Home /News /knowledge /

38 साल पहले भारत में आज ही के दिन पहली बार रंगीन हुआ था टीवी, 96 साल में कैसे बदला इडियट बॉक्‍स

38 साल पहले भारत में आज ही के दिन पहली बार रंगीन हुआ था टीवी, 96 साल में कैसे बदला इडियट बॉक्‍स

भारत में पहली बार मद्रास से टीवी पर रंगीन प्रसारण 1982 में शुरू हुआ था.

भारत में पहली बार मद्रास से टीवी पर रंगीन प्रसारण 1982 में शुरू हुआ था.

भारत में टीवी की शुरुआत 15 सितंबर, 1959 को हो चुकी थी, लेकिन अप्रैल 1982 को मद्रास से पहली बार रंगीन प्रसारण (Color Broadcast) हुआ. इसके बाद लोगों में इतना क्रेज हुआ कि रंगीन टीवी सेट की दोगुनी कीमत तक देने को तैयार थे. कभी एंटीना ठीक होने के लिए आवाज लगाने से अब आपकी आवाज पर चैनल बदलने वाले टीवी ने करीब 96 साल का सफर पूरा कर लिया है...

अधिक पढ़ें ...
    भारत में 25 अप्रैल 1982 को पहली बार टीवी पर रंगीन प्रसारण (Color Broadcast) शुरू हुआ थाा. इसकी शुरुआत तब के मद्रास और आज के चेन्‍नई से हुई थी. भारत में टेलीविजन (TV) की शुरुआज 15 सितंबर, 1959 में दिल्‍ली से हो चुकी थी, लेकिन रंगीन टीवी ने दूरदर्शन (Doordarshan) का क्रेज बढ़ा दिया था. समृद्ध लोगों के लिए कलर टीवी स्‍टेटस सिंबल बन गया था. भारत ने नवंबर, 1982 में एशियाई खेलों की मेजबानी की और सरकार ने खेलों का रंगीन प्रसारण किया. इसके बाद 1980 के दशक को दूरदर्शन का युग कहा जाता है. इस दौरान हम लोग (1984), बुनियाद (1986-87), रामायण (1987-88) और महाभारत (1988-89) जैसे धारावाहिकों का प्रसारण किया गया. रामायण और महाभारत के प्रसारण के समय गांवों-कस्‍बों से लेकर शहरों तक में अघोषित कर्फ्यू जैसी स्थिति हो जाती थी.

    साल 1965 में शुरू हुआ रोजाना प्रसारण
    बीबीसी ने टीवी के इतिहास में पहली सेवा 1936 में शुरू की थी. इसके दो दशक बाद भारत में यूनेस्को की मदद से टीवी प्रसारण शुरू किया गया. शुरुआत में हफ्ते में दो दिन एक-एक घंटे के लिए कार्यक्रमों का प्रसारण किया जाता था, जिनमें सामुदायिक स्वास्थ्य‍, यातायात, नागरिकों के अधिकार और कर्तव्य जैसे विषय शामिल रहते थे. दूरदर्शन का रोजाना प्रसारण 1965 में शुरू हुआ. दूरदर्शन 1975 तक सिर्फ 7 शहरों में सीमित था. अब भारत की 90 फीसदी से ज्‍यादा आबादी दूरदर्शन के कार्यक्रम देखती है. आज दूरदर्शन 2 राष्ट्रीय और 11 क्षेत्रीय चैनल के साथ कुल 21 चैनल का प्रसारण करता है. यह 1,416 जमीनी ट्रांसमीटर और 66 स्टूडियो के साथ देश का सबसे बड़ा प्रसारणकर्ता है. कृषि दर्शन देश में सबसे लंबा चलने वाला दूरदर्शन का कार्यक्रम है. रंगीन प्रसारण शुरू होने के 6 महीने के भीतर कलर्ड टीवी की डिमांग बढ़ गई और सरकार ने 50 हजार टीवी सेट आयात किए.

    दुनिया का पहला टीवी 1924 में बक्से, कार्ड और पंखे के मोटर से तैयार किया गया था. इसे स्‍कॉटलैंड के जॉन लोगी बेयर्ड ने बनाया था.


    टीवी कर चुका करीब 96 साल का सफर
    टीवी का सफर करीब 96 साल पुराना है. नौ दशक पहले कभी भारी-भरकम डिब्बे के रूप में दिखने वाला इडियट बॉक्स आज हमारे बोलने भर से ही चैनल बदल देता है. साल 1924 में बक्से, कार्ड और पंखे के मोटर से तैयार हुए टीवी से लेकर स्मार्ट टीवी के बदलाव का सफर काफी दिलचस्प है. टेलीविजन के आविष्कारक जॉन लोगी बेयर्ड बचपन में अक्सर बीमार रहने के कारण स्कूल नहीं जा पाते थे. स्कॉटलैंड में 13 अगस्त 1888 को जन्मे बेयर्ड को टेलीफोन से बहुत लगाव था. बेयर्ड सोचते थे कि एक दिन लोग हवा के जरिये तस्वीरें भेज सकेंगे. बेयर्ड ने 1924 में बक्सा, बिस्किट के टिन, सिलाई की सुई, कार्ड और बिजली के पंखे से मोटर का इस्तेमाल कर पहला टेलीविजन बनाया था. टीवी के रिमोट कंट्रोल का आविष्कार 1915 में शिकागो में जन्‍मे यूजीन पॉली ने किया था.

    पहला विज्ञापन अमेरिका में हुआ प्रसारित
    पॉली जेनिथ इलेक्ट्रॉनिक में काम करते थे. 1950 में रिमोट कंट्रोल वाला पहला टीवी बाजार में आया, इसका रिमोट तार के जरिए टीवी सेट से जुड़ा होता था. पूरी तरह से वायरलेस रिमोट कंट्रोल वाले टीवी की शुरुआत 1955 में हुई. दुनिया का पहला विज्ञापन 1 जुलाई, 1941 को अमेरिका में प्रसारित किया गया. यह विज्ञापन घड़ी बनाने वाली कंपनी बुलोवा ने दिया था. इसे एक बेसबॉल मैच के पहले डब्ल्यूएनबीटी चैनल पर प्रसारित किया गया था. महज 10 सेकंड के इस विज्ञापन के लिए घड़ी कंपनी ने 9 डॉलर का भुगतान किया था. इसे विज्ञापन में बुलोवा कंपनी की घड़ी को अमेरिका के मैप के साथ रखकर दिखाया गया था. मैप पर रखी इस दीवार घड़ी की तस्वीर के साथ कंपनी का स्लोगन अमेरिका रन्स फॉर बुलोवा टाइम की आवाज दी गई थी.

    टीवी के रिमोट कंट्रोल का आविष्कार 1915 में शिकागो में जन्‍मे यूजीन पॉली ने 1950 में किया था.


    पहला कलर टीवी था काफी महंगा
    पहला कलर्ड टीवी सेट मार्च 1954 में वेस्टिंगहाउस ने बनाया. कीमत करीब 6,200 रुपये होने के कारण यह आम लोगों की पहुंच से बाहर था. कुछ समय बाद अमेरिकन इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी आरसीए ने कलर टीवी CT-100 पेश किया. इसकी कीमत करीब 5 हजार रुपये थी. कंपनी ने इसके 4 हजार यूनिट तैयार किए थे. इसके बाद अमेरिकन कंपनी जनरल इलेक्ट्रॉनिक्स ने अपना 15 इंच का कलर टीवी पेश किया, जिसकी कीमत करीब 5 हजार रुपये रखी गई थी. इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग के छात्र बी. शिवाकुमारन ने चेन्नई में एक प्रदर्शनी में पहली बार टीवी पेश किया था. यह एक कैथोड-रे ट्यूब वाला टीवी था. हालांकि, इससे जरिये ब्रॉडकास्ट नहीं किया गया, लेकिन इसे भारत के पहले टीवी के तौर पर पहचान मिली.

    ये भी देखें:

    समुद्र यात्रा पर निकला ये कपल 25 दिन तक कोरोना वायरस से दुनिया में मची तबाही से रहा अनजान

    क्‍या कोरोना वायरस संकट के बीच अर्थव्‍यवस्‍था को संभालने के लिए नए करेंसी नोट छापेगा आरबीआई?

    इस स्‍मार्ट गैजेट से कोरोना को मात देने की तैयारी में है सरकार, ऐसे करेगा काम

    'गाय' के बिना संभव नहीं होगा कोरोना वायरस का खात्‍मा! जानें इसकी वजह

    Tags: Asia, Chennai, Delhi, Doordarshan, India, Television, World news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर