लाइव टीवी

क्या यूनिवर्सिटी कैंपस में पुलिस को घुसने की अनुमति है, क्या कहता है कानून?

News18Hindi
Updated: December 17, 2019, 1:28 PM IST
क्या यूनिवर्सिटी कैंपस में पुलिस को घुसने की अनुमति है, क्या कहता है कानून?
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर प्रोफेसर अफीफुल्लाह खान ने दिया इस्तीफ़ा (file photo)

ये एक आम धारणा है कि पुलिस (Police) बिना अनुमति (permission) के किसी यूनिवर्सिटी (University), कॉलेज (College) या किसी उच्च शिक्षण संस्थान (higher educational institution) में प्रवेश नहीं कर सकती है. जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में देशद्रोह के नारे लगाने वाले विवाद में भी यही सवाल उठा था...

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 17, 2019, 1:28 PM IST
  • Share this:
नागरिकता संशोधन एक्ट (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ छात्रों के विरोध (Student protest) पर यूनिवर्सिटी कैंपस (University campus) में घुसकर पुलिस की कार्रवाई (Police action) पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. विरोध कर रहे जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia University) के छात्रों को पुलिस ने यूनिवर्सिटी कैंपस में घुसकर पीटा. छात्रों को हिरासत में लिया गया. कैंपस में आंसू गैस के गोले भी फेंके गए. पुलिस की कार्रवाई पर विरोध जताते हुए यूनिवर्सिटी की वाइस चांसलर नजमा अख्तर ने कहा कि बिना अनुमति के पुलिस ने कैंपस में घुसकर लाठीचार्ज किया. वो पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाएंगी.

इसके बाद मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने ट्वीट कर लिखा कि कानूनन पुलिस किसी भी यूनिवर्सिटी कैंपस में बिना आधिकारिक अनुमति के प्रवेश नहीं कर सकती. पुलिस ने जामिया कैंपस में घुसकर एक बुरा उदाहरण पेश किया है. जावेद अख्तर के इस ट्वीट के बाद कई लोग इस पर अपनी प्रतिक्रिया देने लगे. एक आईपीएस अफसर संदीप मित्तल ने ट्वीट करते हुए जावेद अख्तर से पूछा- ‘डियर लीगल एक्सपर्ट, कृपया उस कानून के बारे में विस्तार से बताएं, ताकि हमें भी जानकारी हो सके.’

ये एक आम धारणा है कि पुलिस बिना अनुमति के किसी यूनिवर्सिटी, कॉलेज या किसी उच्च शिक्षण संस्थान में प्रवेश नहीं कर सकती है. जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में देशद्रोह के नारे लगाने वाले विवाद में भी यही सवाल उठा था. उस वक्त भी चर्चा उठी थी कि बिना परमिशन के पुलिस जेएनयू जैसे देश के सर्वोच्च शिक्षण संस्थान में कैसे प्रवेश कर सकती है? सवाल है कि क्या सच में पुलिस को किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में प्रवेश के लिए आधिकारिक अनुमति की जरूरत पड़ती है? इस बारे में कानून क्या कहता है?



संज्ञेय अपराध की जांच के लिए कहीं भी प्रवेश कर सकती है पुलिस



सीआरपीसी का सेक्शन 165 और 166 पुलिस को ये अधिकार देता है कि वो किसी संज्ञेय अपराध की जांच के लिए किसी भी जगह की तलाशी ले सकती है. इसके लिए किसी सर्च वारंट की जरूरत नहीं है. सार्वजनिक संपत्ति का नुकसान भी संज्ञेय अपराध के दायरे में आता है.

पुलिस किसी की गिरफ्तारी या किसी संज्ञेय अपराध की जांच के लिए किसी भी जगह प्रवेश कर सकती है. उसे किसी की अनुमति की जरूरत नहीं है. कानूनन पुलिस को किसी भी स्कूल-कॉलेज या पूजा अर्चना करने वाले स्थलों में भी प्रवेश के लिए किसी से अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं है.

does police need permission to enter premises of university college or educational institutions such as jamia millia islamia
जामिया यूनिवर्सिटी के पास पुलिस बल


क्या पुलिस को किसी यूनिवर्सिटी में घुसने से पहले इजाजत लेनी होती है?
जानकार बताते हैं कि कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है, जो किसी पुलिस ऑफिसर को किसी गिरफ्तारी के लिए यूनिवर्सिटी या कॉलेज में जाने से रोकता है. किसी पुलिस अधिकारी को सीआरपीसी के प्रावधानों के मुताबिक गिरफ्तारी के अधिकार हासिल होते हैं.

