Home /News /knowledge /

पहली बार मिल्की वे में मिला गुरु ग्रह से दोगुने आकार का विकृत बाह्यग्रह

पहली बार मिल्की वे में मिला गुरु ग्रह से दोगुने आकार का विकृत बाह्यग्रह

इस तरह का विकृत ग्रह (Planet) पहली बार देखा गया है. (तस्वीर: @ESA_CHEOPS)

इस तरह का विकृत ग्रह (Planet) पहली बार देखा गया है. (तस्वीर: @ESA_CHEOPS)

यूरोपीय स्पेस एजेंसी (ESA) के सैटेलाइट ने एक अनोखे बाह्यग्रह (Exoplanet) की खोज की है. इसकी सबसे अजीब बात यही है कि इस ग्रह का आकार गोल नहीं हैं, बल्कि एक रग्बी की गेंद का है. इसके बाद भी इस ग्रह की हमारे सौरमंडल के गुरु ग्रह (Jupiter) से काफी अहम समानताएं हैं. इसलिए इस ग्रह का विशेष तौर पर अध्ययन किया जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    बाह्यग्रहों (Exoplanet) के अध्ययन में हमारे खगोलविद किसी भी तरह के पिंड को हलके में नहीं लेते. कभी किसी नए बाह्यग्रह के बहुत से गुण सौरमंडल (Solar System) के ग्रहों से मिलते हैं तो कभी किसी के केवल कुछ ही गुण. ऐसे में कई बार खगोलविदों को कुछ अजीब तरह के ग्रह भी दिखाई दे जाते हैं. ऐसा ही एक अजीब सा विकृत ग्रह खगोलविदों को यूरोपीय स्पेस एजेंसी के कैरेक्टराइजिंग एक्सोप्लैनेट या चिओप्स (Cheops) ने खोजा है.

    आंतरिक संरचना की नई जानकारी
    यह पहली बार है कि खगोलविदों ने कोई विकृत ग्रह खोजा है. इस ग्रह की एक और खास बात यही है कि यह एक ही दिन में अपने तारे का एक चक्कर लगा लेता है. बताया जा रहा है कि यह बाह्यग्रह बड़े ग्रहों की आंतरिक संरचना के बारे में काफी ज्यादा नई जानकारी दे सकता है. यह संचरना गुरु ग्रह की संरचना से भी मेल खाती है.

    कैसा है इस ग्रह का सूर्य
    इस बाह्यग्रह का नाम WASP-103b है जो हर्क्यूलस तारामडंल में स्थित है जो WASP-103 तारे का चक्कर लगा रहा है. यह तारा हमारे सूर्य से 1.7 गुना ज्यादा बड़ा है और 200 डिग्री ज्यादा गर्म है. इस ग्रह की विकृति इसका सबसे बड़ा आकर्षण है. इसका ग्रह और इसके तारे के बीच ज्वारीय बल से संबंध बताया जा रहा है.

    ज्वारीय बल का खेल
    इस खोज की जानकारी एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स में प्रकाशित हुई है. अध्ययन में कहा गया है क यह पहली बार है कि ज्वारीय बल की वजह से विकृति को सीधे बाह्य ग्रह की ओर से आती ट्रांजिट प्रकाश के जरिए देखा गया है. शोधपत्र में कहा गया है क इससे हमें WASP-103b की आंतरिक संरचना और संयोजन की जानकारी मिल सकेगी. इससे इस गर्म गुरु ग्रह के फूलने की वजह पता चल सकेगी.

    Space, Galaxy, ESA, Solar System, Milky Way, Jupiter, Exoplanet,

    यूरोपीय स्पेस एजेंसी (ESA) के चिओप्स यान ने बाह्यग्रह के इस सिस्टम की जानकारी दी है. (तस्वीर: ESA)

    विकृत क्यों है यह ग्रह
    इस ग्रह का आकार इतना विकृत क्यों है इसकी वजह इसके तारे के पास होना और उसके ज्वारीय बल को जिम्मेदार माना जा रहा है. ज्वारीय बल पृथ्वी पर भी देखे जा सकते हैं, जिसकी वजह से महासागरों में विशेष गतिविधि देखी जाती है. ऐसा चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण के  प्रभाव के रूप में  होता है. लेकिन चंद्रमा पृथ्वी से इतनी दूर है कि उसकी वजह से पृथ्वी में विकृत नहीं आ सकी है.

    जानिए मिनी सुपरमासिव ब्लैक होल के बारे में, अब तक का सबसे छोटा है ये

    गुरु की तुलना में
    लेकिन WASP-103b का मामला काफी अलग है. इसका आकर गुरु ग्रह से दो करीब दो गुना बड़ा है और उसका भार गुरु से 1.5 गुना ज्यादा है. इतना ही नही यह ग्रह अपने तारे का एक ही दिन में पूरा चक्कर लगा लेता है.  खगोलविदों को लगता है कि इतने पास होने की वजह से ही ज्वारीय बल लग रहा होगा. लेकिन अब तक वे इसे माप नहीं सके.

    Space, Galaxy, ESA, Solar System, Milky Way, Jupiter, Exoplanet,

    आमतौर पर बाह्यग्रह (Exoplanet) गोलाकार होते हैं, लेकिन यह ग्रह अपने तारे के बहुत ही पास था. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

    आंतरिक संरचना खास बात
    शोधकर्ता यह पता लगाने में जरूर सफल हो गए कि ज्वारीय बल से बाह्यग्रह WASP-103b में विकृति कैसे आई होगी जबकि आमतौर पर ग्रह गोलाकार ही होते हैं. ईएसए का कहना है कि अध्ययन से यह भी बात पता चली है कि इस ग्रह की आंतरिक संरचना गुरु ग्रह की आंतरिक संरचना से मिलती जुलती है.

    मिल्की वे गैलेक्सी से हुए थे ‘हाल’ ही में बड़े टकराव, और भी होंगे

    विकृति किस हद तक होगी यह सब ग्रहों के पदार्थों की रासायनिक संरचना पर निर्भर करता है. पृथ्वी पर जहां केवल चंद्रमा का ज्वारीय प्रभाव दिखता है, जबकि उसपर सूर्य का ज्वारीय प्रभाव भी पड़ता है. ग्रह की विकृति की मात्रा से हमें यह पता चल सकता है कि ग्रह कितना पथरीला है, कितना गैसीय और कितने पानी वाला है. अब शोधकर्ताओं के जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप से इस सिस्टम की ज्यादा जानकारी मिलने की उम्मीद है.

    Tags: Galaxy, Research, Science, Space

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर