बेहद खूबसूरत है Dominica द्वीप, प्राकृतिक सौंदर्य देखने हर साल पहुंचते हैं लाखों सैलानी

चाहे सैलानी हवाई जहाज से पहुंचे या जहाज से, डोमिनिका का सौंदर्य उन्हें बांध लेता है (Photo- pixabay)

चाहे सैलानी हवाई जहाज से पहुंचे या जहाज से, डोमिनिका का सौंदर्य उन्हें बांध लेता है (Photo- pixabay)

भारतीय मीडिया में मेहुल चोकसी के कारण चर्चा में आए डोमिनिका (Mehul Choksi in Dominica island) द्वीप देश को नेचर आइलैंड भी कहा जाता है. यहां समुद्र और पहाड़ों के अलावा जगह-जगह गर्म पानी के सोते हैं, जो कई बीमारियों का इलाज करते हैं.

  • Share this:

पूर्वी कैरेबियाई सागर में बसे द्वीप देश डोमिनिका (Dominica) का जिक्र इन दिनों बार-बार भारतीय मीडिया में आ रहा है. दरअसल भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी फिलहाल वहां पुलिस कस्टडी (Mehul Choksi in police custody) में है. एक रोज पहले ही वहां हिरासत में चोकसी की तस्वीर भी जारी हुई. इस बीच ये जानना दिलचस्प है डोमिनिका पर्यटन के लिहाज से काफी संपन्न देश है. द्वीप होने के कारण ये समुद्र और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है.

कैरेबियाई सागर में फ्रेंच द्वीपों के बीच बसा ये द्वीप लगभग 47 किलोमीटर लंबा और 26 किलोमीटर चौड़ा है. इसकी राजधानी रोज्यू ( Roseau) है, जहां सबसे ज्यादा सैलानी आते हैं. द्वीप में न केवल खूबसूरत द्वीप हैं, बल्कि ये पहाड़ों से भी घिरा हुआ है.

राजधानी से लगभग साढ़े 10 किलोमीटर दूर इस झील को वर्ल्ड हैरिटेज साइट में रखा गया है (Photo- pixabay)

डोमिनिका को सक्रिय ज्वालामुखियों के लिए भी जाना जाता है, हालांकि अच्छी बात ये है कि सदियों से ये कभी फटे नहीं. हां, इनका ये फायदा इस द्वीप को जरूर मिला कि वहां गर्म पानी के कई सोते हैं, जो पर्यटकों के बीच खासे लोकप्रिय हैं.
माना जाता है कि गर्म सोतों में स्नान से कई तरह की त्वचा-संबंधी बीमारियां दूर हो जाती हैं. वहां के नेशनल पार्क में एक झील भी है, जिसे गर्म पानी के कारण बॉइलिंग लेक कहते हैं. राजधानी से लगभग साढ़े 10 किलोमीटर दूर इस झील को वर्ल्ड हैरिटेज साइट में रखा गया है. यहां का पानी नीला-भूरा सा दिखता है और हमेशा भाप की परत तैरती रहती है. ये जगह डोमिनिका के हॉट टूरिस्ट स्पॉट्स में से है.

Youtube Video

ये भी पढ़ें: Explained: व्यापारी जहाज में चीन से आए चूहों ने मचाया Australia में आतंक, 18वीं सदी से चल रहा सिलसिला



चाहे सैलानी हवाई जहाज से पहुंचे या जहाज से, डोमिनिका का सौंदर्य उन्हें बांध लेता है. इसे नेचर आइलैंड भी कहा जाता है. यहां एक छोटा-सा गांव है, वॉटेन वेवन नाम के इस गांव में जगह-जगह पानी के सोते हैं, जो रात में भी खुले रहते हैं ताकि सैलानी खुले आसमान के नीचे चांदनी में एंजॉय कर सकें. इन जगहों की फीस भी बजट में रहती है.

dominican Mehul Choksi
प्राकृतिक सौंदर्य से भरे इस द्वीप देश में अफ्रीकी मूल के लोग बहुतायत में हैं-सांकेतिक फोटो (Photo- pixabay)

डोमिनिका को घने जंगलों के लिए भी जाना जाता है. द्वीप का तिहाई से ज्यादा हिस्सा जंगलों से घिरा है. यहां पेड़-पौधों के अलावा जीव-जंतुओं और खासकर पक्षियों की कई किस्में मिलती हैं. यहां कई ऐसे पंक्षी भी हैं, जो दुनिया में कहीं और नहीं दिखते, जैसे नीले सिर वाला गुंजन पक्षी. वैसे जंगल में कई तरह के फंगल इंफेक्शन फैले, जिसके कारण यहां की कई वनस्पतियां खतरे में आ गई हैं.

ये भी पढ़ें: क्या ज्यादा जिंक खाने से बढ़ा Black Fungus, क्यों उठ रहे हैं सवाल?

प्राकृतिक सौंदर्य से भरे इस द्वीप देश में अफ्रीकी मूल के लोग बहुतायत में हैं. इसके बाद यूरोपियन और भारतीय भी यहां रहते हैं. यहां बसने वाले भारतीय वे हैं, जो कैरेबियन द्वीप में दशकों पहले बस गए थे. उन्हीं के वंशज इस द्वीप तक आ पहुंचे. हालांकि साल 1979 में आए हरिकेन डेविड के बाद से यहां से काफी लोग दूसरे द्वीपों और यूरोपियन देशों की ओर जाने लगे. इस माइग्रेशन से द्वीप को आर्थिक तौर पर नुकसान भी झेलना पड़ा.

dominican Mehul Choksi
अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए डोमिनिका में पर्यटन पर खास ध्यान दिया गया (Photo- pixabay)

नब्बे के दशक में यहां की सरकार ने एक स्कीम लाई, जिसे इकनॉमिक सिटिजनशिप नाम दिया गया. जैसा कि नाम से साफ होता है, इसमें उन लोगों को नागरिकता देने का वादा किया गया, जो द्वीप में इंफ्रास्ट्रक्चर में पैसे लगा सकें. बाद में काफी विवादों के बाद ये स्कीम हटा दी गई. वैसे तो यहां की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी है लेकिन फ्रेंच द्वीपों से घिरे इस देश में फ्रांसीसी भी बोली जाती है. कई बार यहां सैलानियों की आवाजाही के कारण मिश्रित बोलियां भी सुनाई पड़ सकती हैं.

अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए यहां पर्यटन पर खास ध्यान दिया गया. 20 सदी के आखिर-आखिर से ये द्वीप देश काफी लोकप्रिय होने लगा. वे सैलानी यहां आते, जिन्हें नेचर के सारे रंग, समुद्र, पहाड़ और एडवेंचर देखने की ख्वाहिश होती. ब्रिटानिका वेबसाइट के मुताबिक कम सुविधाओं के बाद भी यहां हर साल 80 हजार से ज्यादा सैलानी आते हैं, जो कई दिन बिताते हैं. इनके अलावा 3 लाख से ज्यादा ऐसे लोग भी आते हैं, जो एक दिन बिताकर चले जाते हैं. ये लोग आमतौर पर आसपास के द्वीपों से होते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज