डेंगू और मलेरिया खत्म करने के लिए ज्यादा मच्छर पैदा कर रहा है गूगल, जानें क्यों

डेंगू और मलेरिया खत्म करने के लिए ज्यादा मच्छर पैदा कर रहा है गूगल, जानें क्यों
डीबग नाम की संस्था मच्छरों के खात्मे के लिए काम कर रही है

इस प्रोजेक्ट के जरिए रिसर्चर्स को मच्छरों की संख्या 95% तक कम करने में सफलता मिली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2019, 12:17 PM IST
  • Share this:
साल भर में मच्छरों के चलते जितने लोगों की मौत होती है, धरती पर मौजूद कुल जानवर भी उतने लोगों को एक साल में नहीं मारते. WHO के अनुसार मच्छरों के चलते हर साल दुनिया में 10 लाख से ज्यादा मौतें होती हैं. मच्छरों के चलते दुनिया में करोड़ों लोगों को मलेरिया, डेंगू, येलो फीवर और चिकुनगुनिया जैसी बीमारियां हो जाती हैं. ये सारी बीमारियां मच्छरों से जुड़ी हुई हैं. ऐसे में मच्छरों को खत्म करने के लिए और ज्यादा मच्छरों को पैदा करने का आइडिया विरोधाभाषी लग सकता है लेकिन ऐसा ही गूगल की एक कंपनी 'अल्फाबेट' कर रही है.

'अल्फाबेट' के जरिए चलाए जाने वाले 'वेरेली' नाम के एक रिसर्च संस्थान ने 2017 में फ्रेस्नो, कैलिफोर्निया में मच्छरों के खात्मे के लिए एक प्रोजेक्ट की शुरुआत की थी. 'डीबग प्रोजेक्ट' नाम के इस प्रोजेक्ट में मच्छरों को कैलिफोर्निया की एक लैब में पैदा किया जाता था. इस दौरान नर मच्छरों में 'वोल्बाशिया' नाम का एक बैक्टीरिया डाला जाता था. यह बैक्टीरिया मादा मच्छरों में बांझपन पैदा कर देता था. जिन मच्छरों में यह बैक्टीरिया डाला गया था, उन्हें एक सीमित क्षेत्र में ही रखा गया. ताकि वे केवल उसी इलाके की मादा मच्छरों से संबंध बना सके. इस प्रक्रिया का लक्ष्य धीरे-धीरे मच्छरों की आबादी को नए मच्छर पैदा करने के लिए असक्षम बनाना था. इस प्रक्रिया को तब तक दोहराया जाना था, जब तक उनकी अगली पीढ़ी पूरी तरह से समाप्त न हो जाए.

यह प्रयोग कितना सफल रहा?
छह महीने तक चली इस प्रक्रिया के दौरान 'डीबग' ने फ्रेस्नो, कैलिफोर्निया में इस बैक्टीरिया से प्रभावित 1.5 करोड़ मच्छरों को छोड़ा. जिससे मादा मच्छरों के काटने में दो-तिहाई की कमी आई है. अभी तक इस प्रोजेक्ट के जरिए यहां पर मच्छरों की संख्या 95% तक कम हो चुकी है.
डीबग ने अपनी वेबसाइट पर इसके विषय में लिखा है, "डीबग की शुरुआत अच्छी हुई है लेकिन अभी बहुत कुछ करना है. हम आगे समुदायों के साथ काम करके उन्हें यह दिखाना चाहते हैं कि अच्छे मच्छरों को छोड़कर 'डीबग' मच्छरों की संख्या और बीमारियों के मामले में सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है." आगे डीबग ने यह भी लिखा कि "इससे हम लाखों लोगों को लंबे वक्त तक स्वस्थ जीवन जीने में मदद कर सकेंगे, ऐसी आशा है."



यह भी पढ़े: इस बॉलीवुड हीरोइन से कराई जा रही थी सचिन की शादी!

नॉलेज की खबरों को सोशल मीडिया पर भी पाने के लिए 'फेसबुक' पेज को लाइक करें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज