लाइव टीवी

गांधी के बेटों ने सरकार से की थी गोड्से की फांसी को माफ करने की गुजारिश

News18Hindi
Updated: January 30, 2020, 12:01 PM IST
गांधी के बेटों ने सरकार से की थी गोड्से की फांसी को माफ करने की गुजारिश
अदालत की कार्यवाही के दौरान नाथूराम गोड्से और आप्टे

गांधी जी के हत्यारों नाथूराम गोडसे और आप्टे को फांसी की सजा दी जा चुकी थी. लेकिन इससे पहले उनकी सजा माफ करने की एक अर्जी केंद्र सरकार के सामने पेश की गई. सजा माफी की ये गुजारिश किसी और ने नहीं बल्कि गांधीजी के बेटों ने की थी

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2020, 12:01 PM IST
  • Share this:
महात्मा गांधी की हत्या के बाद जब विशेष अदालत ने नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को फांसी की सजा सुनाई तो गांधी के दो बेटों ने उनकी फांसी की सजा को माफ करने की गुजारिश प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और उपप्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल से की थी.

इसका रहस्योदघाटन बंगाल के राज्यपाल रहे गोपाल कृष्ण गांधी ने वर्ष 2017 में किया था. ब्रितानी लेखक राबर्ट पेन की बेहद चर्चित पुस्तक "द लाइफ एंड डेथ ऑफ महात्मा गांधी" में भी इसका जिक्र आया है.

लाल किले में लगी विशेष अदालत में गांधी हत्या के आरोप में करीब आठ महीने तक सुनवाई चली. इसके बाद जज आत्मचरण ने 10 फरवरी 1949 को अपना फैसला सुनाया. इस दौरान अदालत के सामने 149 प्रत्यक्षदर्शियों की गवाही हुई. इस मामले में कोई भी गवाह आरोपियों के पक्ष में सामने नहीं आया.

कोर्ट ने क्या सजा सुनाई थी

कोर्ट ने सावरकर को बरी कर दिया, क्योंकि उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं थे. आठ लोगों को हत्या की साजिश रचने का दोषी पाया गया. इसमें नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को फांसी की सजा हुई जबकि शेष छह को आजीवन कारावास.

नाथूराम गोडसे को छोड़कर अन्य सभी ने इस सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील की. 02 मई 1949 को हाईकोर्ट ने उनकी सजा को बहाल रखा.

ये है नारायण आप्टे, जिसे गांधीजी की हत्या की साजिश रचने के लिए अदालत ने दोषी पाया था. उसे भी गोडसे के साथ फांसी दी गई थी
गांधीजी के बेटों ने नेहरू और पटेल से की अपील 
अब ये तय हो गया था कि गोडसे और आप्टे को फांसी की सजा होगी. इसका दिन तय हुआ 08 नवंबर 1949. इसी बीच गांधीजी के दो बेटों मणिलाल और रामदास ने भारत के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल के साथ गर्वनर जनरल सी. राजगोपालाचारी के पास अपील भेजी.

क्या कहा था गांधीजी के बेटों ने 
गांधीजी के दोनों बेटों का कहना था कि गोडसे और आप्टे को फांसी की सजा नहीं दी जानी चाहिए. गांधीजी खुद मृत्युदंड के खिलाफ थे. दोनों को माफ कर दिया जाए. हालांकि गांधीजी के तीसरे बेटे देवदास गांधी ने खुद को इससे दूर रखा जबकि सबसे बड़े हरिलाल का तब तक निधन हो चुका था. हालांकि गांधीजी की हत्या की खबर सुनते ही हरिलाल ने हत्यारों से बदला लेने की कसम खाई थी.

रामदास गांधी ने गांधीजी को मुखाग्नि दी थी. वो गोड्से से जेल में मिले थे और फिर उनका उससे पत्र व्यवहार भी हुआ


एक हफ्ते के लिए रोक दी गई फांसी की सजा
रामदास और देवदास जेल में जाकर गोडसे से मिल चुके थे. रामदास और गोडसे के बीच पत्र व्यवहार भी हुआ था. जब मणिलाल और रामदास की माफी की अपील पहुंची तो 08 नवंबर को मुकर्रर फांसी की सजा रोक दी गई. गोडसे और आप्टे उस समय अंबाला जेल में थे. नेहरू, पटेल और गोपालाचारी ने मंत्रणा की. वो इस मामले में एकराय थे कि इस सजा में माफ करने का सवाल ही नहीं उठता है. लिहाजा गांधीजी के दोनों बेटों की माफी की अपील ठुकरा दी गई.

इसके बाद 15 नवंबर 1949 में अंबाला जेल में ही दोनों को फांसी की सजा दी गई. फांसी के दौरान आप्टे की तुरंत मौत हो गई जबकि गोड्से का निधन होने में करीब 15 मिनट लगे.

मणिलाल गांधीजी के दूसरे नंबर के बेटे थे. वो दक्षिण अफ्रीका में रहे. वहीं उन्होंने गाधीजी के टालस्टाय आश्रम की देखरेख की और एक अखबार भी निकालते रहे


गोपालकृष्ण गांधी ने क्या कहा था
बाद में गोपाल गांधी ने वर्ष 2017 में विपक्ष द्वारा उन्हें उपराष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाए जाने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मैं तो उस सिद्धांत को मानने वाला शख्स हूं, जहां गांधीवादी विचारधारा सबसे ऊपर है. ये विचारधारा मानवता और सहिष्णुता की बात करती है. उनका कहना था कि महात्मा गांधी खुद फांसी की सजा का विरोध करते थे. ये मध्यकाल की क्रूरता के प्रतीक हैं.

ये भी पढ़ें
ऐसा है कोरोना वायरस को फैलाने वाला चीन का शहर वुहान, फंसे हैं इतने भारतीय छात्र
बापू की हत्या पर ऐसे हुई थी कोर्ट में सुनवाई, नाथूराम गोडसे ने खुद लड़ा था केस
कोरोना वायरस से अर्थव्यवस्था पर बुरा असर, क्या भारत भी होगा प्रभावित?
शरजील इमाम ने क्यों छोड़ी थी वामपंथी राजनीति, JNU के मुस्लिम कॉमरेड की आपबीती
कोरोना वायरस : आखिर चीन से ही क्यों फैलती हैं नई-नई महामारियां

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 12:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर