#FullProof: कसरत करते-करते क्यों चली जा रही है लोगों की जान?

सवाल ये है कि क्या सोशल मीडिया का ये दावा सही है कि कसरत करते-करते लोगों की जान चली गई?

News18India
Updated: July 16, 2019, 2:16 PM IST
#FullProof: कसरत करते-करते क्यों चली जा रही है लोगों की जान?
Image Credit-unplash
News18India
Updated: July 16, 2019, 2:16 PM IST
कहते हैं फ़िट रहना है तो जिम जाना ज़रूरी है. आजकल मनपसंद बॉडी की चाह में लोग घंटों जिम में पसीना बहाते हैं. लेकिन खुद को चुस्त-दुरुस्त रखने की जिद कहीं जान की दुश्मन ना बन जाए. कुछ इसी तरह के दावे आजकल सोशल मीडिया पर फैल रहे हैं. एक वायरल वीडियो ये भी कहता है कि वजन उठाने से दिल का दौरा पड़ सकता है. आखिर क्या है सच्चाई.

वायरल वीडियो में एक शख्स भारी-भरकम डम्बल उठाने की कोशिश कर रहा है. अगले ही पल उसे दिल का दौरा पड़ता है. फिर जान चली जाती है. कहा जा रहा है ऐसा उसके जिम में एक्सरसाइज करने की वजह से हुआ.



ऐसे में इस वायरल वीडियो से जुड़े कई सवाल उभरते हैं, जिसका जवाब जानने के लिए हमने एक्सपर्ट्स से बात की और जानना चाहा सच.

पहला सवाल : क्या सोशल मीडिया का ये दावा सही है कि कसरत करने की वजह से जान चली गई?
दूसरा सवाल : कसरत करने से शरीर में ऐसी क्या हलचल हुई जो जानलेवा साबित हुई?
तीसरा सवाल : हमें कसरत करते वक़्त किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?
Loading...

एक्सरसाइज़ क्यों बन जाती है जानलेवा?
वायरल वीडियो में कसरत कर रहे लोगों के शरीर में अचानक क्या गड़बड़ हुई, ये जानने के लिए हमने दिल्ली के मैक्स अस्पताल में कार्डियॉलजिस्ट और ऑर्थोपेडिक और मुंबई के बॉम्बे अस्पताल में कंसल्टिंग फ़िज़िशियन से बात की. डॉक्टरों ने बताया कि क्षमता से ज़्यादा की गई एक्सरसाइज़ से दिल और दिमाग की तरफ़ जाते ख़ून के प्रवाह में अचानक बदलाव आता है.

दिल्ली के मैक्स अस्पताल के ऑर्थोपेडिक डॉ. विक्रम महास्कर ने हमें बताया-
एक्सरसाइज़ के दौरान सबसे ज्यादा खून का प्रवाह दिल और दिमाग की  ओर हो जाता है. जब हम एक्सरसाइज़ करते हैं तो ये प्रवाह तेजी से बढ़ता है. कई बार कमजोर दिल अचानक तेजी से बढ़े प्रवाह को सहन नहीं कर पाता . नतीजा हार्ट अटैक की शक्ल में सामने आता है.

एक्सरसाइज़ करते वक्त किन बातों का रखें ध्यान
डॉ. विक्रम महास्कर कहते हैं जिम में एक्सरसाइज़ हमेशा एक्सपर्ट्स की निगरानी में करें. प्रोटीन सप्लीमेंट या किसी भी तरह के सप्लीमेंट के इस्तेमाल से बचें, क्योंकि इससे दिल की आर्टेरीज ब्लॉक हो जाती हैं. हद से ज्यादा शरीर को ना थकाएं. वजन उतना ही उठाने की कोशिश करें जितना आप उठा सकते हैं.

दिल के मरीज का एक्सरसाइज से जान जाने का खतरा ज्यादा
एक रिसर्च के मुताबिक वे लोग जिन्हें एक बार दिल का दौरा पड़ चुका था, उनकी मौत दिल के दौरे से फिर इसलिए हुई, क्योंकि वे क्षमता से ज्यादा एक्सरसाइज कर रहे थे. यूरोपियन हार्ट जर्नल 2013 की स्टडी की मानें तो दिल की धड़कनों के अनियमित होने की एक वजह फैट- बर्निंग एक्सरसाइज भी हो सकती है.

ज्यादा ट्रेडमिल एक्सरसाइज खतरनाक भी हो सकती है


एक स्टडी कहती है कि  ट्रेडमिल पर ज्यादा दौड़ना भी दिल की सेहत के लिए खतरनाक है. इससे दिल की मांसपेशियों में बुनियादी बदलाव आ जाता है, जिसे वैज्ञानिक भाषा में 'कार्डियोटॉक्सिक' कहते हैं. इस तरह का बदलाव भी कई बार अचानक दिल के दौरे के लिए जिम्मेदार हो सकता है.

बरतें ये सावधानियां
अगर आप दिल के मरीज हैं तो एक्सरसाइज करने के दौरान अपने हार्ट रेट को आदर्श मानक से आगे नहीं जाने दें. खुद का आदर्श मानक जानने के लिए अपनी उम्र की संख्या को 220 में घटाकर जान सकते हैं. जैसे मान लीजिए आपकी उम्र 50 है तो तो 220 – 50 =170, यानी आपकी हार्ट रेट का आदर्श मानक सेट 170 है. यानी एक्सरसाइज के दौरान आपको इस बात का खयाल रखना होगा कि कभी आपकी हार्ट रेट 170 से ज्यादा ना हो.

पुशअप वाली एक्सरसाइज के अलावा ऐसी कोई भी एक्सरसाइज, जिसमें हार्ट पर बहुत दबाव पड़ता हो उसे न करें. भारी वजन उठाने वाली एक्सरसाइज तो बिल्कुल ही ना करें.

न्यूज 18 की पड़ताल में वायरल ख़बर सही साबित हुई है. ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ अस्पताल भी पहुंचा सकती है. कसरत करें लेकिन संभलकर.

यह भी पढ़ें- Health Explainer: क्या होता है, जब शरीर से निकल जाए यूट्रस

HIV से भी ज़्यादा तेज़ी से फैल रहा है ये यौन संक्रमण

ज़्यादा पानी पीना भी ठीक नहीं, इस वजह से मौत भी मुमकिन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 16, 2019, 1:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...