिरफ्तारी को राजनीति से प्रेरित बदले की कार्रवाई बता रहे हैं.

ईडी ने चार बार की पूछताछ के बाद डीके शिवकुमार को गिरफ्तार किया है. ईडी के मुताबिक शिवकुमार पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे हैं. डीके शिवकुमार के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला 2017 से चला आ रहा है. डीके शिवकुमार ने ईडी की गिरफ्तारी से बचने के लिए कर्नाटक हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी दाखिल की थी, लेकिन कोर्ट ने अर्जी खारिज कर दी थी. ईडी के बार-बार नोटिस भेजने के बावजूद वो पेश नहीं हो रहे थे. शुक्रवार को पहली बार वो ईडी के सामने पेश हुए थे.

किस मामले में फंसे हैं डीके शिवकुमार
नोटबंदी के बाद डीके शिवकुमार इनकम टैक्स और ईडी के रडार पर थे. 2 अगस्त 2017 को ईडी ने डीके शिवकुमार के घर और ऑफिसों में रेड डाली थी. डीके शिवकुमार के दिल्ली के सफदरजंग बंगले में 11 करोड़ कैश मिले थे. जिसके बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने उनके खिलाफ मामला दर्ज किया था. डीके शिवकुमार के साथ उनके 4 सहयोगियों के खिलाफ भी केस दर्ज है. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की चार्जशीट के बाद शिवकुमार के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज हुआ है.

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने शिवकुमार के हवाला लेनदेन और उनके पास बेहिसाब कैश का पता भी लगाया है. डीके शिवकुमार अपनी बेटी के साथ जुलाई 2017 में सिंगापुर गए थे. वहां हुए फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन के बारे में ईडी पूछताछ कर रही है.

dk shivkumar ed arressted in money laundering case know leaders total property and assets
कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के करीबी हैं डीके शिवकुमार


कांग्रेस के अमीर नेताओं में से हैं डीके शिवकुमार
Loading...

डीके शिवकुमार कर्नाटक के सबसे अमीर नेताओं में से हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में दाखिल हलफनामे में उन्होंने अपनी और अपने परिवार की कुल संपत्ति 840 करोड़ बताई थी. इसके पहले 2013 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने कुल 251 करोड़ की संपत्ति की घोषणा की थी. यानी सिर्फ 6 साल में उन्होंने 600 करोड़ रुपये कमाए.

2019 के हलफनामे में डीके शिवकुमार ने अपने पास 70 करोड़ की चल संपत्ति और 548 करोड़ की अचल संपत्ति की जानकारी दी थी. जबकि इसके पहले 2013 में उनके पास 46 करोड़ की चल संपत्ति और 169 करोड़ की अचल संपत्ति थी.

2019 में दी गई जानकारी के मुताबिक डीके शिवकुमार के परिवार के ऊपर 220 करोड़ की देनदारी है. इसमें उनकी बेटी ऐश्वर्या के ऊपर 46 करोड़ की देनदारी है जबकि उनके पास 107 करोड़ की संपत्ति है.

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने अपनी जांच में डीके शिवकुमार के पास 429.32 करोड़ की बेनामी संपत्ति का पता लगाया था. मार्च 2019 में डिपार्टमेंट ने उनकी 75 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली थी. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने बताया था कि डीके शिवकुमार ने किसी दूसरे शख्स के नाम पर जमीन खरीदकर संपत्ति बनाई थी, जिसका वो हिसाब नहीं दे पा रहे थे.

dk shivkumar ed arressted in money laundering case know leaders total property and assets
कांग्रेस के चाणक्य माने जाते हैं डीके शिवकुमार


कांग्रेस के चाणक्य हैं कर्नाटक के डीके शिवकुमार
वोकालिग्गा समुदाय से आने वाले कर्नाटक में कांग्रेस के चाणक्य हैं डीके शिवकुमार. उन्हें चुनाव प्रबंधन में माहिर माना जाता है. वो पार्टी को हर संकट से उबारने का माद्दा रखते हैं. फंड जुटाने से लेकर वो सभा रैलियों में भीड़ जुटाने का काम करते हैं.

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार बचाने के लिए डीके शिवकुमार ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया था. सरकार को बचाने में लगे डीके शिवकुमार के बारे में येदियुरप्पा ने कहा था कि जनता शिवकुमार की हरकतों के बारे में जानती है. वो इस तरह के मामले संभालने में माहिर हैं.

डीके शिवकुमार को रिजॉर्ट पॉलिटिक्स का जनक कहा जाता है. वो मुश्किल वक्त में सरकार बचाने में माहिर माने जाते हैं. हालांकि वो कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की गठबंधन सरकार बचा नहीं पाए.
गुजरात राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल को जिताने में डीके शिवकुमार का अहम रोल रहा है. इस जीत में डीके शिवकुमार की काफी चर्चा रही थी. इसी के बाद वो कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के करीब आ गए.

डीके शिवकुमार कांग्रेस-जेडीएस की पिछली गठबंधन सरकार में सिंचाई मंत्री थे. उसके पहले सिद्धारमैया की सरकार में उन्होंने ऊर्जामंत्री का पद संभाला था. वो कनकपुरा विधानसभा सीट से जीते हैं.

देवगौड़ा के खिलाफ की थी राजनीति की शुरुआत
डीके शिवकुमार की राजनीति की शुरुआत कुमारस्वामी के पिता एच. डी. देवेगौड़ा के खिलाफ चुनाव लड़ कर हुई थी. 1985 के विधानसभा चुनाव में वोक्कालिगा समुदाय के सबसे बड़े चेहरे एचडी देवेगौड़ा को डीके शिवकुमार ने सातनूर सीट से चुनौती दी थी. शिवकुमार यह चुनाव 15,803 के मार्जिन से हार गए.

1985 में देवगौडा दो सीटों होलानरसीपुर और सातनूर से चुनाव लड़े और दोनों पर जीत हासिल की थी. उन्होंने सातनूर की सीट छोड़ दी. यहां हुए उपचुनाव में डीके शिवकुमार फिर मैदान में उतरे और जीत गए. यहीं से उनके सियासी करियर की शुरुआत हुई.

1989 में अपना दूसरा चुनाव भी यहीं से जीतने के बाद वो एस. बंगारप्पा की सरकार में जूनियर मिनिस्टर भी बन गए थे. शिवकुमार और देवेगौड़ा परिवार के बीच दूसरी सीधी चुनावी टक्कर 1999 में हुई. जब उन्होंने एचडी कुमारस्वामी को सातनूर से हराया था.



ये भी पढ़ें: 

ऐसे होंगे चंद्रयान-2 के आखिरी सबसे मुश्किल 15 मिनट
पीएम मोदी ने जिन मोटे अनाजों का जिक्र किया, वो आपकी सेहत के लिए क्यों जरूरी है?
JNU में रोमिला थापर से सीवी मांगने पर इसलिए मचा है इतना बवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 9:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...