लाइव टीवी

आगरा की वो 5 जगहें जहांं घूमना चाहेगा हर टूरिस्ट

News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 5:30 PM IST
आगरा की वो 5 जगहें जहांं घूमना चाहेगा हर टूरिस्ट
फतेहपुर सीकरी स्थित बुलंद दरवाजा देखने भी बड़ी संख्या में टूरिस्ट आते हैं.

आगरा दुनियाभर में ताज महल (Taj Mahal) के लिए मशहूर है लेकिन उसके अलावा भी जिले में ऐसी इमारतें हैं जो यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज (UNESCO World Heritage) साइट हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 5:30 PM IST
  • Share this:
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) अपने परिवार के साथ आगरा पहुंच गए हैं. यहां वो दुनिया के सात अजूबों में शुमार ताज महल का दीदार करेंगे. आगरा भारत के ऐतिहासिक और सबसे मशहूर शहरों में से एक है. ताज महल की मौजूदगी के कारण इसे वैश्विक पटल पर भी पहचान मिली हुई है. आइए जानते हैं कि आगरा की वो कौन 5 जगहें जहां हर सैलानी जाना चाहता है.

1-ताज महल
कई मगलकालीन विरासतों वाले शहर आगरा के नाम के साथ ताज महल का नाम सबसे पहले जोड़ा जाता है. सात अजूबों में शामिल ताज महल को देखने के लिए आम सैलानियों के अलावा देश और दुनिया की कई बड़ी हस्तियां आती रही हैं. डोनाल्ड ट्रंप से पहले हाल ही में आगरा पहुंचने वाले नामी व्यक्ति थे अमेजॉन के मालिक जेफ बेजॉस. गर्लफ्रेंड के साथ ताज महल के सामने ली गईं उनकी कई तस्वीरें मीडिया में आई थीं.

2-आगरा का किला



आगरा जिले की दूसरी सबसे मशहूर जगह है वहां का किला. ताजमहल से ढाई किलोमीटर की दूरी पर स्थित ये किला यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट है. ये किला लोधी राजवंश से ब्रिटिश अंपायर तक के कब्जे में रहा है. दिल्ली से नजदीक होने के नाते इस किले की रणनीतिक स्थिति काफी महत्वपूर्ण हुआ करती थी. आगरा आने वाले सैलानी इस किले को देखने भी जरूर आते हैं.

3-फतेहपुर सिकरी
आगरा आने वाले सैलानी फतेहपुर सिकरी जाना नहीं भूलते हैं. फतेहपुर सीकरी आगरा जिले का एक ब्लॉक है. फतेहपुर सीकरी स्थित बुलंद दरवाजा, जामा मस्जिद, सलीम चिश्ती की मजार हर सैलानी के लिए उत्सुकता का केंद्र होते हैं.

4-कई राजवंशों के निशान
आगरा ऐसा शहर रहा है जहां पर लोधी, मुगल, मराठों जैसे कई राजवंशों का शासन रहा है. इसी वजह से इस शहर में कई संस्कृतियां साथ दिखाई देती हैं. शहर पर ब्रिटिश शासन का भी प्रभाव है. शहर में एक ऐसा चर्च है जिसे अकबर चर्च के नाम से जाना जाता है. दरअसल अपने शासन काल के दौरान अकबर ने गोवा से एक ईसाई धर्मगुरु को बुलवाया था. अकबर का उद्देश्य ईसाइयत के बारे में ज्यादा जानकारी हासिल करने का था. अकबर ने ही ये चर्च बनवाने के लिए जमीन दी थी. ये एक रोमन कैथोलिक चर्च है. और ईसाइयों की आस्था का केंद्र है.

5-अकबर का मकबरा
अकबर का मकबरा भी आगरा में ऐसी जगह है जहां पर बड़ी संख्या में सैलानी पहुंचते हैं. इसे आगरा के सिकंदरा में जहांगीर ने तैयार करवाया था. दरअसल ये ही वो आखिरी जगह है जहां पर अकबर अपने आखिरी समय में रहे थे.
ये भी पढ़ें:

सोनभद्र के सोने से आएंगे भारतीय अर्थव्यवस्था के अच्छे दिन?
जब अपनी पत्नी कस्तूरबा गांधी की बांह पकड़कर घर से निकालने पर आमादा हो गए थे बापू
CAA पर क्या है अमेरिका का नजरिया, क्या ट्रंप के भारत दौरे पर होगी इसकी चर्चा
बंटवारे में पाकिस्तान के इन मुसलमानों ने हिंदुस्तान को चुना और हुए मशहूर
दुनिया की सबसे बड़ी प्रयोगशाला में क्यों लगी है भगवान शिव की मूर्ति

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 5:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर