लाइव टीवी

Fact Check: क्‍या ज्‍यादा नमक खाने से बढ़ जाता है कोरोना वायरस का खतरा?

News18Hindi
Updated: April 2, 2020, 9:40 PM IST
Fact Check: क्‍या ज्‍यादा नमक खाने से बढ़ जाता है कोरोना वायरस का खतरा?
हिमाचल में कोरोना वायरस.

दुनियाभर के वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं का मानना है कि मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) वाले लोगों पर कोरोना वायरस (Coronavirus) का बहुत बुरा असर नहीं होगा. कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि ज्‍यादा नमक (Salt) खाने से संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है. जानते हैं कि उनके ऐसा कहने के पीछे क्‍या तर्क है...

  • Share this:
दुनिया भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मरीजों की संख्‍या में लगातार वृद्धि हो रही है. ऐसे में वैज्ञानिक लगातार ये जानने की कोशिशों में जुटे हैं कि क्‍या करने से ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को संक्रमण से बचाया जा सकता है. इसी क्रम में रहन-सहन से लेकर आपस के व्‍यवहार और खानपान को लेकर लगातार शोध (Research) किए जा रहे हैं. वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना वायरस से मुकाबला करने के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) सबसे अहम भूमिका है. इसलिए शोधकर्ता इम्‍युनिटी को बेहतर बनाने के लिए लगातार सुझाव दे रहे हैं. अब शोधकर्ताओं का कहना है कि COVID-19 से बचे रहने के लिए कम नमक (Salt) खाना जरूरी है. आइए समझते हैं कि वो ऐसा क्‍यों कह रहे हैं...

रोग प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर करता है ज्‍यादा नमक
शोधकर्ताओं का कहना है कि ज्‍यादा नमक वाले भोजन के कारण पहले तो हाई ब्‍लडप्रेशर की समस्‍या होती है. साथ ही ये व्‍यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी कम कर देता है. जर्मनी की यूनिवर्सिटी ऑफ बोन के हॉस्पिटल में शोधकर्ताओं ने चूहों पर अध्ययन किया. इसमें पाया गया कि जिन चूहों को ज्‍यादा नमक वाला खाना दिया गया उनमें बैक्टीरियल और वायरल इंफेक्शन ज्यादा हुआ. वहीं, शोध में शामिल इंसानों ने हर दिन 6 ग्राम अतिरिक्त नमक वाला भोजन किया. ऐसा भोजन करने वाले इंसानों की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर हो गई. शोधकर्ताओं का कहना है कि दिन में दो बार फास्ट फूड खाने वाले लोग हर दिन 6 ग्राम ज्‍यादा नमक का सेवन कर लेते हैं. इस शोध को 'साइंस ट्रांसलेशन मेडिसिन' मैग्‍जीन में प्रकाशित किया गया है. बता दें कि सोडियम क्लोराइड इंसानों की रोग प्रतिरोधी क्षमता पर बुरा असर डालता है.

वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं का मानना है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होगी तो कोरोना वायरस आसानी से शिकार नहीं बना पाएगा.




एक दिन में ज्‍यादा से ज्‍यादा 5 ग्राम नकम खाना अच्‍छा


शोध के दौरान कुछ इंसानों को हर दिन दो बर्गर और दो फ्रेंच फ्राई के जरिये 6 ग्राम ज्‍यादा नमक दिया गया. एक हफ्ते बाद शोधकर्ताओं ने उनके खून के नमूने लिए और उनमें मौजूद ग्रैनुलोसाइट की मात्रा का आकलन किया. ये ग्रैनुलोसाइट रक्‍त में मौजूद प्रतिरोधी कोशिकाएं होती हैं. नमक की ज्‍यादा मात्रा के कारण ये कोशिकाएं बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में कम असरदार साबित हो रही थीं. ज्यादा नमक खाने से रक्त में ग्लूको कोरटिसोइड का स्तर भी बढ़ गया. ये पदार्थ प्रतिरोधी क्षमता पर हावी होकर उसे कमजोर कर देता है. शोधकर्ताओं ने निष्‍कर्ष निकाला कि ज्‍यादा नमक खाने से इंसान की प्रतिरोधी क्षमता कमजोर हो सकती है. शोध के अनुसार एक युवा को दिन में 5 ग्राम से ज्यादा नमक नहीं खाना चाहिए. रॉबर्ट कोच इंस्टीट्यूट के एक शोध के अनुसार, एक औसत आदमी दिनभर में 10 ग्राम नमक खा लेता है, जबकि महिलाएं 8 ग्राम सेवन करती हैं. ज्यादा नमक खाने से हार्ट अटैक और ब्रेन हैमरेज का खतरा बढ़ जाता है.

हाई प्रोटीन डायट से इम्‍युनिटी को मिलती है मजबूती
अब यहां भी सवाल उठता है कि क्‍या खाने से कोरोना वायरस से बचाव में मदद मिलेगी. इस बारे में एक निजी अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट (इंटरनल मेडिसिन) डॉ. श्रीकांत शर्मा ने कहा कि दूसरे वायरस की तरह ये भी मजबूत इम्युनिटी वालों का कुछ नहीं बिगाड़ पाता. शरीर की बीमारियों से लड़ने की क्षमता को बेहतर बनाने के लिए हाई-प्रोटीन डायट लेना जरूरी है. आमतौर पर हमारे रोजमर्रा के खाने में प्रोटीन लगभग 15 फीसदी तक रहता है. संक्रमण को देखते हुए अब हमें इसकी मात्रा बढाने की जरूरत है यानी लगभग 25 फीसदी तक. कार्बोहाइडेड की मात्रा लगभग 50 प्रतिशत तक रखी जानी चाहिए. इसके अलावा ज्यादा से ज्यादा ऐसी चीजें खानी चाहिए जिसमें आयरन की मात्रा ज्यादा हो. सूखे मेवों में रात को भिगोए हुए बादाम इम्युनिटी बढ़ाते हैं. साथ ही अखरोट और किशमिश खाना भी शरीर को मजबूती देता है.

डॉक्‍टर्स का कहना है कि हाई प्रोटीन डायट से रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत रखा जा सकता है.


आयुष मंत्रालय ने भी इम्‍युनिटी बढ़ाने की दी है सलाह
डॉ. शर्मा कहते हैं कि फलों में लाल या पीले रंग वाले संतरा, मौसंबी, बेर, बेरी, किवि और पपीता को खाने में शामिल करना बेहतर होगा. ये सारे ही फल शरीर में विटामिन सी, आयरन और ओमेगा-3 फैटी एसिड बढ़ाकर शरीर को बीमारियों से लड़ने की मजबूती देते हैं. कुछ आर्युवेदिक नुस्खे भी अपनाए जा सकते हैं, जिनका अगर फायदा न हो तो भी कोई नुकसान नहीं है. जैसे सुबह खाली पेट तुलसी के धुले हुए पत्ते खाएं और उसके तुरंत बाद दूध या पानी पी लें. कुछ पीना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि तुलसी में थोड़ी मात्रा में मर्करी होती है. मर्करी खाने पर दांतों में पीलापन आ जाता है. वहीं, दूध या पानी पीने पर ये डर नहीं रहता. इसके अलावा दोपहर के खाने से पहले 2 लौंग चबा सकते हैं. इसके आधे घंटे बाद ही कुछ खाएं. लौंग भी इम्युनिटी के लिए फायदेमंद होती है. आयुष मंत्रालय ने बताया है कि लौंग को पीसकर शहद या गुड के साथ खाने से भी इम्‍युनिटी बढ़ाने में मदद मिल सकती है.

ये भी देखें:

Coronavirus: लॉकडाउन के बीच देश भर में तेजी से गिरा अपराध का ग्राफ

Coronavirus: क्‍या सिगरेट पीने वाले हर कश के साथ अपने लिए बढ़ा रहे हैं खतरा?

जानें कोरोना वायरस फैलने के बीच हर दिन कैसे बदल रही थी चीन के लोगों की जिंदगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 2, 2020, 9:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading