लाइव टीवी

हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019: पूरा होगा बीजेपी का मिशन 75 का सपना?

Vivek Anand | News18Hindi
Updated: September 21, 2019, 1:25 PM IST
हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019: पूरा होगा बीजेपी का मिशन 75 का सपना?
बीजेपी ने इस चुनाव में 75 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है

हरियाणा (Haryana) में विधानसभा चुनाव (Assembly Election) की तारीखों का ऐलान हो चुका है. इस चुनाव में बीजेपी (BJP) ने मिशन 75 का लक्ष्य रखा है. मनोहर लाल खट्टर की अगुआई में क्या बीजेपी ये लक्ष्य हासिल कर पाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2019, 1:25 PM IST
  • Share this:
हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 (Haryana Assembly Election 2019)  की तारीखों का ऐलान हो चुका है. हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा के चुनाव होंगे. 24 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे सामने आएंगे. चुनाव आयोग (Election Commission) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी है. इसके साथ ही हरियाणा में चुनावी बिगुल बज चुका है.

हरियाणा में विधानसभा की कुल 90 सीटें हैं. बीजेपी (BJP) हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) के नेतृत्व में चुनाव में उतरने जा रही है. बीजेपी लगातार दूसरी बार हरियाणा की सत्ता में आने के लिए पूरा जोर लगाने वाली है. बीजेपी ने इसके लिए मिशन 75 का लक्ष्य रखा है.

हालांकि मिशन 75 का लक्ष्य आसान नहीं है. 2014 के चुनाव में बीजेपी ने 90 में से 47 सीटों पर जीत हासिल की थी. बीजेपी पहली बार अपने दम पर इतनी सीटें लेकर आई थी. 2014 के चुनाव में बीजेपी का वोट शेयर 33.20 फीसदी रहा था. इस शानदार जीत के बाद बीजेपी ने मनोहर लाल खट्टर को मुख्यमंत्री के तौर पर चुना था.

कैसे पूरा होगा मिशन 75 का सपना?

47 से बढ़ाकर 75 सीटों के लक्ष्य को हासिल करना आसान नहीं है. 1967 से लेकर 2014 तक के चुनाव में ऐसा सिर्फ एक बार हुआ है, जब किसी एक पार्टी ने 75 का आंकड़ा छुआ हो. 1977 के चुनाव में आपातकाल के विरोध में हरियाणा की जनता ने जनता पार्टी की झोली में 75 सीटें डाल दी थी. वो जबरदस्त कांग्रेस विरोध का लहर था कि ऐसा मुमकिन हो पाया था.

1977 के चुनाव में कांग्रेस को सिर्फ 3 सीटें मिली थीं. जबकि वीएचपी को 5 और निर्दलीय उम्मीदवारों को 5 सीटें मिली थीं. 1977 में ही हरियाणा विधानसभा की सीटें 81 से बढ़कर 90 हुई थीं.

बीजेपी 42 साल बाद एक बार फिर से 75 सीटों का सपना देख रही है. बीजेपी को उम्मीद है कि कांग्रेस, इनेलो और जेजेपी में बिखराव और अंदरुनी गुटबाजी का उसे फायदा मिलेगा. बीजेपी को मुख्यमंत्री के तौर पर मनोहर लाल खट्टर के चेहरे पर भी भरोसा है. पार्टी को लगता है कि मनोहर लाल खट्टर के चेहरे के सामने विपक्ष का कोई चेहरा सामने नजर नहीं है. कांग्रेस ने अब तक अपने मुख्यमंत्री के चेहरे का ऐलान नहीं किया है. कांग्रेस बिना किसी चेहरे के चुनाव में जाने वाली है. बीजेपी को इसका फायदा मिल सकता है.
Loading...

haryana assembly election 2019 election commission announces dates bjp mission 75 congress inld jjp manohar lal khattar
भूपेन्द्र सिंह हुड्डा को चुनाव अभियान की कमान सौंपी गई है


हरियाणा चुनाव के मुद्दे

बीजेपी हरियाणा में राष्ट्रवाद को एक बार फिर से मुद्दा बना सकती है. हरियाणा चुनाव में कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म करने का मुद्दा चुनावों में भुनाया जाएगा. इसके साथ ही हरियाणा में खट्टर की अगुआई में विकास भी एक मुद्दा होगा.

बीजेपी अपनी स्थिति मजबूत करने में लगी है. उसका बूथ स्तर का मैनेजमेंट पहले से ही तगड़ा है. पिछले दिनों बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने हरियाणा का दौरा भी किया है. बीजेपी की मजबूत स्थिति के सामने कांग्रेस का टिक पाना आसान नहीं है. पिछले दिनों बीजेपी ने इनेलो के दस विधायकों को पार्टी में शामिल कर अपनी स्थिति और मजबूत कर चुकी है. इसके साथ ही 4 निर्दलीय और एक बीएसपी से निष्कासित विधायक भी बीजेपी जॉइन कर चुके हैं.

चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ने की फेरबदल

कांग्रेस ने चुनाव से ठीक पहले कुमारी शैलजा पर दांव चला है. कांग्रेस की अंदरुनी गुटबाजी से परेशान शीर्ष नेतृत्व ने अशोक तंवर को हटाकर कुमारी शैलजा को हरियाणा कांग्रेस की कमान सौंपी है. भूपेंद्र सिंह हुड्डा को हरियाणा विधानसभा चुनाव में चुनाव अभियान कमिटी का चेयरमैन बनाया गया है. वो सीएलपी लीडर भी हैं. हरियाणा में अशोक तंवर और हुड्डा के अलग-अलग गुट काम कर रहे थे. कांग्रेस को लगता है कि इस बदलाव से पार्टी के भीतर गुटबाजी में लगाम लगेगी.

haryana assembly election 2019 election commission announces dates bjp mission 75 congress inld jjp manohar lal khattar
कुमारी शैलजा को हरियाणा कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया हैuj


कांग्रेस ने जातीय समीकरण भी साधने की कोशिश की है. कुमारी शैलजा दलित समुदाय से आती है. हरियाणा में दलितों की आबादी करीब 20 फीसदी है. इसके साथ ही करीब 30 फीसदी जाट हैं. कुमारी शैलजा और हुड्डा की जोड़ी को दलितों और जाटों को साधने के लिए लगाया गया है.

इस साल के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए हरियाणा की सभी 10 सीटों पर जीत हासिल की है. 2014 के लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी ने 7 सीटें जीती थीं. बीजेपी पूरे दमखम से चुनाव मैदान में उतरेगी. कांग्रेस का उसके सामने टिक पाना मुश्किल लग रहा है.

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019: 21 अक्टूबर को होगा चुनाव, जानें पूरा समीकरण

पीएम मोदी अमेरिका रवाना, जानें कैसी है Howdy Modi प्रोग्राम की तैयारी

क्यों सुर्खियों में आई 16 साल की ये लड़की, ओबामा-ट्रंप तक इसके सामने फेल

मॉब लिंचिंग पर केंद्र सरकार क्यों नहीं बनाती कड़ा कानून?

क्या महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना फिर अलग होकर लड़ेंगे चुनाव?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 21, 2019, 1:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...