सीआरपीसी का सेक्शन 41, किसी भी पुलिस को, बिना किसी मजिस्ट्रेट या किसी वारंट के, गिरफ्तारी का अधिकार देता है. पुलिस को गिरफ्तारी के लिए किसी यूनिवर्सिटी, कॉलेज या उच्च शिक्षण संस्थान में प्रवेश के लिए किसी से अनुमति लेने की कोई जरूरत नहीं है.

सीआरपीसी के प्रावधानों के मुताबिक पुलिस भारत के किसी भी हिस्से में जाकर आधिकारिक गिरफ्तारी कर सकती है, चाहे उसके पास वारंट हो या न हो. सीआरपीसी का सेक्शन 48 पुलिस को ये अधिकार देता है कि वो आधिकारिक गिरफ्तारी देश के किसी भी इलाके में जाकर करे. चाहे वो क्षेत्र उस पुलिस के अधिकार क्षेत्र से बाहर ही क्यों न हो.

गिरफ्तारी के लिए कहीं भी प्रवेश कर सकती है पुलिस
इसी तरह से सीआरपीसी के सेक्शन 47 (1) के मुताबिक अगर आधिकारिक गिरफ्तारी करने वाले किसी पुलिस अधिकारी को आरोपी के किसी जगह पर छिपे होने का भरोसा होता है तो उस जगह का मालिक कानूनन बाध्य है कि वो पुलिस को अपने क्षेत्र में घुसकर तलाशी लेने की अनुमति दे और पुलिस जांच में हर तरह का सहयोग करे. इसी तरह से सेक्शन 47 (2) के मुताबिक पुलिस अनुमति नहीं मिलने की स्थिति में भी उस जगह में कानूनन प्रवेश कर सकती है. गिरफ्तारी के लिए अगर बाहरी दरवाजा या खिड़की तोड़ने की जरूरत पड़ती है तो पुलिस ये भी कर सकती है.

सीआरपीसी के सेक्शन 46 (1) के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति अपनी गिरफ्तारी से बचना चाहता है या ताकत लगाकर अपनी गिरफ्तारी का विरोध करता है, तो पुलिस अधिकारी गिरफ्तारी करने के लिए हर आवश्यक कदम उठा सकता है. इसमें पुलिस अधिकारी बल का प्रयोग भी कर सकता है. सेक्शन 46 (2) के मुताबिक अगर कोई आरोपी अपनी गिरफ्तारी का ताकत से विरोध करता है, तो पुलिस उसकी मौत की वजह नहीं बन सकती, जब तक कि आरोपी ने फांसी या उम्रकैद की सजा के बराबर का अपराध नहीं किया हो.

does police need permission to enter premises of university college or educational institutions such as jamia millia islamia
जामिया के स्टूडेंट नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे थे


इस तरह से सीआरपीसी के सेक्शन 46 के दोनों प्रावधानों को मिलाकर देखें तो अगर गिरफ्तार होने वाले आरोपी ने फांसी या उम्रकैद की सजा के बराबर का अपराध किया हो और वो गिरफ्तारी से बचने के लिए ताकत लगा रहा हो तो पुलिस गिरफ्तारी में आरोपी की जान भी चली जाए तो ये अपराध नहीं माना जाएगा.

पुलिस सिर्फ शिक्षण संस्थान का सम्मान रखने के लिए वहां के प्रमुख से प्रवेश की अनुमति लेती है या फिर अपनी किसी कार्रवाई की जानकारी वहां के प्रमुख को पहले ही दे देती है. हालांकि वो ऐसा करने को कानूनन बाध्य नहीं है.

उलटे अगर कोई यूनिवर्सिटी या कॉलेज किसी आरोपी की गिरफ्तारी को रोकने के लिए पुलिस अधिकारी को अपने यहां प्रवेश की अनुमति नहीं देता है या पुलिस को रोकता है तो ये कानूनन अपराध होगा. सीआरपीसी के सेक्शन 212 में इस बारे में प्रावधान हैं. ऐसे हजारों उदाहरण हैं, जब पुलिस ने बिना अनुमति के यूनिवर्सिटी और कॉलेज में प्रवेश किया.

ये भी पढ़ें: 

जानिए कौन हैं नए आर्मी चीफ बनने वाले लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवणे
जंग का मैदान बने जामिया से निकली हैं ये मशहूर शख्सियतें
यूपीए सरकार के इस बिल पर भी हुआ था खूब हंगामा, बीजेपी ने कहा था काला कानून
विजय दिवस: जब 13 दिन की जंग के बाद पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों ने किया था सरेंडर 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 17, 2019, 12:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading