इस इंडियन लड़की को अपने देश बुलाने के लिए क्यों बेकरार है अमे‌रिका

इस इंडियन छात्रा की उम्र 17 साल है. यह फिलहाल दुबई में रहती है. इसने अपनी शुरुआती पढ़ाई पूरी कर ली है. जानिए इसकी पूरी कहानी.

News18Hindi
Updated: April 28, 2019, 7:33 PM IST
इस इंडियन लड़की को अपने देश बुलाने के लिए क्यों बेकरार है अमे‌रिका
इस इंडियन छात्रा की उम्र 17 साल है. यह फिलहाल दुबई में रहती है. इसने अपनी शुरुआती पढ़ाई पूरी कर ली है. जानिए इसकी पूरी कहानी.
News18Hindi
Updated: April 28, 2019, 7:33 PM IST
दुबई में रहने वाली एक 17 वर्षीय छात्रा इस वक्त एक पशोपेश में है. आखिर वे चुने तो किसे चुने, उसको एक सा‌थ अमेरिका की सबसे प्रतिष्ठित सात यूनिवर्सिटी ने चुन (ऑफर ऑफ एक्सेप्टेंस लेटर आ चुके हैं) लिया है. इनमें अमेरिका की सबसे प्रत‌िष्ठित यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया और आइवी लीग स्कूल ग्रुप के डार्टमाउथ कॉलेज भी शामिल हैं.

इस 17 साल की भारतीय मूल की दुबई में पढ़ाई करने वाली छात्रा का नाम सिमोन नूराली है. वह दुबई के मिरदिफ स्थित अपटाउन स्कूल की छात्रा है. वह स्कूल की हेड गर्ल भी है. इस स्कूल में वह पिछले नौ सालों से पढ़ाई कर रही है. लेकिन अमेरिकी विश्वविद्यालयों ने उसके सामने पलकें बिछा दिया है.



दअरसल, सिमोन नूराली की शुरुआती पढ़ाई इस साल खत्म होने वाली है. इसलिए उसने उच्च शिक्षा के लिए प्रतिष्ठित अमेरिकी विश्वविद्यालयों में अप्लाई किया था. उनमें अमेरिका के सबसे टॉप के दो शिक्षण संस्‍थानों के अलावा कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी, जॉन हॉपकिंग यूनिवर्सिटी, जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी, इमोरी यूनिवर्सिटी और जॉर्ज टाउन यूनिवर्सिटी ने उसे अपने यहां प्रवेश देने की पेशकश कर दी है.

ऐसे में सिमोन नूराली इस चुनौती से गुजर रही है कि अमेरिका के किस विश्वविद्यालय को चुने.

अपने सात अमेरिकी यूनिवर्सिटी में सलेक्‍शन पर क्या बोली सिमोन
जहां अमेरिका के किसी एक यूनिवर्सिटी में सेलेक्‍शन लेना लोगों का सपना होता है वहां की सात सबसे उच्च दर्जे के शिक्षण संस्‍थानों की ओर से अपने यहां पढ़ने के लिए बुलाए जाने पर सिमोन कहती हैं, "मैं ईमानदारी से बता रही हूं, मेरे सात जगहों पर हुए सेलेक्‍शन में कुछ भी सीक्रेट जैसा नहीं है. यह पूरा प्रोसेस बहुत ही शानदार रहा. करीब-करीब सभी यूनिवर्सिटी ने अलग-अलग विषयों की पढ़ाई के लिए बुलाया है."simone noorali

वह आगे बताती हैं, "इन सब विश्वविद्यालयों में अप्लाई करते वक्त मैंने बार-बार अपनी पिछली जिंदगी के बारे में गहराई से सोचा. काफी सोचने समझने के बाद अमेरिका में पढ़ने के बारे में सोचा था. मैंने सभी विश्वविद्यालयों से अपने कॉलेज के अनुभवों को शेयर किया था."
Loading...

लिख चुकी हैं ऐसी किताब, जिसे भारत में कई जगहों पर पढ़ाया जाता है
सिमोन नूराली अपनी इस छोटी सी उम्र में ही एक ऐसी किताब लिख चुकी हैं, जो कई शिक्षण संस्‍‌थनों में बच्चों को पढ़ाई जाती है. बल्कि कुछ जगहों पर इस किताब के ऊपर रिसर्च भी कराया जाता है. यह किताब भारत में लड़कियों की तस्करी के ऊपर आधारित है. इस किताब का नाम है- दी गर्ल इन द पिंक रूम.

इस यूनिवर्सिटी को चुनेंगी सिमोन?
कई रिपोर्ट में ऐसा दावा किया गया है कि सिमोन ने अपने सात अमेरिकी शीर्ष शिक्षण संस्‍‌थानों में एडमिशन के होने की उम्मीद नहीं की थी. जब उन्हें पता चला तो वो चौंक गईं. अपने विश्वविद्यालय के चयन के बारे में उन्होंने बताया, "उसे चुनूंगी जिसके पास अंतराष्ट्रीय संबंधों और अर्थशास्‍त्र विषय में बेहतर कोर्स होगा."

दूसरे छात्र-छात्राओं से क्या कहती हैं सिमोन
सीमोन कहती हैं, "मैं बस इतनी सलाह देना चाहूंगी कि खुद को वही काम करने के लिए कहें जो जिससे आपको प्यार हो. क्योंकि यही सबसे बड़ा मोटिवेशन होता है."

यह भी पढ़ें : 9वीं क्लास में दो बार फेल होने पर भी नहीं मानी हार! आज हैं दो कंपनियों के मालिक

यह भी पढ़ें : नौवीं फेल यह क्रिकेटर आज भारतीय टीम का 'सितारा'

यह भी पढ़ें : जीवन में सफल होना चाहते हैं तो काम आएगी यह कहानी!

यह भी पढ़ें : टीचर बनने के लिए B.Ed-D.EL.Ed की जरूरत नहीं, 12वीं में आए हैं 50% नंबर तो कर लें ये कोर्स

करियर और जॉब्स से संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...