होम /न्यूज /नॉलेज /नॉलेज : कैलोरी क्या होती है, हमें एक दिन के खाने में कितनी कैलोरी की जरूरत पड़ती है

नॉलेज : कैलोरी क्या होती है, हमें एक दिन के खाने में कितनी कैलोरी की जरूरत पड़ती है

हम जो रोजाना खुराक लेते हैं, उसकी एक कैलोरी तय है. अगर उतना खाना खाएंगे तो स्वस्थ रहेंगे.

हम जो रोजाना खुराक लेते हैं, उसकी एक कैलोरी तय है. अगर उतना खाना खाएंगे तो स्वस्थ रहेंगे.

हमारे हेल्दी खाने का कैलोरी से गहरा रिश्ता होता है. हम जो कुछ भी खाते हैं, उसकी एक तय कैलोरी होती है. बच्चे से लेकर व् ...अधिक पढ़ें

    कैलोरी ऊष्मा या ताप को मापने की इकाई है. एक ग्राम पानी का तापमान एक डिग्री सेल्सियस बढ़ाने के लिए जितनी ऊष्मा की आवश्यकता होती है , उसे एक कैलोरी कहते हैं. इसे ग्राम कैलोरी भी कहते हैं.

    ऊष्मा को मापने के लिए हम एक बड़ी इकाई का भी प्रयोग करते हैं , इसे किलो कैलोरी कहते हैं. यह ग्राम कैलोरी से एक हजार गुना अधिक होती है पाचन क्रिया में खाने के पदार्थों से पैदा होने वाली ऊष्मा को किलो कैलोरी में ही मापा जाता है.

    हम जो भी भोजन करते हैं , पाचन क्रिया द्वारा उससे ऊष्मा ऊर्जा पैदा होती है. उदाहरण के लिए एक ग्राम प्रोटीन के पचने से चार कैलोरी और एक ग्राम वसा ( Fat ) से नौ कैलोरी ऊष्मा पैदा होती है. हर व्यक्ति की ऊष्मा की आवश्यकताएं अलग – अलग होती हैं. ये जरूरतें उसके शरीर के आकार और काम के अनुसार बदलती रहती हैं.

    किसको रोज कितने कैलोरी की जरूरत
    औसतन एक आम व्यक्ति को रोज के खाने के जरिए 2100-2200 के आसपास कैलोरी की जरूरत होती है. माना जाता है कि गांव में रहने वाले लोग ज्यादा मेहनत करते हैं या उनकी शारीरिक सक्रियता ज्यादा होती है, लिहाजा उनके खाने की कैलोरी में थोड़ा फर्क है. एक शहरी की औसत खुराक 2169 कैलोरी होनी चाहिए तो ग्रामीण क्षेत्र में 2214 कैलोरी.

    News18 Hindi

    औसतन एक आम व्यक्ति को रोज के खाने के जरिए 2100-2200 के आसपास कैलोरी की जरूरत होती है. माना जाता है कि गांव में रहने वाले लोग ज्यादा मेहनत करते हैं या उनकी शारीरिक सक्रियता ज्यादा होती है, लिहाजा उनके खाने की कैलोरी में थोड़ा फर्क है.
    बहुत छोटे बच्चे को 500 कैलोरी, आठ साल के बच्चे को 1000 कैलोरी , जवान औरत को 1300 कैलोरी और जवान लड़के को 1500 कैलोरी ऊष्मा की जरूरत होती है. 06 घंटे शारीरिक काम करने वाले व्यक्ति की आवश्यकता बढ़कर 2700 कैलोरी हो जाती है.

    वजन ज्यादा होने का मतलब क्या होता है
    जब किसी आदमी का वज़न सामान्य से अधिक होना शुरू होता है , तो इसका मतलब है कि वह जरूरत से ज्यादा कैलोरी ले रहा है. यही अतिरिक्त ऊष्मा मोटापे के रूप में जमा हो रही है. ऊष्मा हमें लगभग सभी प्रकार के भोजनों से मिलती है.

    किससे कितनी कैलोरी
    अलग – अलग पदार्थों से पैदा होने वाली ऊष्मा की मात्राएं अलग – अलग होती हैं.
    – 100 ग्राम गेहूं से 348 कैलोरी
    – 100 ग्राम मछली से 300 कैलोरी
    – 100 ग्राम आलू से 83 कैलोरी
    – 100 ग्राम चीनी से 394 कैलोरी
    – 100 ग्राम मक्खन से 793 कैलोरी
    – 100 ग्राम अण्डे से 155 कैलोरी

    News18 Hindi

    हर सब्जी से लेकर खाने के हर आइटम की कैलोरी की मात्रा अलग होती है. हमें इस हिसाब से खाना चाहिए कि हम तय मात्रा की खुराक ही भोजन औऱ नाश्ते में लें.

    गेहूं की चपाती में घी लगा दें तो
    हर घर में अलग-अलग आकार प्रकार की रोटी बनती है. गेहूं के 100 ग्राम आटे में 380 कैलोरी होती है. 25 ग्राम आटे की रोटी में 95 कैलोरी होती है. यदि आप गेहूं की रोटी पर 3 ग्राम घी लगाते हैं तो 36 कैलोरी बढ़ जाएगी. रोटी में 95 + घी में 36 कैलोरी = 131 कैलोरी मिलती है.एक बाजरे की रोटी में 119 कैलोरी होती है. बेसन की रोटी को पोषण की पावर डोज भी माना जाता है। एक बेसन की रोटी में 150 कैलोरी होती है.

    एक गिलास दूध में कितनी कैलोरी
    एक गिलास गाय के दूध में 167.8 कैलोरी होती है. 1 कप लो कैलोरी वाले दूध में 86 कैलोरी होती है. दूध या कोई अन्य डेयरी उत्पाद को पीने में कोई समस्या नहीं है, लेकिन इसमें लो-कैलोरी होना चाहिए.
    गाय का दूध – 167.8 कैलोरी
    कोकोनट मिल्क – 1032 कैलोरी
    सोयामिल्क -109.4 कैलोरी
    बादाम दूध – 196.1 कैलोरी
    मिल्कशेक, थिक चॉकलेट (1 कंटेनर) – 357 कैलोरी
    भैंस का दूध – 285.5 कैलोरी
    फिल्टर कॉफी दूध के साथ – 88.2 कैलोरी
    टोन्ड मिल्क – 150 कैलोरी
    बॉर्नविटा के साथ दूध – 212.3 कैलोरी
    डबल टोन्ड मिल्क – 114 कैलोरी
    स्किम्ड मिल्क – 71.1 कैलोरी

    सब्जियों से कितनी कैलोरी
    – 100 ग्राम लौकी 11 कैलोरी
    – 100 ग्राम प्याज 16 कैलोरी
    – 100 ग्राम पालक 24 कैलोरी
    – 100 ग्राम टमाटर 21 कैलोरी
    – 100 ग्राम फ्रेंच बीन 44 कैलोरी

    कैसे पता लगती माप
    किसी पदार्थ का कैलोरी मान यानी उससे पैदा होने वाली ऊष्मा को ज्ञात करने के लिए एक ग्राम पदार्थ को जलाया जाता है. जलने पर उससे पैदा होने वाली ऊष्मा को कैलोरीमीटर नामक यंत्र द्वारा माप लिया जाता है. यही ऊष्मा उस पदार्थ का कैलोरीमान बताती है.

    कम कैलोरी लेने से क्या होगा
    जैसे 12 ग्राम कोयले को जलाने से 94 कैलोरी ऊष्मा पैदा होती है. यदि कोई व्यक्ति ऐसा भोजन लेता है, जिससे उसकी कैलोरी की जरूरत पूरी नहीं होगी तो तो उसका वजन कम होता जाएगा. अधिक कैलोरी लेने पर उसे मोटापा आना शुरू हो जाएगा. इसलिए स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए संतुलित भोजन करना बहुत जरूरी है.

    Tags: Food, Food diet, Healthy Diet, Healthy food

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें