आखिर फर्राटेदार अंग्रेजी कैसे बोलने लगते हैं छोटे शहर-कस्बों से आने वाले क्रिकेटर

ज्यादातर भारतीय क्रिकेटर जब टीम में आते हैं तो उनमें से कई अंग्रेजी नहीं बोल पाते लेकिन उन्हें धाराप्रवाह इंग्लिश सीखते देर नहीं लगती

Sanjay Srivastava | News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 11:24 AM IST
आखिर फर्राटेदार अंग्रेजी कैसे बोलने लगते हैं छोटे शहर-कस्बों से आने वाले क्रिकेटर
विराट कोहली (तस्वीर-इंस्टाग्राम)
Sanjay Srivastava | News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 11:24 AM IST
आजकल भारतीय क्रिकेट टीम में आधे से ज्यादा खिलाड़ी छोटे कस्बों या शहरों और मामूली बैकग्राउंड से आते हैं. वो आमतौर पर ऐसे घरों के होते हैं जिसमें अंग्रेजी बोलने का सवाल ही नहीं उठता. अंग्रेजी बोलना उनकी सबसे बड़ी कमजोरी होती है लेकिन भारतीय टीम में आते ही वो फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने लगते हैं. आखिर ऐसा कैसे हो जाता है.

मौजूदा टीम इंडिया में चाहे विराट कोहली हों या फिर चेतेश्वर पुजारा, या फिर मोहम्मद सामी या पृथ्वी शॉ...ये सभी खिलाड़ी अब जब प्रेस से रू-ब-रू होते हैं तो फर्राटे से अंग्रेजी में मीडिया के सवालों के जवाब देते हैं.

कौन चलाता है 'सनातन संस्था', जिसे ATS ने बताया आतंकी संगठन

मैचों के दौरान जब कमेंटेटर्स उनके रिएक्शंस लेते हैं तो बगैर झिझक इस तरह अंग्रेजी में धाराप्रवाह बोलते हैं कि किसी को अंदाज भी नहीं होता कि करियर के शुरुआत में वो इस भाषा में बहुत तंग थे. अंग्रेजी बोलने में उन्हें झिझक होती थी.

जब कपिलदेव टीम में आए थे
कपिल देव जब भारतीय क्रिकेट टीम में आए थे तो उन्हें लंबे समय तक इंटरनेशनल दौरों में मीडिया से बात करने के दौरान अंग्रेजी की झिझक का सामना करना पड़ा. फिर उन्होंने इसके लिए बकायदा एक प्राइवेट ट्यूटर लगाया था.

ढाई तीन दशक पहले तक छोटे शहरों या मामूली बैकग्राउंड से नेशनल टीम में आने क्रिकेटरों के लिए अंग्रेजी भाषा बड़ा हौवा थी. उन्हें सबसे बड़ा डर यही लगता था कि वो प्रेस कांफ्रेंस का सामना कैसे करेंगे. लेकिन अब ऐसा नहीं होता.
Loading...

bcci, womens vomplaint committie, katrina kripalani, resignation, बीसीसीआई, महिला शिकायत प्रकोष्ठ, कटरीना कृपलानी, इस्तीफा
प्रतीकात्मक तस्वीर


उमेश यादव और हार्दिक पांड्या नहीं बोल पाते थे इंग्लिश 
उमेश यादव और हार्दिक पांड्या जैसे क्रिकेटर जब टीम इंडिया में सेलेक्ट किए गए, तो उन्हें इंग्लिश से इस कदर डर लगता था कि वो प्रेस कॉन्फ्रेंस और रिपोर्टरों से बात करने से कन्नी काटते थे कि कहीं उनसे अंग्रेजी में सवाल ना पूछ लिया जाए.

ये अंग्रेज़ महिला अंबेडकर पर रीझी और पीछे-पीछे चली आई इंडिया

ये दोनों क्रिकेटर दसवीं भी पास नहीं हैं लेकिन अब वही जब वे फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं तो हैरानी होती है कि एेसा कैसे हो गया. इसके पीछे आखिर क्या चमत्कार है.

केवल यही नहीं आमतौर पर टीम इंडिया में कम ही क्रिकेटर होंगे, जो ग्रेजुएट भी हों. ज्यादातर अपनी पढ़ाई हाईस्कूल या इंटर करते हुए बीच में ही छोड़ देते हैं.

बीसीसीआई सिखाता है इंग्लिश लेंग्वेज
दरअसल भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) पिछले कुछ सालों से इस पहलू पर खास ध्यान देता रहा है. वो ऐसे सभी क्रिकेटरों के पर्सनालिटी डेवलपमेंट और इंग्लिश स्पिकिंग के सेशन आयोजित करता है. उन्हें इसके लिए दौरों में भी कोच उपलब्ध कराए जाते हैं. साथ ही फोन के जरिए भी इंग्लिश स्पीकिंग सुधारने में मदद की जाती है.

emerging nations cup, india pakistan cricket, indian cricket team, sri lanka cricket, cricket news
बीसीसीआई इस बात पर खास ध्यान देता है कि टीम इंडिया में सेलेक्ट होने वाले क्रिकेटर अच्छी अंग्रेजी बोल सकें


बीसीसीआई का खास ध्यान
बीसीसीआई खास ध्यान देता है कि टीम इंडिया में जिन क्रिकेटरों का चयन किया जा रहा है वो न केवल तरीके से अंग्रेजी बोल सकें बल्कि उनका पर्सनालिटी डेवलपमेंट भी हो.

बीसीसीआई मानता है कि भारतीय क्रिकेटरों को मीडिया ब्रीफिंग के अलावा विदेशी दौरों में लोगों से मिलना जुलना होता है, कई तरह के समारोहों में हिस्सा लेना होता है, लिहाजा अंग्रेजी भाषा की प्रवीणता उसकी पर्सनालिटी और आत्मविश्वास को और बेहतर करेगी.

ये टेस्ट 10 मिनट में बता देगा कि कैंसर है या नहीं

एमएस धोनी को इस सीज़न की सबसे इनोवेटिव थिंकिंग के लिए पुरस्कार से नवाज़ा गया. (BCCI)
एमएस धोनी जब शुरू में टीम में आए तो उन्हें भी अंग्रेजी बोलने में समस्या होती थी लेकिन जल्दी ही उन्होंने इसे दूर कर लिया


धोनी भी नहीं बोल पाते थे अंग्रेजी
महेंद्र सिंह धोनी जब शुरुआत में टीम में आए तो उनके साथ भी यही समस्या थी लेकिन फिर उन्होंने साथी खिलाड़ियों के जरिए अपनी इंग्लिश को सुधारा.

अब भारत में भी इलाज कर रहे रोबोट डॉक्टर, जानें कैसे

वीरेंद्र सहवाग और प्रवीण कुमार जैसे क्रिकेटर तो लंबे समय तक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही जाने से बचते थे और अगर जवाब देते भी थे तो हिन्दी में देते थे और बीसीसीआई का इंटरप्रेटर या मैनेजर उन्हें बताता था कि सवाल में क्या पूछा गया है. प्रवीण कुमार तो अक्सर राहुल द्रविड़ को खुद के बदले आगे कर देते थे.

अंपायरों को भी अंग्रेजी सिखाता है बीसीसीआई
बीसीसीआई केवल क्रिकेटरों ही नहीं बल्कि भारतीय अंपायरों के लिए भी पिछले कुछ सालों से इंग्लिश लेंग्वेज प्रोग्राम शुरू किया है ताकि अंग्रेजी भाषा में उनकी बातचीत का स्तर सुधर सके, वो इंटरनेशनल प्लेयर्स से इंटरेक्ट कर सकें. पहली बार अंपायरों के लिए बीसीसीआई ने वर्ष 2015 में ऐसा कोर्स शुरू किया था.

क्या है उस कोर्स में
अंपायरों को इंग्लिश सिखाने के लिए बीसीसीआई ने जो कोर्स शुरू किया था, वो पांच दिन का था, इसमें अंपायरों को कई बैचों में बांटा गया था. इस कोर्स को बीसीसीआई ने इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल के साथ ब्रिटिश काउंसिल की मदद से तैयार किया था.

जानें कैसी है लक्ष्मी मित्तल की शानदार सुपर याट
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर