Explained: क्यों अमेरिकी राष्ट्रपति Biden ने अपने यहां गन कल्चर को महामारी कह दिया?

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने गुरुवार को देश में बंदूक संस्कृति को महामारी कह दिया (news18 English file photo)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने गुरुवार को देश में बंदूक संस्कृति को महामारी कह दिया (news18 English file photo)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (American president Joe Biden) ने देश में बढ़ते गन कल्चर (gun culture) को महामारी और अंतरराष्ट्रीय शर्मिंदगी कहते हुए एलान कर दिया कि हथियारों पर प्रतिबंध नए सिरे से लागू होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 12:54 PM IST
  • Share this:
हाल ही में ह्यूस्टन में एक तीन साल के बच्चे से दुर्घटनावश गोली चलने पर दुधमुंहे बच्चे की मौत हो गई. इसके पहले से ही अमेरिका में सार्वजनिक स्थानों पर गोलीबारी (gun violence) की घटनाएं आम होती दिख रही हैं. इस बीच राष्ट्रपति जो बाइडन ने नागरिकों को बंदूकों से दूर रहने की अपील करते हुए जल्द से जल्द नया नियम लाने की बात की. साथ ही कानून मंत्रालय को कहा कि वो रेड फ्लैग (Red Flag) कानून लाए ताकि राज्यों को बंदूकों की खरीद-फरोख्त पर सख्ती का अधिकार मिले.

हर वारदात के बाद होती है बहस 

इस देश में आएदिन बंदूकधारी लोग स्कूलों या शॉपिंग प्लेस में गोलाबारी से जान लेते आए हैं. हाल के सालों में ऐसी वारदातें बढ़ी हैं. हर ऐसी वारदात के बाद देश में गन लाइसेंस के नियमों पर बहस होती है लेकिन तब भी यहां लाइसेंस अपेक्षाकृत आसानी से मिल जाता है.

ये भी पढ़ें: वैक्सीन के शुरुआती दौर में ट्रायल से डरते थे लोग, कैदियों को इंजेक्शन देकर हुए प्रयोग 
हर साल जाती हैं लाखों जानें 

यही वजह है कि अमेरिका में हर 100 की आबादी में औसतन 88 के पास बंदूक है. बता दें कि ये स्टडी स्मॉल आर्म्स सर्वे ने साल 2011 में की थी. इसके बाद के एक दशक में अनुमान लगाया जा रहा है कि ये आंकड़ा काफी ऊपर हो चुका होगा. इसी का नतीजा है कि हर साल देश में लगभग 114,994 लोगों की जान किसी न किसी किस्म के गन वायलेंस में जाती है.

joe biden gun violence america
आएदिन बंदूकधारी स्कूलों या शॉपिंग प्लेस में गोलाबारी से जान ले रहे हैं- सांकेतिक फोटो (pixabay)




तो क्या अमेरिका में गन खरीदने की कोई न्यूनतम आयु सीमा नहीं?

गन कंट्रोल एक्ट 1968 (GCA) के मुताबिक यहां राइफल या कोई भी छोटा हथियार खरीदने के लिए कम से कम 18 साल का होना अनिवार्य है. वहीं दूसरे फायरआर्म जैसे हैंडगन खरीदने के लिए 21 साल का होना जरूरी है. कोई राज्य इस आयुसीमा को चाहे तो बढ़ा भी सकता है लेकिन इसे कम नहीं कर सकता.

ये लोग नहीं खरीद सकते हथियार 

बहुत से लोग किसी भी तरह का हथियार वैध तौर पर नहीं खरीद सकते. इनमें ऐसे लोग जो भगोड़े हों, जो किसी भी तरह से सोसायटी के लिए खतरा हों या फिर जो किसी तरह की मानसिक कमजोरी का शिकार हों या जिनकी अवसाद की हिस्ट्री हो, वे हथियार नहीं खरीद सकते. इसके अलावा नशे में लिप्त रह चुके युवाओं को भी हथियार नहीं बेचा जा सकता.

विक्रेता के लिए भी शर्तें 

हथियार बेचने वालों के लिए भी आयु की सीमा है. फेडरल फायरआर्म्स लाइसेंस (FFL) के अनुसार हथियार विक्रेता की उम्र 21 साल से ऊपर होनी चाहिए. बिजनेस चलाने के लिए इनका अलग से स्थान होना चाहिए, जिसका पता स्थानीय कानून लागू करने वाले लोगों जैसे पुलिस के पास होना चाहिए.

joe biden gun violence america
नियम के मुताबिक बहुत से लोग किसी भी तरह का हथियार वैध तौर पर नहीं खरीद सकते- सांकेतिक फोटो (pixabay)


विक्रेता को भी हथियारों की बिक्री का लाइसेंस तभी मिलेगा, जब वो अपनी मानसिक स्थिति संतुलित होने का सर्टिफिकेट देगा. साथ ही अगर विक्रेता किसी भी तरह की आपराधिक गतिविधि से जुड़ा हुआ हो या नशे में लिप्त होने का रिकॉर्ड रहे तो भी उसे लाइसेंस नहीं मिलता.

बैकग्राउंड चेक होता है 

फायरआर्म की खरीदी से पहले खरीदने वाले की पृष्ठभूमि की जांच होती है. गन कंट्रोल एक्स के Brady Handgun Violence Prevention Act of 1993 नियम के मुताबिक ऐसा करना जरूरी है. इस जांच के लिए खुफिया एजेंसी FBI की एक शाखा NICS सक्रिय है. इसके साथ ही राज्य की पुलिस भी अलग से जांच कर सकती है.

इस तरह होती है जांच

अमेरिका की फेडरल प्रणाली (केंद्र) के तहत बंदूक बेचने से पहले लाइसेंस धारी डीलर को आवश्यक तौर पर खरीददार की पृष्ठभूमि की जांच करवाना होता है. यह जांच एफबीआई कर सकती है कि व्यक्ति का कोई आपराधिक रिकॉर्ड तो नहीं है, या कोई मानसिक सेहत से जुड़ी परेशानी या ऐसा कोई और मामला.

joe biden gun violence america
अमेरिका में सबसे बड़ी खामी बैकग्राउंड चेक में बताई जाती है- सांकेतिक फोटो (pixabay)


सबसे बड़ी खामी बैकग्राउंड चेक में कही जाती है

जो व्यक्ति इस बैकग्राउंड चेक को पास नहीं कर पाता, उसे कानूनी तौर पर बंदूक खरीदने का आधिकार नहीं मिल पाता. लेकिन सुनने में यह बैकग्राउंड चेक जितना मुश्किल लगता है, निजी बिक्री ने इसे उतना आसान कर दिया है. निजी बिक्री से यहां मतलब है दुकान पर न जाकर, आप अपने दोस्त या परिवार के किसी सदस्य से सीधे बंदूक खरीद लें. देश में गन संस्कृति के पीछे ये भी एक वजह मानी जा रही है.

ये भी पढ़ें: Explained: क्या NASA का अगला टेलीस्कोप धरती पर तबाही ला सकता है?  

खुले में गन लेकर चलने की भी छूट

ज्यादातर अमेरिकी राज्यों में गन का मालिक अपने साथ हथियार लेकर चल सकता है. हालांकि इसके लिए अलग से परमिट चाहिए होता है. कई राज्यों में गन को छिपाकर कैरी करने का नियम है, जबकि कई राज्य गन के मालिक को छूट देते हैं कि वो खुले में गन कैरी कर सके. न्यू जर्सी जैसे कुछ राज्यों में गन के मालिक को सार्वजनिक स्थानों पर हथियार कैरी करते हुए साथ में अपनी आईडी और हथियार का लाइसेंस रखना भी जरूरी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज