• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • तानाशाह किम जोंग की एक ट्रेन रिजॉर्ट के पास दिखी, बाकी स्पेशल ट्रेनें कहां हैं

तानाशाह किम जोंग की एक ट्रेन रिजॉर्ट के पास दिखी, बाकी स्पेशल ट्रेनें कहां हैं

इस खास ट्रेन को किम का चलता-फिरता किला भी माना जाता है

इस खास ट्रेन को किम का चलता-फिरता किला भी माना जाता है

उत्तर कोरिया (North Korea) के सैन्य शासक किम जोंग उन (Kim Jong Un) की सेहत को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. इसी बीच उनकी सीक्रेट ट्रेन (secret train) देश के देश के पूर्वी तट पर दिखी गई. सैटलाइट इमेज (satellite image) में दिखी किम की ये ट्रेन अपने शासक की तरह ही रहस्यों से भरी हुई है. इस ट्रेन के अलावा 5 और ट्रेनें हैं, जो किम की खानदानी ट्रेनें मानी जाती हैं.

  • Share this:
    उत्तर कोरिया (North Korea) के नेशनल हॉलीडे (national holiday) कार्यक्रम में किम जोंग उन (Kim Jong Un) के शामिल न होने के बाद से तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं. कई दिनों तक  कहा जाता रहा कि उनकी हार्ट सर्जरी हुई है, जो कामयाब नहीं हो पाई. इसके बाद उनके ब्रेन डेड (brain dead) होने की बातें भी आईं. ये अटकलें भी लगने लगीं कि किम के बाद सत्ता कौन संभालेगा. वैसे उनकी खास ट्रेन राजधानी प्योंगयांग के बाहर एक रिजॉर्ट पर नजर आई है. लेकिन किम की बाकी स्पेशल ट्रेनें कहां हैं. आम दिनों में उनकी स्पेशल ट्रेनें प्योंगयांग के आसपास के यार्ड्स पर ही खड़ी रहती हैं.

    माना जाता है कि किम जोंग के पिता किम जोंग इल के पास 06 लक्जरी ट्रेनें थीं, जिनमें कुल मिलाकर 90 कोच थे. सारे ही कोच बुलेटप्रूफ और साथ ही सारी सुविधाओं से युक्त थे. किम का परिवार आमतौर पर हवाई यात्राओं को पसंद नहीं करता. तीन पीढ़ियों से ये शासक परिवार ट्रेन से ही यात्रा करता है.

    जब वो यात्रा नहीं कर रहे होते तो उनकी ट्रेनें प्योंगयांग के खास यार्ड या फिर आसपास के उन रेलवे स्टेशन में खड़ी रहती हैं, जो खासतौर पर केवल इसी ट्रेन के लिए हैं. दरअसल किम की खास ट्रेनों के लिए देशभर में 19 बड़े खुफिया स्टेशन बनाए गए हैं.

    ये भी माना जा सकता है कि रेजॉर्ट के सामने जहां किम की खास ट्रेन खड़ी हो, वो आमतौर पर रूटीन में उसकी खड़ी होने वाली जगहों में एक जगह हो. हालांकि इस खास ट्रेन को रेजॉर्ट के बाहर खड़ी देखे जाने के बाद दुनियाभर का मीडिया यही कयास लगा रहा है कि वो शायद रेजॉर्ट में होंगे. लेकिन ये भी एक कयास ही हो सकता है. ये एक बड़ा सवाल है कि किम के फ्लीट की अन्य पांच खास ट्रेनें इस समय कहां हैं.

    किम जोंग की खुफिया ट्रेन लगभग 250 मीटर लंबी और सारी अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त है


    किम के पिता और दादा ने भी कीं ट्रेन से ही यात्राएं
    उत्तर कोरिया के मामलों पर अध्ययन कर रही एक वेबसाइट 38 North ने ये सैटेलाइट इमेज जारी की. इमेज में दिख रही ट्रेन को किम का चलता-फिरता किला भी माना जाता है. किम जोंग की खुफिया ट्रेन लगभग 250 मीटर लंबी और सारी अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त है. माना जाता है कि किम जोंग के पिता किम जोंग इल भी अपनी विदेश यात्राओं में इसी ट्रेन का इस्तेमाल करते थे, उन्हें हवाई यात्रा पसंद नहीं थी. यहां तक कि किम के दादा किम 2 संग भी इसी खास ट्रेन का उपयोग करते थे. साल 1950 में कोरियन युद्ध के दौरान वर्तमान तानाशाह के दादा ने इसी ट्रेन को अपने हेडक्वार्टर की तरह इस्तेमाल किया और यहीं से दक्षिण कोरिया से युद्ध के लिए अपनी रणनीतियां तय कीं.

    लंबी दूरियां तय हुईं
    माना जाता है कि साल 1974 में ईस्टर्न यूरोप के सभी सोशलिस्ट देशों में जाने के लिए भी किम 2 ने इसी ट्रेन से यात्रा की. वहीं किम के पिता किम जोंग इल को हवाई यात्राओं से डर लगता था इसलिए उन्होंने भी विदेश यात्रा या देश के किसी भी हिस्से में जाने के लिए इसी ट्रेन को तरजीह दी. उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया Korean Central Television के मुताबिक किम जोंग इल की मौत साल 2011 के दिसंबर में इसी ट्रेन में हुई थी. किम जोंग उन ने भी वियतनाम में हनोई मीटिंग के दौरान प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात के लिए इसी ट्रेन से सफर किया.

    कैसी है ट्रेन की सुरक्षा
    ट्रेन में सुरक्षा के सारे बंदोबस्त हैं. माना जाता है कि इसके सारे डिब्बे बख़्तरबंद होते हैं, जहां लड़ाई या खुद को बचाने के सारे आधुनिक उपकरण हैं. साथ ही अलग-अलग टेलीफोन लाइन भी हैं. ट्रेन की सुरक्षा बढ़ा दी गई, जब उत्तर कोरिया के एक शहर Ryongchon में एक बम विस्फोट हुआ. चीन की सीमा से लगे इस शहर में साल 2004 में हुए विस्फोट में लगभग 54 लोग मारे गए. इस विस्फोट से ठीक 2 घंटे पहले किम की ट्रेन इस लाइन से गुजरी थी. माना जाता है कि ये कोई साजिश थी. इसके तुरंत बाद ट्रेन में सुरक्षा के इंतजाम खासे पुख्ता हो गए. अब किम की प्राइवेट ट्रेन के गुजरने से पहले एक और प्राइवेट ट्रेन निकलती है, जो रेलवे लाइन पर सुरक्षा के इंतजाम चेक करती है. इसके बाद किम की ट्रेन होती है, जो पहली ट्रेन से 20 मिनट बाद आती है. तीसरी ट्रेन में अतिरिक्त सुक्षा स्टाफ और जरूरत की दूसरी चीजें होती हैं.

    किम जोंग ने वियतनाम में हनोई मीटिंग के दौरान प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात के लिए इसी ट्रेन से सफर किया


    होटल का आलीशान कमरा भी पीछे
    बेहद लग्जरी पसंद इस तानाशाह परिवार की ट्रेन भी काफी आलीशान है. इसमें 22 कोच हैं, जिनमें से हरेक में बाथरूम के साथ स्नैकिंग की सुविधा है. यानी हर डिब्बा होटल के किसी आलीशान कमरे की तरह है. सफर कर रहे यात्रियों, जो किम या उनके परिवार के ही लोग होते हैं, खाने-पीने के खास इंतजाम रहते हैं. इसमें दुनिया से लगभग सभी हिस्सों के खास व्यंजन बनाने वाले शेफ मौजूद होते हैं. शराब के शौकीनों के लिए अत्याधुनिक बार है, जहां नई और पुरानी हर तरह की शराब मिलती है. माना जाता है कि किम के दिलबहलाव के लिए ट्रेन में खूबसूरत महिलाएं भी होती हैं, जिन्हें लेडी कंडक्टर कहा जाता है.

    यहीं होती है किम की कारें
    ट्रेन में किम की खास बुलेटप्रूफ कारें भी होती हैं, जो ट्रेन के रुकने पर किम को बाहर स्थानीय यात्रा के लिए इस्तेमाल होती हैं. हर कोच में सबसे मॉर्डन टीवी स्क्रीन है, जिसमें कुछ ही चैनल आते हैं. साथ ही सेहत के लिए यहां जिम और खेलने की सुविधा भी है. सैनिकों और शेफ के अलावा तीनों ही ट्रेन्स में डॉक्टरों का एक ग्रुप होता है, जिसमें से कुछ डॉक्टर सिर्फ किम की सेहत का लेखा-जोखा रखते हैं. उन डॉक्टरों को बाहरी लोगों से मेलजोल की इजाजत नहीं होती है. सेहत को लेकर बेहद फिक्रमंद रहे किम मोटापे और स्मोकिंग के कारण कई किस्म की बीमारियों से भी जूझ रहे हैं.

    ट्रेन्स में डॉक्टरों का एक ग्रुप होता है, जिसमें से कुछ डॉक्टर सिर्फ किम की सेहत का लेखा-जोखा रखते हैं


    भारी-भरदम होते हैं डिब्बे
    सारे डिब्बों के बुलेटप्रूफ होने के कारण ट्रेन का वजह काफी ज्यादा है और इसी वजह से ये प्रति घंटा 60 किलोमीटर की रफ्तार से ज्यादा तेजी से नहीं चल सकती. किम की इन तीन खास ट्रेनों के लिए अलग से 19 स्टेशन बने हैं, जहां खुफिया कमरे भी हैं. इन जगहों पर आम लोगों या इजाजत के बिना किसी सरकारी आदमी का आना-जाना भी मना है. जब भी किम की ट्रेन यात्रा कन्फर्म होती है, उसके बाद के 24 घंटों के लिए रेलवे स्टेशनों और रेलवे लाइन पर सुरक्षा के बंदोबस्त और तगड़े हो जाते हैं.

    किम की सेहत को लेकर ये नया दावा
    इस बीच ब्रिटिश अखबार द मिरर के मुताबिक, दक्षिण कोरिया के अखबार जून्गअंग लबो ने चीन के हवाले से खबर दी है कि किम जोंग इसलिए बाहर नहीं आ रहे हैं क्योंकि उनका बॉडिगार्ड कोरोना संक्रमण का संदिग्ध पाया गया है. दक्षिण कोरिया के एक और अखबार डॉनंग-ए-लबो ने दावा किया कि कोरोना वायरस से बचने के लिए किम जोंग प्योंगयांग से बाहर वॉनसन के एक रिजॉर्ट में ठहरे हुए हैं. रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि किम के कुछ अधिकारी कोरोना से संक्रमित हो गए हैं. कहा जा रहा है कि किम को 15 से 20 अप्रैल के बीच पैदल चलते हुए भी देखा गया.

    ये भी देखें:

    जानिए क्या है कोरोना का सबसे घातक प्रकार, जो गुजरात और मप्र में बरपा रहा है कहर

    अंग्रेजों के वक्त भी होता था लॉकडाउन, मिलती थी महीनेभर की सैलरी मुफ्त

    जानिए, क्या होता है उत्तर कोरिया की जेलों के भीतर

    चीन का वो पड़ोसी मुल्क, जहां कोरोना संक्रमण नहीं ले सका एक भी जान

    Coronavirus: जानिए, कौन होते हैं वे लोग, जो खुदपर करवाते हैं खतरनाक परीक्षण

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज