जानिए क्या होती है आग और क्यों होता है इसमें विविधता

आग (Fire) एक प्रक्रिया होती है जिसमें ऊष्मा (Heat) और प्रकाश (Light) निकलता है.(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)
आग (Fire) एक प्रक्रिया होती है जिसमें ऊष्मा (Heat) और प्रकाश (Light) निकलता है.(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

आग (Fire) एक रासायनिक प्रक्रिया (Chemical Process) है, लेकिन इसके अलग-अलग रूप भी होते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2020, 8:59 PM IST
  • Share this:
बचपन से ही आग (Fire) को लेकर मुझमें बड़ा कौतूहल था. आग मुझे अजीब सी चीज लगती थी क्योंकि मैं उसके बारे में केवल एक ही चीज जान सका था कि वह बहुत गर्म (Hot) होती जिससे मैं जल (Brun) सकता हूं. न उसका कोई आकार (Shape) था न ही कोई एक स्थायी रंग (Colour). मुझे हैरानी होती थी कि आग अलग अलग जगहों पर इतने रंग कैसे बना लेती थी. एलपीजी गैस के बर्नर पर वह नीले रंग की होती है तो चूल्हे या होली में वह कभी लाल, पीली या नारंगी रंग की. बहुत ही बाद में यह जान सका कि वह वास्तव में होती क्या है लेकिन फिर यह समझा पाना बहुत मुश्किल रहा कि आग क्या है. आज हम आग को एक समान्य प्रक्रिया के तहत समझेंगे.

रासायनिक क्रिया
आग एक ऐसी रासायनिक क्रिया है जिससे ऊष्मा और प्रकाश दोनों निकलता है. इस रासायनिक प्रतिक्रिया की कुछ शर्तें है जैसे इसके हवा खासकर ऑक्सीजन की मौजूदगी होना और एक जलने योग्य पदार्थ और आवश्यक तापमान का होना जरूरी है. जलने की इस प्रक्रिया को ज्वलन या दहन और अंग्रेजी में Combustion कहते हैं.

आग में विविधता
आग को लेकर यह व्याख्या बहुत ही सरल है, इसमें विविधता आने पर आग के प्रकार में बदलाव आता है और उसके रंग में भी. यह रंग उसी प्रकाश का का रंग होता है जो रासायनिक क्रिया के परिणामस्वरूप पैदा होती है. यही विविधता भी आग के बारे में बहुत सारे भ्रम पैदा करती है.





Fire, Combustion, Fuel, material,
आग (Fire) पकड़े की क्षमता हर पदार्थ (Material) में अलग-अलग होती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


मोमबत्ती का जलना
अगर हम मोमबत्ती के बारे में बात करें तो यह आग को सामान्य रूप से समझने का अच्छा उदाहरण हैं. इसमें एक ज्वलनशील पदार्थ होता है जो ईंधन की तरह काम करता है. इसके बाद हवा की मौजूदगी में उसे पर्याप्त तापमान दिया जाता है तो मोमबत्ती जलने लगती है. अगर इस मोमबत्ती को कांच के बर्तन या ग्लास से पूरी तरह से ढक दिया जाए तो आग जलना बंद हो जाती है.

जानिए पक्षियों की तरह क्यों नहीं उड़ सकता इंसान

आग भी होती है उपयोगी
आमतौर पर बहुत से पदार्थ ही ज्वालशील होते हैं बस उसका जलने का तापमान अलग होता है. वहीं कई पदार्थ ऐसे होते हैं जो सामान्य स्थितियों में जलना शुरू होते हैं तो वे तेजी से जलने लगते हैं. ऐसे पदार्थ ईंधन कहे जाते हैं क्योंकि इनकी ऊष्मा का उपयोग हम वाहन चलाने या खाना पकाने, या केवल रोशनी हासिल करने जैसे कार्यों में करते हैं. हर ईंधन की ऊष्मा पैदा करने की क्षमता अलग अलग होती है. ज्यादा ऊष्मा पैदा करने वाला ईंधन अच्छा माना जाता है, लेकिन उसके साथ उसकी उपलब्धता, उसे नियंत्रित करने की क्षमता जैसे कारक भी महत्व रखते हैं.

Forest, Fire, Wild fire, Trees,
जंगल (Forest) में आग (Fire) फैलने का कारण वहां की पेड़ों (Trees)की लकड़ी और पत्तों की ज्वलनशीलता होती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


विस्फोट वाली आग
वहीं कुछ पदार्थ इतनी तेजी से आग पकड़ते हैं कि उनमें एक विस्फोट हो जाता है. ऐसा पदार्थों के विस्फोटक पदार्थ कहते हैं. इनमें भी दो श्रेणी हो सकती है एक जिन्हें नियंत्रित किया जा सकता है जा सकता है जैसे की एलपीजी या रसोई घर की गैस, कैरोसीन या मिट्टी का तेल. लेकिन कई पदार्थ जरा सी आग पकड़ने पर ही विस्फोटित हो जाते हैं. बारूद आदि इसी श्रेणी में आती है जिसका उपयोग विस्फोटक हथियार में किया जाता है.

जानिए क्यों खारे होते हैं सागर और कहां से आया उनमें इतना नमक

आग का बुझना
आग बुझाने की तरीकों में उसकी प्रक्रिया रोकने के तरीके शामिल होते हैं. जैसे या तो ऑक्सीजन की उपलब्धता खत्म कर दी जाए जा फिर ईंधन या ज्वलनशील पदार्थ का जलने योग्य तापमान से संपर्क खत्म कर दिया जाए. इसी लिए कभी आग बुझाने के लिए पानी काम आता है तो कभी मिट्टी या रेत भी. आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि जंगल में फैलती आग को रोकने के लिए उस आग से कुछ दूर पर छोटी से आग जलाई जाती है जिससे आग का संपर्क आगे की ज्वलनशील लकड़ियों से होना बंद हो जाए और आग न फैल सकें. मुझे बहुत ही बाद में पता चला कि जिसे मैं आग समझता था वह दरअसर केवल लपट या लौ ही थी. आग का केवल खास तरह का प्रकार.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज