क्या खास विटामिन खाने वाली महिलाओं को कम होता है कोरोना संक्रमण?

कोविड-19 (Covid-19) महामारी की शुरुआत से ही विटामिन  आदि की दवाओं में बिक्री बहुत तेजी से बढ़ी थी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

कोविड-19 (Covid-19) महामारी की शुरुआत से ही विटामिन आदि की दवाओं में बिक्री बहुत तेजी से बढ़ी थी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

कोविड-19 (Covid-19) पर हुए एक रोचक शोध में पता चला है कि जो उन महिलाओं (Women) को कोरोना संक्रमण कम होता है जो खास तरह के विटामिन (Vitamin) खाती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 3:39 PM IST
  • Share this:
दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस (Coronavirus) की नई लहर कहर ढा रही है. करीब पिछले सवा साल से ज्यादा  कोविड-19 (Covid-19) महामारी ने दुनिया में तूफान मचा रखा है. ऐसे में शुरु से ही स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस  बात पर जोर दे रहे हैं कि इस बीमारी में संक्रमित लोगों की मजबूत इम्यूनिटी ही उन्हें बचा सकती है. इसी बीच एक रोचक शोध में अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ताओं ने पता लगाया है कि जो महिलाएं (Women) कुछ खास तरह के विटामिन का सेवन करती हैं उन्हें कोरोना संक्रमण का खतरा कम होता है.

हेल्थ सप्लिमेंट्स पर हुआ खास अध्ययन

अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ताओं के इस शोध का मतलब यह नहीं है कि इन खास विटामिन से कोविड-19 से सुरक्षा की कोई गारंटी मिल जाएगी. बीएमजे न्यूट्रीशन प्रिवेंशन एंड हेल्थ जर्नल में प्रकाशित इस शोध में लोगों के हेल्थ सप्लिमेंट्स लेने पर अध्ययन किया गया है.

Youtube Video

कोई स्पष्टता नहीं

यहां ध्यान देने वाली बात यह भी है कि मल्टीविटामिम के फायदे बहुत ही सीमित हैं और आमतौर पर डॉक्टर ज्यादातर लोगों को यही सलाह देते हैं कि उन्हें खुद को स्वस्थ्य रखने के लिए अपने भोजन में पर्याप्त माइक्रो न्यूट्रेंट शामिल करना चाहिए. वहीं विटामिन के फायदों को लेकर अभी तक हुए शोध कोई स्पष्ट गाइडलाइन तैयार नहीं कर सके हैं और खुराक पूरी तरह से मरीज पर निर्भर करती है.

दवाओं की बढ़ी बिक्री



इसके बावजूद महामारी के शुरुआती दिनों में विटामिलन की बहुत सी दवाओं के सेवन की अनुशंसा की गई और इनकी बिक्री में खासा इजाफा हुआ. टीम ने अपने शोध में लिखा है कि यूके का सप्लिमेंट मार्केट वहां मार्च 2020 में 19.5 प्रतिशत बढ़ गया जब नेशनल लॉकडाउन हुआ था. इसमें विटामिन सी की बिक्री 110 प्रतिशत और मल्टीविटामिन में 93 प्रतिशत बढोत्तरी हुई.

Health, Coronavirus, Covid-19, Covid infection, Corona infection, Women, Vitamins,
यह खास शोध महिलाओं (Women) पर अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ताओं की टीम ने किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


हेल्थ सप्लिमेंट्स की भूमिका

टीम का यह भी कहना है कि अमेरिका में कोविड-19 को लेकर चिंता के दौरान पिछले साल मार्च के पहले सप्ताह में जिंक सप्लिमेंट में 415 प्रतिशत बढ़ोत्तरी हुई. उल्लेखनीय है की हमारे स्वास्थ्य को कायम रखने में हेल्थ सप्लिमेंट्स की अहम भूमिका होती है और सामान्य सर्दी होने के पीछे बी शरीर में माइक्रोन्यूट्रिएंट्स की कमी को इसका जिम्मेदार माना जाता है.

जानिए क्यों चीन अपने नागरिकों को दे रहा है मुफ्त अंडे

सूक्ष्मपोषकों की अहमियत

दुनियाभर के तमाम चिकित्सक हेल्थ सप्लिमेंट्स या कहें सूक्ष्मपोषकों की अहमियत सामान्य बीमारी से लेकर बहुत सारी बीमारियों में रेखांकित करते रहे हैं. यहां तक कि वेगन डाइट लेने वाले लोगों को भी विटामिन बी12 की कमी पूरा करने की सलाह दी जाती है जिससे उनके शरीर में जरूरी तत्वों की पूर्ति हो सके.

कहां से मिले आंकड़े

शोधकर्ताओं को ये आंकड़े हेल्थ साइंस कंपनी जोए (Zoe) के ‘कोविड-19 सिम्प्टम स्टडी एप’ से मिले जो साल 2020 की शुरुआत में लॉन्च किया गया था. इसमें प्रतिभागियों को विटामिन संबंधी बहुत सारे सवालों के जवाब देने को कहा गया था. इसमें प्रोबायोटिक, गार्लिक, मछली का तेल, मल्टिविटामिन, विटामिन डी, विटामिन सी, जिंक आदि से संबंधित सवालों को शामिल किया गया था. इसके साथ ही सभी से यह अनिवार्य रूप से पूछा गया था कि क्या उन्होंने कोविड जांच कराई थी या नहीं और अगर कराई थी तो नतीजा क्या रहा.

, Coronavirus, Covid-19, Covid infection, Corona infection, Women, Vitamins,
फिलहाल कोविड-19 (Covid-19) से बचने के लिए वैक्सीन, मास्क सोशलडिस्टेंसिंग जैसे उपायों पर ही जोर देने की बात की जा रही है. (सांकेतिक फोटो)


लिंग आधार पर आंकड़ों के विश्लेषण ने चौंकाया

इस शोध में अमेरिका, यूके और स्वीडन के 445850 लोगों में भाग लिया और 31 जुलाई 2020 से पहले सवालों के जवाब दिए जिसके आधार पर विश्लेषण किया गया. जब इस अध्ययन के आंकड़ों का लिंग के आधार पर विश्लेषण किया तो पाया गया कि जहां पुरषों में सप्लिमेंट्स को लेकर अंतर नहीं था, वहीं महिलाओं में पाया गया कि ओमेगा-3 फैटी एसिड, प्रोबायटिक, मल्टिविटामिन, या विटामिन डी सप्लिमेंट्स लेने वाली महिलाओं में कोविड संक्रमित होने का जोखिम कम था.

जानिए कैसे अब खून की जांच लाएगी अवासाद के इलाज में क्रांतिकारी बदलाव

शोधकर्ताओं ने चेताया कि यह केवल एक आंकड़ों पर आधारित विश्लेषण है और इसके लिए क्लीनिकल ट्रायल्स की आवश्यकता है जिससे और भी सटीक और सुनिश्चित नतीजे आ सकें. शोधकर्ताओं ने भी फिलहाल तो वैक्सीन, मास्क, स्वच्छता और सोशलडिस्टेंसिंग को ही जोर देने को प्राथमिकता की अनुशंसा की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज