देश के वित्त मंत्री, जिनके नाम है सबसे ज़्यादा बार बजट पेश करने का रिकॉर्ड

कॉंसेप्ट इमेज

कॉंसेप्ट इमेज

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) 2021 में एनडीए सरकार का लगातार आठवां बजट पेश करने जा रही हैं. यह सीतारमण का तीसरा बजट है लेकिन क्या आप जानते हैं कि सबसे ज़्यादा बजट पेश करने की कहानी में किन वित्त मंत्रियों के नाम यादगार रहे हैं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 2, 2021, 1:12 AM IST
  • Share this:
भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सोमवार को संसद में बजट (Budget Presentation) पेश करते हुए तीन बार बजट पेश करने वाली देश की पहली महिला बन गईं. सीतारमण से पहले पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) दो बार बजट पेश करने का कीर्तिमान अपने नाम रख चुकी हैं. लेकिन, सबसे ज़्यादा बार बजट पेश करने का रिकॉर्ड आज भी पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई (Morarji Desai) के ही नाम है, जिन्होंने अपने जीवन काल में 10 बार पूर्ण बजट पेश किया था. भारत के वित्त मंत्रियों की यह लिस्ट बेहद रोचक है, जिसमें सबसे ज़्यादा बार बजट पेश करने वाले चेहरे हैं.

सबसे ज़्यादा बार बजट पेश करने वाले वित्त मंत्रियों के बारे में बात देसाई से ही शुरू की जाए तो 1959 से 1963 के बीच पहली पारी में उन्होंने बजट पेश किए, जब वो नेहरू सरकार में वित्त मंत्री रहे. इसके बाद 1967 से 1969 के बीच उन्होंने दूसरी पारी में बजट पेश किए. देसाई के साथ बजट पेश करने को लेकर एक दिलचस्प बात और जुड़ी हुई है कि उन्होंने दो बार बजट 29 फरवरी को पेश किया, जो उनकी जन्मतिथि भी रही.

ये भी पढ़ें:- क्या होता है ‘ब्लैक बजट’ और किन देशों में कैसे समझा जाता है?

budget 2021, general budget 2021, general budget live, budget 2021 time, बजट 2021, आम बजट 2021, बजट भाषण 2021, आम बजट 2021 लाइव
न्यूज़18 ग्राफिक्स

सबसे ज़्यादा बजट पेश करने वाले वित्त मंत्री

मोरारजी देसाई के बाद इस लिस्ट में अगला नाम पी चिदंबरम का है, जिन्होंने 9 बार बजट पेश किया. 1997 के बजट को तत्कालीन चिदंबरम का ड्रीम बजट माना गया. इस बजट की सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि इसने काले धन के के खिलाफ स्कीम. इस बजट को आर्थिक सुधारों के बजट के तौर पर इसलिए भी याद किया गया क्योंकि यहां से इनकम टैक्स की दरों को घटाने के लिए कदम उठाए गए थे.

Youtube Video




ये भी पढ़ें:- नोबेल की दौड़ में ग्रेटा, नवेलनी, WHO, लेकिन ट्रंप क्यों हुए नॉमिनेट?

साल 2005 का चिदंबरम का ष्आम आदमी बजटष् भी यचादगार रहा था. इस बजट को विश्लेषकों ने ष्असंभव को संभवष् बनाने वाला करार देकर कहा था कि कम्युनिस्टों और बाज़ार को एक साथ खुश करने का कारनामा चिदंबरम ने किया थाण् अगले पायदान पर पूर्व राष्ट्रपति और कांग्रेस के समय में वित्त मंत्री रहे प्रणब मुखर्जी का नाम है, जिन्होंने 8 बार बजट पेश किया.

ये भी पढ़ें:- क्या आपको याद हैं देश के इतिहास के 7 सबसे आइकॉनिक बजट?

यशवंत सिन्हा के साथ डॉ. मनमोहन सिंह ऐसे वित्त मंत्री रहे, जिन्होंने 6 बार देश का बजट पेश किया. 1991 काा यादगार और क्रांतिकारी बजट सिंह ने ही पेश किया था, जिसमें भारत ने वैश्वीकरण की तरफ कदम बढ़ाए थे और उदारवादी अर्थव्यवस्था व खुले बाज़ार का दौर शुरू हुआ था. वहीं भारत का मिलेनियम बजट यशवंत सिन्हा ने पेश किया था. इस बजट को भारत के लिए इसलिए बेहद अहम माना जाता है क्योंकि यहां से भारत का सॉफ्टवेयर और आईटी हब के तौर पर उभरने का सिलसिला शुरू हुआ.

budget 2021, general budget 2021, general budget live, budget 2021 time, बजट 2021, आम बजट 2021, बजट भाषण 2021, आम बजट 2021 लाइव
प्रतीकात्मक तस्वीर


इन नामों के बाद सीडी देशमुख, वाई बी चव्हाण और अरुण जेटली उन वित्त मंत्रियों के नाम हैं, जिन्होंने 5 बार देश का बजट पेश किया. जेब्ली ने अपने बजट में जीएसटी की व्यवस्था दी थी, जो देश के लिए बड़ा आर्थिक बदलाव समझा गया. 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार की दूसरी पारी की शुरूआत के समय स्वास्थ्य कारणों से जब जेटली ने पद नहीं मिलया, तब सीतारमण को वित्त मंत्री का दायित्व मिला था.

मोदी सरकार के लगातार आठवें बजट को इस बार सीतारमण पेश करने जा रही हैं. इस बार का बजट देश के लिए इसलिए भी काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि कोराना वायरस महामारी के चलते अर्थव्यवस्था को भारी झटका लग चुका है और इससे उबरने के लिए बड़े और महत्वपूर्ण कदम अपेक्षित हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज