लाइव टीवी

Good News: फ्रांस ने खोजी कोरोना वायरस की दवा, ट्रायल में 6 दिन में मरीज ठीक करने का दावा

News18Hindi
Updated: March 21, 2020, 8:53 PM IST
Good News: फ्रांस ने खोजी कोरोना वायरस की दवा, ट्रायल में 6 दिन में मरीज ठीक करने का दावा
फ्रांस ने कोरोना वायरस संक्रमित लोगों पर नई दवा का सफल परीक्षण कर लिया है.

फ्रांस (France) के इंस्‍टीट्यूट हॉस्पिटलो यूनिवर्सिटी के संक्रमण बीमारियों के विशेषज्ञ रिसर्च प्रोफेसर डिडायर राओ ने दावा किया है कि उन्‍होंने कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के इलाज के लिए नई दवा का सफल परीक्षण कर लिया है. उन्‍होंने दवा के ट्रायल्‍स का एक वीडियो भी शेयर किया है. उन्‍हें फ्रांस की सरकार ने COVID-19 के संभावित इलाज (Treatment) पर काम करने की जिम्‍मेदारी सौंपी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2020, 8:53 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से पूरी दुनिया बेहाल हो चुकी है. अब तक पूरी दुनिया में इस वैश्विक महामारी (Pandemic) से 2,84,712 लोग संक्रमित हो चुके हैं. इनमें 11,842 गंभीर बीमार लोगों की मौत हो चुकी है. भारत (India) में भी अब तक 280 से ज्‍यादा पॉजिटिव मामलों की पुष्टि हुई है, जिनमें 5 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, संक्रमण (Infection) से डरा हुआ हर व्‍यक्ति यही जानना चाहता है कि इसकी कोई दवा (Drug) या वैक्‍सीन (Vaccine) कब तक तैयार हो जाएगी. ऐसे में फ्रांस (France) ने दावा किया है कि उसने इस वायरस की नई दवा खोज ली है. शुरुआती परीक्षण में पता चला है कि इस दवा से 6 दिन के भीतर संक्रमण को गंभीर स्थिति में पहुंचने से रोका जा सकता है.

रिसर्च प्रोफेसर ने ट्रायल्‍स का वीडियो भी किया है शेयर
फ्रांस के इंस्‍टीट्यूट हॉस्पिटलो यूनिवर्सिटी के संक्रमण बीमारियों के विशेषज्ञ रिसर्च प्रोफेसर डिडायर राओ ने दावा किया है कि उन्‍होंने नई दवा का सफल परीक्षण कर लिया है. उन्‍होंने दवा के ट्रायल्‍स का एक वीडियो भी शेयर किया है. उन्‍हें फ्रांस की सरकार ने COVID-19 के संभावित इलाज (Treatment) पर काम करने की जिम्‍मेदारी सौंपी थी. उन्‍होंने पहले संक्रमित व्‍यक्ति के इलाज के लिए क्‍लोरोक्विन (Chloroquine) की डोज दी. इससे उसकी हालत में बहुत तेजी से प्रभावी सुधार हुआ. बता दें कि इस दवा का सामान्‍य तौर पर मलेरिया (Malaria) के बचाव और इलाज में इस्‍तेमाल किया जाता है.

फ्रांस के इंस्‍टीट्यूट हॉस्पिटलो यूनिवर्सिटी के संक्रमण बीमारियों के विशेषज्ञ रिसर्च प्रोफेसर डिडायर राओ ने नई दवा के ट्रायल्‍स का वीडियो भी बनाया है.




रोजाना 600 mcg क्‍लोरोक्विन 10 दिन तक दी गई
प्रोफेसर राओ ने इसके बाद 24 संक्रमित लोगों की सहमति लेकर इस दवा के जरिये इलाज किया. उन्‍हें हर दिन 600 mcg क्‍लोरोक्विन 10 दिन तक दी गई. इस दौरान संक्रमित लोगों में होने वाले बदलावों पर नजर रखी गई. डॉक्‍टरों को डर था कि कहीं ये दवा दूसरी दवाओं के साथ देने पर मरीजों की हालत और गंभीर न कर दे. प्रोफेसर राओ ने बताया कि ये संक्रमित मरीज नीस और एविग्‍नन टाउन से थे, जहां के लोगों को अब तक इलाज नहीं मिल पाया है. इस दौरान हमने पाया कि जिन मरीजों को क्‍लोरोक्विन नहीं दी गई उनकी स्थिति 6 दिन बाद भी गंभर बनी रही. इसके उलट जिन मरीजों को क्‍लोरोक्विन दी गई, उनकी स्थिति में लगातार सुधार हो रहा था. वे 75 फीसदी स्‍वस्‍थ हो चुके थे. इस दवा का चीन भी अपने मरीजों पर परीक्षण कर चुका है. उन्‍होंने बताया कि इसके साथ एचआईवी के इलाज में इस्‍तेमाल होने वाली एंटी-वायरल दवा कैलेट्रा (Kaletra) भी दी गई थी.

अमेरिकी अध्‍ययन में भी क्‍लोरोक्विन को माना प्रभावी
अमेरिका के वैज्ञानिकों ने भी एक नई एकेडमिक स्‍टडी में माना है कि क्‍लोरोक्विन कोरोना वायरस संक्रमित के इलाज में कारगर दवा है. इसमें कहा गया है कि क्‍लोरोक्विन से इलाज करने पर संक्रमित लोगों में बहुत तेजी से सुधार हो रहा है. वे कम समय में अपने घरों को लौट पा रहे हैं. रिसर्च में पता चला है कि क्‍लोरोक्विन कोरोना वायरस के बचाव में भी अच्‍छा काम कर रही है. इस दवा का वायरस पर लैब में भी परीक्षण सफल रहा है. बता दें कि क्‍लोरोक्विन बहुत ही सस्‍ती दवा है, जो आसानी से उपलब्‍ध हो जाती है. मलेरिया के खिलाफ इस दवा का 1945 से इस्‍तेमाल किया जा रहा है.

फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने कहा है कि लोग इस महामारी को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. लोगों को सख्‍ती से लॉकडाउन नियमों का पालन करना चाहिए.


'डॉक्‍टर बेझिझक दे सकते हैं क्‍लोरोक्विन लेने की सलाह'
अमेरिकी शोधकर्ताओं के मुताबिक, आम लोग साफ तौर पर ये समझ लें कि बिना डॉक्‍टर की सलाह के ये दवा नहीं लेनी है. वहीं, डॉक्‍टर बच्‍चों से लेकर बुजुर्गों तक हर उम्र के मरीजों को ये दवा लेने की सलाह दे सकते हैं. प्रेग्‍नेंट महिलाएं भी बिना किसी डर के ये दवा ले सकती हैं. इस दवा का कोई साइड इफेक्‍ट नहीं है. इसलिए इस दवा का मलेरिया, अमोबायोसिस, एचआईवी और ऑटोइम्‍यून डिजीज में काफी समय से इस्‍तेमाल किया जा रहा है. इसी के बाद राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने क्‍लोरोक्विन से इलाज की घोषणा की थी. बता दें कि दुनिया भर में वैज्ञानिक COVID-19 की वैक्‍सीन बनाने की कोशिशों में जुटे हैं. हालांकि, अभी तक न तो किसी देश ने और न ही वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन ने इसके इलाज की आधिकारिक घोषणा की है. फिर भी चीन, दक्षिण कोरिया के बाद अमेरिका ने इस दवा के इस्‍तेमाल की मंजूरी दे दी है.

फ्रांस में घरों में रहने की अवधि 6 हफ्ते बढाएगा फ्रांस
पेरिस के बिचट हॉस्पिटल में संक्रमण रोगों के विभाग के हेड यजदान यजदानपैन ने बताया कि फ्रांस सरकार लोगों के घरों में ही रहने की अवधि को 6 हफ.ते तक बढा सकता है. यजदान कोरोना वायरस पर सरकार की साइंटिफिक काउंसिल के सदस्‍य भी हैं. उनका कहना है कि फ्रांस में लॉकडाउन 10 दिन में खत्‍म नहीं होगा. मुझे लगता है कि इसे लंबा खींचा जाएगा. हालांकि, ये रोज आने वाले नए मामलों की संख्‍या पर निर्भर करेगा. अगर ये संक्रमण घटता है तो भी इसे कम से कम 6 हफ्ते किया जाना चाहिए. वहीं, राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रों (Emmanuel Macron) ने कहा है कि लोग इस महामारी को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि लोग इसे गंभीरता से लें वरना लॉकडाउन के नियमों का सख्‍ती से पालन कराया जाएगा. लोगों को नियमों का पालन करना चाहिए.

ये भी देखें:

Coronavirus: पीएम मोदी ने घंटा, ताली, शंख बजाकर आभार जताने को ही क्‍यों कहा ? जानें वैज्ञानिकता और फायदे

जानें क्‍या एक बार संक्रमण से उबरने के बाद दोबारा हो सकता है Coronavirus

Coronavirus: स्‍पेन में डायनासोर की ड्रेस पहन बाहर क्‍यों निकला शख्‍स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 21, 2020, 7:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर