Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    पहली बार FRB उत्सर्जित करने वाला तारा फिर हुआ सक्रिय, वैज्ञानिकों के पास मौका

    हमारी गैलेक्सी (Galaxy) के मैग्नेटर (Magnetar) से निकली फास्ट रेडियो बर्स्ट (Fast Radio Bursts) तीन बार निकली हैं.
    हमारी गैलेक्सी (Galaxy) के मैग्नेटर (Magnetar) से निकली फास्ट रेडियो बर्स्ट (Fast Radio Bursts) तीन बार निकली हैं.

    एक बार फिर हमारे खगोलविदों को छह महीने के अंदर फास्ट रेडियो बर्स्ट (Fast Radio Bursts) हमारी गैसेक्सी (Galaxy) के ही तारे से मिली हैं. इससे इनके स्रोत मैग्नेटर (Magnetar) के बारे में काफी कुछ पता लगने का मौका है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 24, 2020, 7:05 PM IST
    • Share this:
    इस साल अप्रैल में हमारी गैलेक्सी (Galaxy) मिल्की वे (Milky Way) के अंदर के एक तारे ने फार्स्ट रेडियो बर्स्ट (Fast Radio Bursts) उत्सर्जित की थीं. यह पहली बार था जब पृथ्वी के वैज्ञानिकों ने हमारी गैलेक्सी के अंदरद से आए इस तरह का उत्सर्जन का अवलोकन किया था. इस तरह की घटनाएं बहुत ही कम देखने मिलती हैं. अब यही मैग्नेटर (Magnetar) एक बार फिर सक्रिय हुआ है. इससे वैज्ञानिकों को एक बार फिर से मैग्नेटर द्वारा उत्सर्जित FRB का अध्ययन करने का मौका मिला है. इस अध्ययन से वैज्ञानिक ब्रह्माण्ड की कई प्रक्रियाओं के रहस्य सुलझा सकते हैं.

    कब हुआ ये एफआरबी
    इसी महीने की 8 तारीख को CHIME/FRB ने SGR 1935+2154 को तीन सेंकेंड के अंदर तीन मिली सेकेंड के रेडियो बर्स्ट का उत्सर्जन होते पकड़ा. इसके बाद FAST रेडियो टेलीस्कोप ने एक और घटना देखी. उसने मैग्नेटर की घूमने की गति के संगत एक एक पल्स रेडियो उत्सर्जन भी देखा.

    वैज्ञानिकों में उत्साह
    कनाडा में ब्रिटिश कोलंबिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता देबोरा गुड ने साइंस अलर्ट को बताया, “SGR 1935+2154 को फिर से देखना बहुत अच्छा लगा और मैं आशांवित हूं कि हम इस बर्स्ट का सावधानी से अध्ययन कर सकेंगे. यह हमें मैग्नेटर और एफआरबी के संबंधों को समझने में मदद करेगा.



    पहली बार कब देखा गया
    यह पड़ताल द एस्ट्रोनॉमर्स टेलीग्राम में रिपोर्ट की गई है और उसका विश्लेषण चल रहा है. इससे पहले इसी साल अप्रैल में एफआरबी को पहला बार हमारी गैलेक्सी के अंदर से आते पकड़ा गया था. जबकि सबसे पहले साल 2007 में खगोलविदों ने पहली बार एफआरबी को देखा था. तब से वैज्ञानिक इसके पैदा होने के कारणों को समझने में लगे हैं.

    Science, Space, Galaxy,
    हमारी गैलेक्सी (Galaxy) में पहली बार इस तरह का FRB इसी साल देखा गया था.


    क्या होते हैं एफआरबी
    फार्स्ट रेडियो बर्स्ट बहुत ही शक्तिशाली रेडियो तरंगे होती हैं. इनमें से कुछ तरंगे लाखों करोड़ों सूर्य के बराबर की उर्जा निकालती हैं, और ये केवल कुछ ही मिली सेकेंड में खत्म हो जाती हैं. ज्यादातर एफआरबी इतने कम समय तक एक ही स्रोत से निकलती हैं. इसलिए इनका पूर्वानुमान लगाना बहुत ही मुश्किल है. अब तक ये बहुत ही दूर से आते थे जिसके कारण हमारे टेलीस्कोप अच्छे से नहीं देख पाते थे.

    बेनु क्षुद्रग्रह पर उतरा नासा का ओसाइरस यान, जानिए क्यों उत्साहित है वैज्ञानिक

    SGR 1935+2154 केवल 30 हजार प्रकाश वर्ष दूर है. अप्रैल में आए एफआरबी का नाम खगोलविदों ने FRB 200428 रखा था. यह बहुत शक्तिशाली प्रस्फोट नहीं था खासकर हमारी गैलेक्सी से बाहर से आने वाले प्रस्फोटों की तुलना में, फिर भी यह अध्ययन के लिहाज से काफी है.

    अध्ययन होना बाकी लेकिन
    अभी पकड़े गए एफआरबी के आंकड़ों का वैज्ञानिक अध्ययन कर रहे हैं हो सकता है कि उनके अध्ययन के बाद से कुछ शुरुआती निष्कर्षों में बदलाव आ जाए. फिर भी उनके बारे में यह कहा जा सकता है कि इस बार भी वे कम शक्तिशाली हैं. वैसे तो ये पिछली बार पकड़े गए बर्स्ट से कम चमकदार हैं, वे तब भी बहुत ज्यादा चमकदार बर्स्ट हैं”

    FRB, Galaxy,
    इस साल से पहले तक हमें केवल हमारी गैलेक्सी (Galaxy) के बाहर से आने वाले ही FRB मिलते थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay). (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


    मैग्नेटर्स की जानकारी
    इन तीन बर्स्ट के अध्ययन के बाद, वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि उसके स्रोत मैग्नेटर के बारे में काफी कुछ जानकारी मिल सकेगी. मैग्नेटर काफी अजीब पिंड होते हैं. अब तक खगोलविद केवल 24 ही मैग्नेटर्स की पुष्टि कर सके हैं. ये न्यूट्रॉन तारे के वे प्रकार होते हैं जो मृत तारे का केंद्र सिमट गया होता है, लेकिन तारे का भार इतना ज्यादा नहीं था कि वह ब्लैकहोल में बदल सके, लेकिन उनकी मैग्नेटिक फील्ड बहुत ही अधिक होती है इसी लिए उन्हें नया नाम मैग्नेटर्स दिया गया.

    मिल्की वे के आसपास मिली तारों की ‘Recycled’ गैस, वैज्ञानिक मान रहे इसे अहम

    इन मैग्नेटर्स की मैग्नेटिक फील्ड पृथ्वी की मैग्नेटिक फील्ड से अरबों खरबों गुना शक्तिशाली होती हैं. और वे सामान्य न्यूट्रॉन तारे से बहुत अधिक शक्तिशाली होते हैं. वे ऐसे क्यों और कैसे बनते हैं इस बारे में हमें जानकारी नहीं मिल सकी है. शोधकर्ताओं का इन नए आंकड़ों से काफी उम्मीद है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज