• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • आज ही के दिन हुआ था गुरु नानक देव, अर्जन देव और चित्रकार लियोनार्डो दा विंची का जन्‍म

आज ही के दिन हुआ था गुरु नानक देव, अर्जन देव और चित्रकार लियोनार्डो दा विंची का जन्‍म

सिख धर्म के संस्‍थापक गुरु नानक देव का पंंजाब के ननकाना साहिब और मशहूर चित्रकार लियोनार्डो दा विंची का इटली में आज ही के दिन जन्‍म हुुआ था.

सिख धर्म के संस्‍थापक गुरु नानक देव का पंंजाब के ननकाना साहिब और मशहूर चित्रकार लियोनार्डो दा विंची का इटली में आज ही के दिन जन्‍म हुुआ था.

Today's History: देश के छह गैर-सरकारी बैंक 15 अप्रैल 1980 को राष्ट्रीयकृत किए गए थे. वहीं, आज ही के दिन 1948 में हिमाचल प्रदेश राज्य की स्थापना हुई थी. आइए जानते हैं कि आज के दिन देश-दुनिया में कौन-कौन सी घटनाएं हुई थीं जो इतिहास में दर्ज हो गईं...

  • Share this:
    सिख धर्म के संस्‍थापक गुरु नानक देव (Guru Nanak Dev) का जन्‍म आज ही के दिन यानी 15 अप्रैल 1469 को पंजाब के ननकाना साहिब में हुआ था. हालांकि, उनकी प्रचलित जन्‍मतिथि कार्तिक पूर्णिमा ही है, जो अक्टूबर-नवंबर में दीवाली के 15 दिन बाद पड़ती है. उन्होंने धार्मिक सौहार्द्र को सबसे अहम बताते हुए सिख धर्म की नींव रखी. उन्होंने सनातन धर्म में प्रचलित मूर्तिपूजा के उलट एक परमात्मा की उपासना का मार्ग बताया. उन्होंने हिंदू धर्म मे फैली कुरीतिओं का हमेशा विरोध किया. साथ ही तत्कालीन राजनीतिक, धार्मिक और सामाजिक हालात पर भी नजर रखी. वह ऐसे संतों की श्रेणी में हैं, जिन्होंने नारी को पुरुषों से ऊपर दर्जा दिया. गुरु नानक देव के अलावा 15 अप्रैल 1563 में सिखों के पांचवें गुरु अर्जन देव का जन्म भी हुआ था. वहीं, आज ही के दिन (Today's History) 1452 को इटली के महान चित्रकार लियोनार्डो दा विंची (Leonardo da Vinci) का जन्म भी हुआ था.

    मिखाइल गोर्बाचोव सोवियत संघ के पहले और आखिरी राष्‍ट्रपति बने
    फ्रांस (France) में 15 अप्रैल 2004 को एक कानून को मंजूरी दी गई, जिसके तहत स्कूलों में किसी भी तरह के धार्मिक चिह्न के इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई. यह कानून 2 सितंबर, 2004 से लागू हुआ. इसमें मुस्लिम लड़कियों के हिजाब, सिख बच्चों की पगड़ी, ईसाई बच्चों के क्रॉस पहनने पर रोक लगा दी गई. भारत (India) ने 15 अप्रैल 1976 को पहली बार बीजिंग में अपना दूत भेजने की घोषणा की थी. वहीं, 15 अप्रैल 1990 को मिखाइल गोर्बाचोव सोवियत संघ (Soviet Union) के पहले और अंतिम राष्ट्रपति बने. दरअसल, सोवियत संघ में राष्ट्रपति का पद 15 मार्च 1990 को ही सृजित किया गया था. साल 2010 में इसी दिन भारत में बने पहले क्रायोजेनिक रॉकेट जीएसएलवी-डी3 का प्रक्षेपण नाकाम हो गया था. आइए जानते हैं 15 अप्रैल को दुनियाभर में हुई अहम घटनाएं...

    डाइबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए इंन्सुलिन 15 अप्रैल 1923 को बाजार में उपलब्ध हुआ था.


    1817- अमेरिका में बधिर बच्चों के लिए पहला स्कूल खोला गया था.

    1895- बाल गंगाधर तिलक ने रायगढ़ किले में शिवाजी उत्सव का उद्घाटन किया था.

    1948- हिमाचल प्रदेश राज्य की स्थापना आज ही के दिन हुई थी.

    1980- छह गैर-सरकारी बैंक राष्ट्रीयकृत किए गए. इससे पहले भी कुछ बैंक इसी तरह राष्ट्रीयकृत हुए थे.

    1981- पाकिस्तान एयरवेज के अगवा किए गए बोइंग-720 विमान को दो हफ्ते की कोशिशों के बाद सीरिया में छुड़ा लिया गया. इस हवाई जहाज और इसमें सवार 147 लोगों को छुड़ाने के लिए पाकिस्तान सरकार को जेल में बंद 54 लोगों को छोड़ना पड़ा.

    1985- हैजा के जीवाणु पर शोध कार्य करने वाले भारतीय वैज्ञानिक शंभुनाथ डे का निधन.

    1998- थम्पी गुरु के नाम से प्रसिद्ध फ़्रेडरिक लेंज का निधन आज ही के दिन हुआ था.

    2003- ब्रिटेन में आयरिश रिपब्लिकन आर्मी ने हथियार डालने का निर्णय लिया था.

    राजीव गांधी हत्याकांड से जुड़े लिट्टे उग्रवादी वी. मुरलीधरन की 15 अप्रैल 2004 को कोलंबो में हत्या की दी गई.


    2006- इंटरपोल ने जकार्ता सम्मेलन में एंटी करप्शन एकेडमी के गठन का प्रस्ताव सुझाया गया था.

    2012- पाकिस्तान की एक जेल पर हुए हमले के बाद 400 आतंकवादी फरार हो गए थे.

    2013- इराक में हुए बम विस्फोट में 35 लोगों की मौत हो गई थी.

    15 अप्रैल को जन्मे व्यक्ति

    1865- खड़ी बोली के पहले कवि अयोध्यासिंह उपाध्याय का जन्म हुआ.
    1940- भारत के प्रसिद्ध सारंगी वादक और शास्त्रीय गायक सुल्तान खान का जन्म.
    1972- बालीवुड अभिनेत्री, क्रिकेट कमेंटेटर मंदिरा बेदी का जन्म.

    ये भी देखें:

    Coronavirus: जानें चीन ने रूस से आने वाले अपने नागरिकों की सूचना देने पर क्‍यों रखा इनाम?

    जानें किस देश में कोरोना वायरस के बीच हो रहे हैं चुनाव, कैसे कराया जा रहा है मतदान

    कौन था कोरोना वायरस का पहला मरीज, क्‍यों जरूरी होता है 'पेशेंट जीरो' की पहचान होना

    अगर अमेरिका नहीं रोकता तो 4 साल पहले ही बन चुकी होती कोराना वायरस की वैक्‍सीन

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज