लाइव टीवी

पाकिस्तान का वो दामाद, जिसने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया

News18Hindi
Updated: October 23, 2019, 5:34 PM IST
पाकिस्तान का वो दामाद, जिसने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया
रिटायर्ड कैप्टन मोहम्मद सफदर (Mohammad Safdar) हेट स्पीच के कारण जेल की सलाखों के पीछे हैं

आर्मी चीफ और पाकिस्तानी अदालतों (pakistani court) के खिलाफ बोलने के आरोप में जेल पहुंच चुके मोहम्मद सफदर (Mohammad Safdar) पर पहले भी हेट स्पीच (hate speech) के आरोप लगते रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2019, 5:34 PM IST
  • Share this:
पाकिस्तान (Pakistan) के पूर्व पीएम नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) के दामाद रिटायर्ड कैप्टन मोहम्मद सफदर (Mohammad Safdar) हेट स्पीच के कारण जेल की सलाखों के पीछे हैं. पाकिस्तानी सेना पर जहर उगलने वाले सफदर को सोमवार देर रात गिरफ्तार किया गया. सफदर की पत्‍नी मरयम नवाज और ससुर शरीफ पहले ही मनी लॉन्ड्रिंग मामले में National Accountability Bureau (NAB) की हिरासत में है. जानें, कौन हैं तीन बार पीएम रह चुके नवाज के दामाद सफदर.

जनवरी 19, 1964 में ख़ैबर पख़्तूनख़्वा के मनसेहरा जिले में जन्मे मोहम्मद सफदर ने शुरुआती शिक्षा के तुरंत बाद पाकिस्तानी आर्मी जॉइन कर ली. साल 1992 में सफदर को एक युवा कप्तान के बतौर, देश के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के security office के रूप में तैनात किया गया. ये शरीफ के कार्यकाल का पहला दौर था. इसी साल मरियम और सफदर का निकाह हुआ. मरियम शरीफ की पहली बेटी हैं और इस तरह से सफदर उनके पहले दामाद हुए.

शादी के बाद सफदर ने सेना से इस्तीफा दे दिया और सिविल सर्विस से जुड़ गए. उनकी पहली ही तैनाती Lahore Model Town में असिस्टेंट कमिश्नर बतौर हुई. तब स्थानीय मीडिया में ये चर्चा जोरों पर थी कि नवाज से इतने नजदीकी रिश्तों के चलते सफदर को ये पद मिल सका. तभी ये बात भी कही जाने लगी कि सफदर को बैठे-बिठाए ही धरती पर houri (हूर) मिल गई. यहां तक कि एक वक्त पर सेना में कप्तान रह चुके सफदर ने खुद एक्सट्रीमिस्ट राय देते हुए कहा कि पत्नी के रूप में उन्हें जमीन पर हूर मिल गई है. तब इस बात की खूब चर्चा हुई थी.

मरियम शरीफ की पहली बेटी हैं और इस तरह से सफदर उनके पहले दामाद हुए


साल 1999 में परवेज मुर्शरफ ने शरीफ की लोकतान्त्रिक सरकार का तख्ता पलटकर पाकिस्तान की बागडोर संभाली. सत्ता के मिलिट्री टेकओवर के दौरान शरीफ का परिवार खतरे में आ गया. पाकिस्तान की आतंक-विरोधी अदालत ने शरीफ को भ्रष्टाचार के अपराध में दोषी करार दिया. इसका असर बेटी मरियम और सफदर पर भी पड़ा. तब सऊदी अरब ने मध्यस्तता की और सफदर अपने परिवार समेत सऊदी के जेद्दा आ गए.

सत्तापलट से कई बदलाव हुए, जैसे इसी दौरान सिविल सर्विस की तरफ से सफदर के लिए एक नोटिस जारी हुआ, जिसमें Lahore Model Town में ड्यूटी पर उनकी अनुपस्थिति का कारण पूछा गया था. हालांकि सफदर से इसका क्या जवाब दिया, इसका कहीं कोई जिक्र नहीं मिलता है. ज्यादातर मामलों में सफदर और परिवार ने चुप्पी साधे रखी.

वैसे भी भुट्टो से अलग शरीफ का परिवार काफी प्राइवेट माना जाता रहा. लिहाजा उनके परिवार से जुड़ चुके सफदर ने भी उसी कायदे का पालन करते हुए कम ही बयान दिए. सात वर्षों के निर्वासन के बाद इस्लामाबाद वापस लौटे सफदर ने पूरी तरह से राजनीति से जुड़ने का फैसला किया और नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल (एन) का हिस्सा बन गए. जून 2008 से मई 2018 के बीच वे नेशनल असेंबली ऑफ पाकिस्तान के सदस्य भी रहे.
Loading...

शरीफ पनामा पेपर लीक और कई दूसरे मामलों में पहले से ही जेल में हैं


साल 2016 में पता चला कि शरीफ और परिवार, जिसमें सफदर भी शामिल हैं, ने विदेशों में काफी सारी प्रॉपर्टी बनाई हुई है. पाक सुप्रीम कोर्ट ने इसपर जांच के लिए एक टीम का गठन किया. इसी दौरान परिवार की जालसाजी सामने आई. पता चला कि लंदन के एवनफील्ड हाउस में मौजूद आलीशान अपार्टमेंट इस परिवार के नाम है, ये ये अपार्टमेंट नवाज के कार्यकाल के दौरान 1993 में खरीदा गया था.

इसके बाद से लगातार जांचें चल रही हैं. शरीफ पनामा पेपर लीक और कई दूसरे मामलों में पहले से ही जेल में हैं. सफदर की पत्नी जालसाजी के आरोप में अंदर हैं. इसी वक्त सफदर की सेना के खिलाफ बयानबाजी ने उन्हें भी अंदर कर दिया. 13 अक्टूबर को अपने एक भाषण में उन्होंने इमरान सरकार पर आरोप लगाया था कि वह केवल 'सेवा विस्तार' और 'पदोन्नति' को बचाए रखने के लिए काम कर रही हैं. अपनी इस बयानबाजी के चलते वे पाकिस्‍तान दंड संहिता की धारा 124-A के तहत जेल में हैं. इस मामले में दोषी करार दिए जाने पर उम्रकैद भी हो सकती है.

ये भी पढ़ें - 

जानें क्यों चीनी लड़कियों से शादी कर चीन में बसने लगे हैं भारतीय लड़के 

क्यों जीवनभर असहज रहे सरदार पटेल के बड़े भाई विट्ठलभाई से रिश्ते

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 5:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...