हमशक्ल जुड़वा बच्चे नहीं होते बहुत मिलते जुलते, शोध ने बताया क्यों

हमशक्ल जुड़वा (Identical Twins) में होने वाले जेनेटिक (Genetic) बदलावों को लेकर यह बहुत अहम शोध है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

हमशक्ल जुड़वा (Identical Twins) में होने वाले जेनेटिक (Genetic) बदलावों को लेकर यह बहुत अहम शोध है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

हमशक्ल जुड़वा (Identical Twins) पर हुए शोध से पता चला है कि उनमें अंतर भ्रूण (Embryo) बनने की शुरुआती अवस्था से ही आना शुरू हो जाता है. इस नतीजे ने वैज्ञानिकों को अपनी कई धारणाएं बदलनी होंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2021, 8:10 PM IST
  • Share this:
कहा जाता है कि दो जुड़वा (Identical Twins) बच्चों में कितनी भी समानता क्यों न हो उनमें अंतर भी काफी होता है. ताजा अध्ययन से पता चला है कि जुड़वा बच्चों में अंतर आना भ्रूण (Embryo) के स्तर पर ही शुरू हो जाता है. इस अंतर का कारण केवल परिवेश (Envrioment) ही नहीं होता जेनेटिक (Genetic) स्तर पर भी होता है. हमशक्ल जुड़वा के मामले में यह एक बड़ी खोज मानी जा रही है जिसकी वजह से वैज्ञानिकों अपनी बहुत सी धारणाएं बदलने पर मजबूर होना पड़ा है.

हमशक्ल जुड़वा ही क्यों

जुड़वा बच्चों को लेकर हुए शोध से वैज्ञानिकों को प्रकृति और पालन के बीच के अंतर को स्पष्ट करने मदद मिलेगी. आइडेंटिकल जुड़वा बच्चे मोनोजायगोटिग होते हैं. वे एक निषेचित अंडे के दो हिस्सों में बंटने से बनते हैं. शोध के लिहाज से वे खास तौर पर अध्ययन के विषय होते हैं क्योंकि उनके बारे में माना जाता है कि उनमें बहुत ही कम जेनेटिक अंतर होता है. इसका मतलब यही हुआ कि उनमें जो भी शारीरिक या बर्ताव में अंतर आता है उसका कारण उनका परिवेश ही हो सकता है, ऐसा समझा जाता था.

शोध ने क्या पता लगाया
नेचर जर्नल में प्रकाशित ताजा शोध कहता है कि हमशक्ल जुड़वा में अंतर विकसित होने के मामले में जेनेटिक कारकों की भूमिका को हमेशा ही अनदेखा किया गया है. अमेरिकी फार्मा फ्रम एमजेन की उपसंस्था आइसलैंड के डीकोड जेनेटिक्स के प्रमुख कारी स्टेफन्सोन ने बताया कि किसी बीमारी के विश्लेषण में क्लासिक मॉडल हमशक्ल जुड़वा का उपयोग जेनेटिक और पर्यावरण के प्रभावों के अलग-अलग करने के लिए करता था.

Twins, Identical Twins, Genes, Genetic variation, embryo, nature,
हमशक्ल जुड़वा (Identical Twins) होने के बाद भी जेनेटिक (Genetic) बदलावों की भूमिका दोनों में समान ही हो यह जरूरी नहीं है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


बदलनी होगी ऐसी धारणाएं



स्टेफन्सोन ने इस बारे में  विस्तार से बात करते  हुए बताया, “यदि आप अलग अलग पले बढ़े हमशक्ल जुड़वा को लें और उनमें से एक को ऑटिज्म हो गया हो तो ऐसे में शास्त्रीय विवेचना के मुताबिक इसकी वजह वातावरण होगा. लेकिन यह बहुत ही ज्यादा खतरनाक निष्कर्ष होगा.” उन्होंने कहा कि यह संभावना है कि बीमारी किसी शुरुआती जीन म्यूटेशन की वजह से हुई हो जो किसी एक भाई  (या बहन) में ही हुआ हो और दूसरे भाई (या बहन) में नहीं.

वैक्सीन और हम- आखिर क्यों जरूरी है वैक्सीन के दो डोज के बीच कुछ दिनों का गैप

क्या किया अध्ययन में

स्टेफन्सोन की टीम ने 387 जोड़ो हमशक्ल जुड़वां के साथ उनके माता-पिता, साथी और बच्चों के जीनोम की सीक्वेंसिंग की जिससे जीन म्यूटेशन को ट्रैक किया जा सके. उन्होंने पता लगाया कि भ्रूण वृद्धि के दौरान कौन से म्यूटेशन हुए और पाया कि हमशक्ल जुड़वा में शुरुआती विकास म्यूटेशन (Early developmental mutations) का औसत 5.2 प्रतिशत अंतर आता है. वहीं 15 प्रतिशत जुड़वाओं में भिन्न म्यूटेशन (diverging mutations) की संख्या ज्यादा होती है.

, Health, Twins, Identical Twins, Genes, Genetic variation, embryo, nature, nurture, environment, Genetic vs environment
पहले हमशक्ल जुड़वा (Identical Twins) बच्चों में अंतर के लिए केवल परिवेश (environment) को जिम्मेदार माना जाता था. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


यह भी पाया गया कि

जब म्यूटेशन भ्रूण विकास के पहले कुछ हफ्तों में होता है तो यह दोनों ही कोशिकाओं और उनके बच्चों में भी व्यापक तौर पर होने की उम्मीद की जाती है, लकिन यह जरूरी नहीं है. मिसाल के तौर पर एक जुड़वां जोड़े के अध्ययन में पाया गया कि म्यूटेशन एक के शरीर की सभी कोशिकाओं में पाया गया  जिसका मतलब यह था कि उसमें शुरुआती स्तर पर म्यूटेशन हुआ होगा. लेकिन ऐसा दूसरे जुड़वा में बिलकुल नहीं पाया गया.

दूसरों की स्थिति जानने के लिए हमारा दिमाग भी करता है GPS की तरह काम - शोध

शोधकर्ताओं का कहना है कि ये म्यूटेशन  दिलचस्प हैं क्योंकि वे जुड़वा होने की प्रक्रिया पर शोध करने का एक नया मौका देते हैं. जब जेनेटिक अंतर का पता चल जाएगा तो हमशक्ल या आइडेंटिकल शब्द का भ्रम भी खत्म हो सकता है. स्टेफन्सोन का कहना है कि वे अब आइडेंटिकल ट्विन की जगह मोनो जायगोटिक टिन शब्द का उपयोग करना पसंद करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज